नवरात्र से नई ताकत व जोशोखरोश में नजर आएगी भाजपा

लखनऊ: नवरात्र से भाजपा नई ताकत व जोशोखरोश में नजर आएगी। प्रदेश इकाई की नई टीम घोषित होने के बाद पार्टी के सात मोर्चो व 17 प्रकोष्ठों के प्रमुखों को एलान कर दिया जाएगा। इसके साथ ही चार पर्वितन यात्राओ में भी पार्टी पूरी दमखम दिखाएगी, जबकि प्रत्याशियों का एलान इसके बाद करेगी। पार्टी की गतिविधियां तकरीबन पखवारे भर से मंद पड़ी हैं। इस दौरान भाजपा में बसपा छोड़ आये दो नेताओं पूर्व सांसद जुगुल किशोर व वरिष्ठ नेता स्वामी प्रसाद मौर्य ने पार्टी की जीवंतता बरकरार रखी। संगठन को प्राथमिकता देने वाली पार्टी अब युवाओ से लेकर दलितो, पिछड़ो और महिलाओ में पैठ बढ़ाने के लिए मोर्चा व प्रकोष्ठों को दुरुश्त करेगी। पार्टी सूत्रों के अनुसार दो महीने में सभी जिलों में मण्डल स्तर पर संगठन खड़ा कर लिया जाएगा, इसके लिए जरूरी हुआ तो पार्टी के जिलाध्यक्षों की मदद ली जाएगी।




पार्टी संगठन के लिए वैसे तो सभी मोर्चा अहम माने जा रहे हैं, लेकिन सभी की निगाहें युवा मोर्चा पर है। इसमें दो पूर्व पदाधिकारी व एक युवा नेता की दावेदारी अहम बतायी जा रही है। महिला मोर्चा में अध्यक्ष का पद कई महीनों से खाली पड़ा है। महिला मोर्चा की कुछ पदाधिकारियों को मुख्य संगठन में लेने से यहां भी प्रभावशाली चेहरे की तलाश की जा रही है, वैसे इस काम में पूर्व क्षेत्रीय संगठन मंत्री लगाये गये हैं। इसी तरह पिछड़ा वर्ग व सामाजिक न्याय मोर्चा, दलित मोर्चा, किसान मोर्चा और अल्पसंख्यक मोर्चा का एलान हो जाएगा। प्रदेश अध्यक्ष पद पर सांसद केशव मौर्य की ताजपोशी के बाद से भले ही मोर्चा औपचारिक तौर पर भंग नहीं किये गये हैं, लेकिन उनके पदाधिकारियों के लिए बने कमरें भी आवंटित नहीं किये जा सके हैं।

पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह 28 को आगरा में हैं और इस कार्यक्रम के बाद जैसे ही नवरात्र शुरू होगी, एक-दो दिनो में पर्वितन यात्राओं का एलान कर दिया जाएगा। यह यात्राएं 100 दिन चलेगी और समापन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की लखनऊ में रैली से होगा। पीएम की रैली की तिथि अभी तय नहीं है। इस रैली के बाद ही पार्टी अपने उम्मीदवारों का एलान करेगी। पर्वितन यात्राओ के दौरान ही विस चुनाव की तिथियों का एलान हो सकता है।