रामलीला मैदान में आज बजेगा मिशन 2019 बिगुल, मोदी-शाह देंगे जीत का मंत्र

bjp
रामलीला मैदान में आज बजेगा मिशन 2019 बिगुल, मोदी-शाह देंगे जीत का मंत्र

नई दिल्ली। 2014 की बड़ी लड़ाई से पहले दिल्ली के जिस रामलीला मैदान से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शंखनाद किया था, 2019 लोकसभा चुनाव से पहले भी वहीं से बिगुल बजेगा। 11-12 जनवरी को दिल्ली के रामलीला मैदान में होने वाली इस बैठक में देशभर के पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ‘जीत’ का मंत्र देंगे। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह राष्ट्रीय परिषद की बैठक का उद्घाटन करेंगे।

Bjps 2 Day National Council From Friday :

भाजपा राष्ट्रीय परिषद की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह जहां पूरे देश से आए हजारों कार्यकर्ताओं को जीत का मंत्र देंगे, वहीं सरकार की उपलब्धियों के बखान और विपक्षी दलों को कठघरे में खड़ा करने के साथ-साथ कार्यकर्ताओं को मनोबल भी बढ़ाया जाएगा। वस्तुत: दो दिनों के इस मंथन के बाद कार्यकर्ताओं और नेताओं को सीधे जमीन पर उतरने का निर्देश होगा।

बीजेपी सूत्रों का कहना है कि चूंकि यह राष्ट्रीय परिषद के रूप में राष्ट्रीय अधिवेशन हो रहा है, ऐसे में प्रधानमंत्री इसके समापन भाषण के जरिए न सिर्फ अपने कार्यकर्ताओं बल्कि देश के वोटरों को भी संदेश देंगे। इनमें वे न सिर्फ पिछले पांच वर्ष के अपने कामकाज के रूप में उपलब्धियां गिनाएंगे बल्कि वे उन नए मुद्दों को भी सामने रख सकते हैं, जिन पर अभी काम होना है। इसके अलावा वे बेरोजगार भत्ते और महिला रिजर्वेशन बिल जैसे महत्वपूर्ण मामलों पर भी दांव खेल सकते हैं। हालांकि ये दोनों ही मुद्दे महत्वपूर्ण हैं लेकिन इनके जरिए प्रधानमंत्री इसे एक बड़े वादे के रूप में पेश कर सकते हैं।

नई दिल्ली। 2014 की बड़ी लड़ाई से पहले दिल्ली के जिस रामलीला मैदान से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शंखनाद किया था, 2019 लोकसभा चुनाव से पहले भी वहीं से बिगुल बजेगा। 11-12 जनवरी को दिल्ली के रामलीला मैदान में होने वाली इस बैठक में देशभर के पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 'जीत' का मंत्र देंगे। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह राष्ट्रीय परिषद की बैठक का उद्घाटन करेंगे।भाजपा राष्ट्रीय परिषद की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह जहां पूरे देश से आए हजारों कार्यकर्ताओं को जीत का मंत्र देंगे, वहीं सरकार की उपलब्धियों के बखान और विपक्षी दलों को कठघरे में खड़ा करने के साथ-साथ कार्यकर्ताओं को मनोबल भी बढ़ाया जाएगा। वस्तुत: दो दिनों के इस मंथन के बाद कार्यकर्ताओं और नेताओं को सीधे जमीन पर उतरने का निर्देश होगा।बीजेपी सूत्रों का कहना है कि चूंकि यह राष्ट्रीय परिषद के रूप में राष्ट्रीय अधिवेशन हो रहा है, ऐसे में प्रधानमंत्री इसके समापन भाषण के जरिए न सिर्फ अपने कार्यकर्ताओं बल्कि देश के वोटरों को भी संदेश देंगे। इनमें वे न सिर्फ पिछले पांच वर्ष के अपने कामकाज के रूप में उपलब्धियां गिनाएंगे बल्कि वे उन नए मुद्दों को भी सामने रख सकते हैं, जिन पर अभी काम होना है। इसके अलावा वे बेरोजगार भत्ते और महिला रिजर्वेशन बिल जैसे महत्वपूर्ण मामलों पर भी दांव खेल सकते हैं। हालांकि ये दोनों ही मुद्दे महत्वपूर्ण हैं लेकिन इनके जरिए प्रधानमंत्री इसे एक बड़े वादे के रूप में पेश कर सकते हैं।