महाराष्ट्र में रात भर चली बीजेपी की ‘सर्जिकल स्ट्राइक’, जानिए कब क्या हुआ

Devendra fadnavis and ajit pawar
महाराष्ट्र में रात भर चली बीजेपी की 'सर्जिकल स्ट्राइक', जानिए कब क्या हुआ

नई दिल्ली। महाराष्ट्र की राजनीति में शुक्रवार की रात काफी भारी रही। कई दौर की बैठकों के बाद कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना के बीच तय हो चुका था कि महाराष्ट्र के नए सीएम उद्धव ठाकरे होंगे। तीनों दल मिलकर शनिवार को सरकार बनाने का दावा पेश करने वाले थे। यहां तक कि किस नेता को क्या जिम्मेदारी दी जाएगी इस पर भी फैसला हो चुका था।

Bjps Surgical Strike Lasted Overnight In Maharashtra Know What Happened When :

इसके मुताबिक शिवसेना का मुख्यमंत्री पूरे पांच साल के लिए बनेगा। दो डिप्टी सीएम कांग्रेस और एनसीपी के बनेंगे और दोनों पांच साल तक रहेंगे। शाम को एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने इसकी घोषणा कर दी। शिवसेना के प्रमुख उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। लेकिन रातों-रात कुछ ऐसा हुआ कि एनसीपी नेता अजित पवार बीजेपी के साथ खड़े हो गए और सुबह उन्होंने राजभवन पहुंचकर डिप्टी सीएम पद की शपथ ले ली।

एक समाचार एजेंसी ने 8 बजे पहला ट्वीट किया कि देवेंद्र फडणवीस राजभवन पहुंचकर सीएम पद की शपथ लेने जा रहे हैं। सबको ऐसा लगा कि यह गलत जानकारी दी गई है। क्योंकि सुबह से मीडिया के कैमरे मातोश्री की ओर थे। कुछ देर में ही कैमरों का रुख राजभवन की ओर घूम गया और देवेंद्र फडणवीस के शपथ लेने की तस्वीरें आने लगीं।

जानें कब क्या हुआ
रात करीब 11:45 बजे अजित पवार और बीजेपी में डील पक्की हुई। रात 11:55 बजे देवेंद्र फडणवीस ने पार्टी को सूचना दी कि शपथ ग्रहण की तैयारी पुख्ता की जाए और शिवसेना और कांग्रेस में किसी को पता नहीं लगने पाए। रात 12:30 बजे राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने नई दिल्ली के लिए अपनी यात्रा रद्द कर दी। रात 2:10 बजे राज्यपाल के सचिव को कहा गया कि वह सुबह 5.47 बजे राष्ट्रपति शासन हटाने की अधिसूचना जारी करें और सुबह 6.30 बजे शपथग्रहण की व्यवस्था करें। रात 1:45 बजे से लेकर शनिवार सुबह 9 बजे तक अजीत पवार फडणवीस के साथ रहे और शपथ ग्रहण होने तक नहीं गए। सुबह 5:30 बजे फडणवीस और अजित पवार राजभवन पहुंचे। सुबह 5:47 बजे राष्ट्रपति शासन हटाने की अधिसूचना जारी कर दी गई। घोषणा सुबह 9 बजे हुई। सुबह 7:50 बजे शपथ ग्रहण शुरू हो गया। सुबह 8:16 बजे पीएम मोदी ने सीएम और डिप्टी सीएम को बधाई दी।

नई दिल्ली। महाराष्ट्र की राजनीति में शुक्रवार की रात काफी भारी रही। कई दौर की बैठकों के बाद कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना के बीच तय हो चुका था कि महाराष्ट्र के नए सीएम उद्धव ठाकरे होंगे। तीनों दल मिलकर शनिवार को सरकार बनाने का दावा पेश करने वाले थे। यहां तक कि किस नेता को क्या जिम्मेदारी दी जाएगी इस पर भी फैसला हो चुका था। इसके मुताबिक शिवसेना का मुख्यमंत्री पूरे पांच साल के लिए बनेगा। दो डिप्टी सीएम कांग्रेस और एनसीपी के बनेंगे और दोनों पांच साल तक रहेंगे। शाम को एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने इसकी घोषणा कर दी। शिवसेना के प्रमुख उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। लेकिन रातों-रात कुछ ऐसा हुआ कि एनसीपी नेता अजित पवार बीजेपी के साथ खड़े हो गए और सुबह उन्होंने राजभवन पहुंचकर डिप्टी सीएम पद की शपथ ले ली। एक समाचार एजेंसी ने 8 बजे पहला ट्वीट किया कि देवेंद्र फडणवीस राजभवन पहुंचकर सीएम पद की शपथ लेने जा रहे हैं। सबको ऐसा लगा कि यह गलत जानकारी दी गई है। क्योंकि सुबह से मीडिया के कैमरे मातोश्री की ओर थे। कुछ देर में ही कैमरों का रुख राजभवन की ओर घूम गया और देवेंद्र फडणवीस के शपथ लेने की तस्वीरें आने लगीं। जानें कब क्या हुआ रात करीब 11:45 बजे अजित पवार और बीजेपी में डील पक्की हुई। रात 11:55 बजे देवेंद्र फडणवीस ने पार्टी को सूचना दी कि शपथ ग्रहण की तैयारी पुख्ता की जाए और शिवसेना और कांग्रेस में किसी को पता नहीं लगने पाए। रात 12:30 बजे राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने नई दिल्ली के लिए अपनी यात्रा रद्द कर दी। रात 2:10 बजे राज्यपाल के सचिव को कहा गया कि वह सुबह 5.47 बजे राष्ट्रपति शासन हटाने की अधिसूचना जारी करें और सुबह 6.30 बजे शपथग्रहण की व्यवस्था करें। रात 1:45 बजे से लेकर शनिवार सुबह 9 बजे तक अजीत पवार फडणवीस के साथ रहे और शपथ ग्रहण होने तक नहीं गए। सुबह 5:30 बजे फडणवीस और अजित पवार राजभवन पहुंचे। सुबह 5:47 बजे राष्ट्रपति शासन हटाने की अधिसूचना जारी कर दी गई। घोषणा सुबह 9 बजे हुई। सुबह 7:50 बजे शपथ ग्रहण शुरू हो गया। सुबह 8:16 बजे पीएम मोदी ने सीएम और डिप्टी सीएम को बधाई दी।