गुलाम नबी आजाद के बयान पर संबित पात्रा का पलटवार, बोले यह हिंदूओ का अपमान

bjp sambit patra
गुलाम नबी आजाद के बयान पर संबित पात्रा का पलटवार, बोले यह हिंदूओ का अपमान

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाज के बयान पर विवाद बढ़ता जा रहा है। उन पर पलटवार करते हुए भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि ये हिंदूओ का अपमान है। पात्रा ने अपने बयान में कहा कि गुलाम नबी आजाद ये बोलकर हिंदूओं को नीचा दिखाने का प्रयास कर रहे है, जो कि निंदनीय है।

Bjp Spokeperson Sambit Patras Counterattack On Statement Of Ghulam Nabi Azad :

बता दें कि गुलाम नबी आजाद ने बुधवार को अपने एक बयान में कहा था कि कांग्रेस के हिंदू उम्मीदवार अब उन्हें चुनाव प्रचार के लिए नहीं बुलाते हैं। उन्होंने कहा कि पिछले चाल साल में देखा गया है कि अब लोग उन्हें बुलाने से डरते हैं। आजाद ने लखनऊ में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के संस्थापक सर सैयद अहमद खान की 201वीं जयंती पूर्व छात्रों के संबोधित करते हुए कहा कि उन्होंने अंडमान से लेकर लक्षद्वीप तक चुनाव प्रचार किया है। चुनाव-प्रचार के लिए बुलाने वाले 95 प्रतिशत लोग हिंदू होते थे। तब मुझे बुलाने वालों में मुस्लिम नेताओं की संख्या महज पांच प्रतिशत होती थी। लेकिन पिछले चार सालों में यह संख्या 95 से घटकर 50 प्रतिशत रह गई है।

उन्होंने इस दौरान कहा कि इसका मतलब यह है कि लोग मुझे बुलाने से डरते हैं। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि एक खास पार्टी के कुछ लोग विश्वविद्यालय का नाम खराब करने की कोशिश कर रहे हैं। उनके इस बयान के बाद विवाद बढ़ गया है और भाजपा ने उनके बयान की निंदा की।

संबित पात्रा ने कहा कि गुलाम नबी आजाद के इस बयान से कांग्रेस के छद्म धर्मनिरपेक्षता का चेहरा उजागर हुआ है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी हिंदुओं को कमजोर आंकने और उनका मनोबल तोड़ने का काम कर रही है। पात्रा ने कहा कि कांग्रेस नेता भगवा आतंकवाद, हिंदू तालिबान और अच्छा हिंदू जैसी भाषा बोलते आए हैं।

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाज के बयान पर विवाद बढ़ता जा रहा है। उन पर पलटवार करते हुए भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि ये हिंदूओ का अपमान है। पात्रा ने अपने बयान में कहा कि गुलाम नबी आजाद ये बोलकर हिंदूओं को नीचा दिखाने का प्रयास कर रहे है, जो कि निंदनीय है। बता दें कि गुलाम नबी आजाद ने बुधवार को अपने एक बयान में कहा था कि कांग्रेस के हिंदू उम्मीदवार अब उन्हें चुनाव प्रचार के लिए नहीं बुलाते हैं। उन्होंने कहा कि पिछले चाल साल में देखा गया है कि अब लोग उन्हें बुलाने से डरते हैं। आजाद ने लखनऊ में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के संस्थापक सर सैयद अहमद खान की 201वीं जयंती पूर्व छात्रों के संबोधित करते हुए कहा कि उन्होंने अंडमान से लेकर लक्षद्वीप तक चुनाव प्रचार किया है। चुनाव-प्रचार के लिए बुलाने वाले 95 प्रतिशत लोग हिंदू होते थे। तब मुझे बुलाने वालों में मुस्लिम नेताओं की संख्या महज पांच प्रतिशत होती थी। लेकिन पिछले चार सालों में यह संख्या 95 से घटकर 50 प्रतिशत रह गई है। उन्होंने इस दौरान कहा कि इसका मतलब यह है कि लोग मुझे बुलाने से डरते हैं। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि एक खास पार्टी के कुछ लोग विश्वविद्यालय का नाम खराब करने की कोशिश कर रहे हैं। उनके इस बयान के बाद विवाद बढ़ गया है और भाजपा ने उनके बयान की निंदा की। संबित पात्रा ने कहा कि गुलाम नबी आजाद के इस बयान से कांग्रेस के छद्म धर्मनिरपेक्षता का चेहरा उजागर हुआ है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी हिंदुओं को कमजोर आंकने और उनका मनोबल तोड़ने का काम कर रही है। पात्रा ने कहा कि कांग्रेस नेता भगवा आतंकवाद, हिंदू तालिबान और अच्छा हिंदू जैसी भाषा बोलते आए हैं।