पूर्वोत्तर में NO ONE से WON तक की यात्रा के लिए भाजपा के कार्यकर्ताओं ने शहादत दी : पीएम मोदी

PM Narendra Modi, पीएम मोदी
पूर्वोत्तर में NO ONE से WON तक की यात्रा के लिए भाजपा के कार्यकर्ताओं ने शहादत दी : पीएम मोदी

नई दिल्ली। पूर्वोत्तर के तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव के परिणामों में भाजपा को मिली सफलता के बाद पार्टी के राष्ट्रीय कार्यालय पर कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि पूर्वोत्तर की जीत के शिल्पी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह हैं। सामने आए चुनाव परिणाम अमित शाह की टीम की मेहतन और पार्टी के उन कार्यकर्ताओं की शहादत की देन है जिन्होंने पूर्वोत्तर में पार्टी को खड़ा करने के लिए अपना बलिदान दे दिया।

Bjp Workers Sacrifices In Journey From No One To Won In North East Says Pm Modi :

इसके बाद प्रधानमंत्री ने पार्टी के शहीद कार्यकर्ताओं को श्रद्धांजलि देते हुए दो मिनट का मौन रखा। जिसके बाद उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर में नोवन से लेकर वन यानी जीत तक का सफर भाजपा ने कैसे तय किया यह सोचने का विषय है। पॉलिटिकल पंडितों को सोचना होगा कि आखिर जातिवाद, संप्रदायवाद, बम और गोली की राजनीति के बीच कोई पार्टी कैसे मतदाताओं का मन जीतने में कामयाब हो गई। इसका श्रेय पार्टी के उस कार्यकर्ता को जाता है जिसने बूथ और गली स्तर पर भाजपा और जनता के बीच संबन्ध बनाया है।

आगे वास्तुशास्त्र में पूर्वोत्तर की महत्ता को बताते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि जो घर बनाते हैं वो जानते हैं कि पूवोत्तर का कोना वास्तु के लिहाज से बेहद अहम होता है। पूरे घर का ​नक्शा पूर्वोत्तर को ध्यान में रखकर तैयार किया जाता है। अगर पूर्वोत्तर ठीक हो गया तो मानो पूरी इमारत ठीक हो गई। ऐसा ही देश के साथ है आज देश का पूर्वोत्तर ठीक हो गया है, इसका मतलब है कि अब देश ठीक होने जा रहा है।

त्रिपुरा में सीपीएम की हार पर प्रहार करते हुए उन्होंने कहा कि लेफ्ट की विचार धारा पराजय को स्वीकार नहीं कर पा रही है। लोकतंत्र में विजय और पराजय दो पहलू होते हैं। राजनीति में जीत को पचाने के साथ साथ पराजय को पचाना भी आना चाहिए। जिसके लिए खेलदिली का होना जरूरी है।जिनके खून में लोकतंत्र बहता है वो हार को स्वीकार करना जानते हैं।

इसके साथ ही लेफ्ट पर चुटकी लेते हुए उन्होंने कहा कि कल देश होली में अनेक रंगों से रंगा हुआ था, आज सारे रंग केसरिया रंगों में रंग गए। जैसा कि सभी जानते हैं जब सूरज उगता है तो केसरिया रंग का होता है और जब डूबता है तो लाल रंग का होता है। उनका इशारा लेफ्ट पार्टी की कमजोर होती शाख की ओर था।

अपने संबोधन के अंत में प्रधानमंत्री ने पूर्वोत्तर के लोगों को भाजपा का चुनाव करने के लिए धन्यवाद देते हुए कहा कि उन्होंने चुनाव प्रचार के दौरान कहा ​था कि वे लोगों को ब्याज सहित उनका प्यार लौटाएंगे।

राहुल गांधी पर भी किया हमला—

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी पर चुटकी लेते हुए कहा कि कुछ लोगों का कद तो बड़ा होता जा रहा है लेकिन उनके काम छोटे होते जा रहे हैं। उनका इशारा कांग्रेस को मिली उस हार की ओर थी जो पूर्वोत्तर के राज्यों में मिली।

अजान के लिए रोका भाषण—

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जैसे ही अपना भाषण शुरू किया वैसे ही अजान शुरू हो गई। प्रधानमंत्री के कानों में जैसे ही अजान की आवाज गई उन्होंने अपने भाषण को अजान खत्म होने के बाद तक के लिए रोक दिया। प्रधानमंत्री के रुकते ही कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी शुरू कर दी, जिसमें हस्तक्षेप करते हुए प्रधानमंत्री ने सभी को शांत रहने का इशारा किया।

नई दिल्ली। पूर्वोत्तर के तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव के परिणामों में भाजपा को मिली सफलता के बाद पार्टी के राष्ट्रीय कार्यालय पर कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि पूर्वोत्तर की जीत के शिल्पी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह हैं। सामने आए चुनाव परिणाम अमित शाह की टीम की मेहतन और पार्टी के उन कार्यकर्ताओं की शहादत की देन है जिन्होंने पूर्वोत्तर में पार्टी को खड़ा करने के लिए अपना बलिदान दे दिया।इसके बाद प्रधानमंत्री ने पार्टी के शहीद कार्यकर्ताओं को श्रद्धांजलि देते हुए दो मिनट का मौन रखा। जिसके बाद उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर में नोवन से लेकर वन यानी जीत तक का सफर भाजपा ने कैसे तय किया यह सोचने का विषय है। पॉलिटिकल पंडितों को सोचना होगा कि आखिर जातिवाद, संप्रदायवाद, बम और गोली की राजनीति के बीच कोई पार्टी कैसे मतदाताओं का मन जीतने में कामयाब हो गई। इसका श्रेय पार्टी के उस कार्यकर्ता को जाता है जिसने बूथ और गली स्तर पर भाजपा और जनता के बीच संबन्ध बनाया है।आगे वास्तुशास्त्र में पूर्वोत्तर की महत्ता को बताते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि जो घर बनाते हैं वो जानते हैं कि पूवोत्तर का कोना वास्तु के लिहाज से बेहद अहम होता है। पूरे घर का ​नक्शा पूर्वोत्तर को ध्यान में रखकर तैयार किया जाता है। अगर पूर्वोत्तर ठीक हो गया तो मानो पूरी इमारत ठीक हो गई। ऐसा ही देश के साथ है आज देश का पूर्वोत्तर ठीक हो गया है, इसका मतलब है कि अब देश ठीक होने जा रहा है।त्रिपुरा में सीपीएम की हार पर प्रहार करते हुए उन्होंने कहा कि लेफ्ट की विचार धारा पराजय को स्वीकार नहीं कर पा रही है। लोकतंत्र में विजय और पराजय दो पहलू होते हैं। राजनीति में जीत को पचाने के साथ साथ पराजय को पचाना भी आना चाहिए। जिसके लिए खेलदिली का होना जरूरी है।जिनके खून में लोकतंत्र बहता है वो हार को स्वीकार करना जानते हैं।इसके साथ ही लेफ्ट पर चुटकी लेते हुए उन्होंने कहा कि कल देश होली में अनेक रंगों से रंगा हुआ था, आज सारे रंग केसरिया रंगों में रंग गए। जैसा कि सभी जानते हैं जब सूरज उगता है तो केसरिया रंग का होता है और जब डूबता है तो लाल रंग का होता है। उनका इशारा लेफ्ट पार्टी की कमजोर होती शाख की ओर था।अपने संबोधन के अंत में प्रधानमंत्री ने पूर्वोत्तर के लोगों को भाजपा का चुनाव करने के लिए धन्यवाद देते हुए कहा कि उन्होंने चुनाव प्रचार के दौरान कहा ​था कि वे लोगों को ब्याज सहित उनका प्यार लौटाएंगे।राहुल गांधी पर भी किया हमला—प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी पर चुटकी लेते हुए कहा कि कुछ लोगों का कद तो बड़ा होता जा रहा है लेकिन उनके काम छोटे होते जा रहे हैं। उनका इशारा कांग्रेस को मिली उस हार की ओर थी जो पूर्वोत्तर के राज्यों में मिली।अजान के लिए रोका भाषण—प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जैसे ही अपना भाषण शुरू किया वैसे ही अजान शुरू हो गई। प्रधानमंत्री के कानों में जैसे ही अजान की आवाज गई उन्होंने अपने भाषण को अजान खत्म होने के बाद तक के लिए रोक दिया। प्रधानमंत्री के रुकते ही कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी शुरू कर दी, जिसमें हस्तक्षेप करते हुए प्रधानमंत्री ने सभी को शांत रहने का इशारा किया।