ब्लैकमेलिंग के लिए बेटे से बनवाया मां-बाप का सेक्स वीडियो

blackmailing,maa-bap, sex video, nude photo, सेक्स वीडियो, ब्लैकमेल, मां-बाप का वीडियो, बेंगलुरु पुलिस, अश्लील वीडियो

बेंग्लूरू। सोशल मीडिया समाज को किस तरह से खोखला कर रहा है इसकी बानगी बेंग्लूरू पुलिस के सामने पहुंचे एक मामले में देखने को​ मिली। पुलिस में शिकायत करने वाले दंपति को सोशल मीडिया के जरिए ब्लैकमेल किया जा रहा था। ब्लैकमेल करने वाले युवक ने दंपति का सेक्स वीडियो दिखाकर एक करोड़ रुपए की डिमांड की थी। ब्लैकमेलिंग के लिए प्रयोग हो रहे वीडियो को बनाने वाले के रूप में शिकायतकर्ता दंपति के नाबालिग बेटे का ही नाम सामने आया।



मिली जानकारी के मुताबिक पुलिस के पास शिकायत लेकर पहुंचे दंपति का कहना था कि एक तेजल नाम का एक युवक करीब एक वर्ष पहले सोशल मीडिया के माध्यम से उनके 13 वर्षीय बेटे के संप​र्क में आया। इस युवक ने उनके बेटे की एक नग्न तस्वीर को इंटरनेट पर वॉयरल करने की धमकी देकर उसे उनका सेक्स वीडियो बनाने के लिए ब्लैकमेल किया। तेजल के दबाव में आकर उनके बेटे ने उनका अश्लील वीडियो बनाया और उसे भेज दिया अब उन्हें उसी वीडियो के जरिए ब्लैकमेल किया जा रहा है। उस वीडियो को पॉर्न साइट पर डालने की धमकी देकर आरोपी उनसे एक करोड़ रूपए की डिमांड कर रहा है।




पीड़ित दंपति का आरोप है कि तेजल कम उम्र के ऐसे बच्चों को अपना शिकार बनाता है जो सोशल मीडिया पर एक्टिव रहते हैं। इन बच्चों को वह चाइल्ड पोर्नोग्राफी और अश्लील सामग्री भेजकर अपने चुंगल में फंसा लेता है और उनकी नग्न तस्वीरें हासिल करता है। फिर उन्ही तस्वीरों के माध्यम से वह ब्लैकमेलिंग का काम करता है। इस दंपति ने आशंका जताई है कि उन्हें ब्लैकमेल करने वाला तेजल कई नाबा​लिगों को अपने चुंगल में फंसाए हुए है।




इस शिकायत के बाद से पुलिस तेजल की तलाश कर रही है। इस मामले के पुलिस में पहुंचने की भनक लगने के बाद से ही तेजल ने अपना फेसबुक एकाउंट डिएक्टीवेट कर दिया है। पुलिस को संदेह है कि ब्लैकमेलर ने नकली पहचान के साथ अपना एकाउंट बनाया होगा। पुलिस मामले की जांच के लिए साइबर एक्सपर्टस की मदद ले रही है।

इस मामले को देखने के बाद ऐसा कहा जाना बिलकुल सही है कि सोशल मीडिया जैसे प्लेटफार्मस हमारे समाज को भले ही बड़ा बना रहे हैं लेकिन हमारे सामाजिक और पारिवारिक मूल्यों को नष्ट भी कर रहे हैं। खास तौर से वह पी​ढ़ी जिसे सही और गलत के बीच का भेद सही ढ़ंग से नहीं पता। खास तौर से ऐसे मामले देखने के बाद ऐसा लगता है कि ब्लैकमेलिंग के लिए सोशल साइट्स सबसे आसान जरिया बन गईं हैं।