भारत में सुपर हॉर्नेट लड़ाकू विमान बनाएगा बोइंग, HAL और Mahindra के साथ किया समझौता  

HAL , Mahindra , सुपर हॉर्नेट लड़ाकू
भारत में सुपर हॉर्नेट लड़ाकू विमान बनाएगा बोइंग, HAL और Mahindra के साथ किया समझौता  

चेन्नई। इंडियन एयरफोर्स को आसमान का ‘महाशक्तिशाली योद्धा’ मिलनेवाला है। दुनिया की प्रमुख सैन्य विमान बनानेवाली कंपनी बोइंग भारतीय कंपनियों के साथ मिलकर देश में ही फाइटर प्लेनबनाएगी। बोइंग इंडिया, हिंदुस्तान ऐरोनॉटिक्स लिमिटेड और महिंद्राडिफेंस सिस्टम्स (MDS) ने गुरुवार को एक महत्वपूर्ण समझौता किया। इसके तहत देश में ही करीब 1915 किमी प्रति घंटे की रफ्तार वाले F/A-18 सुपर हॉर्नेट फाइटर प्लेन बनाए जाएंगे। रक्षा मंत्रालय द्वारा इंडियन एयरफोर्स को और ताकतवर बनाने के साथ ही यह ‘मेक इन इंडिया’ अभियान को आगे बढ़ाने के लिहाज से भी बड़ा कदम है।

18 महीनों से जारी थी बातचीत

इस साल चेन्नई में आयोजित डिफेंस एक्सपो के दौरान बोइंग इंडिया के प्रेसिडेंट प्रत्यूष कुमार, एचएएल के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर टी सुवर्ण राजू और महिद्रा डिफेंस सिस्टम के चेयरमैन एसपी शुक्ला ने ‘मेक इन इंडिया’ के तहत सुपर हॉर्नेट बनाने के लिए ‘मेमोरेंडम ऑफ एग्रीमेंट’ पर हस्ताक्षर किए। इवेंट के दौरान प्रत्यूष कुमार ने कहा कि बोइंग और भारत की कंपनियों के बीच साझेदारी को लेकर पिछले करीब 18 महीनों से बातचीत जारी थी। हमने देश के करीब 400 सप्लायर्स से इस बारे में चर्चा की। भारतीय सरकार और रक्षा मंत्रालय का इरादा इस साझेदारी के तहत ‘मेक इन इंडिया’ एयरक्राफ्ट तैयार करवाना है”

{ यह भी पढ़ें:- शहीदों के परिजनों को मोदी सरकार ने दी बड़ी राहत, उठाएगी बच्चों की पढ़ाई का पूरा खर्चा }

जानें कितना शक्तिशाली होगा सुपर हॉर्नेट

आपको बता दें कि सुपर हॉर्नेट फाइटर एयरक्राफ्ट पर न सिर्फ लागत कम आएगी बल्कि किसी टैक्टिकल एयरक्राफ्ट की तुलना में इसकी ऑपरेटिंग कॉस्ट प्रति घंटे भी कम आएगी। F/A-18 सुपर हॉर्नेट भारत की डिफेंस पावर को मजबूत कर आनेवाले दशकों में भारत को और भी ताकतवर देश बना देगा। इस जबरदस्त फाइटर प्लेन के मिलने से दुश्मन के नापाक इरादों का खतरा भी कम हो जाएगा। गुरुवार को इस डिफेंस एक्सपो का औपचारिक तौर पर उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया। बोइंग F/A सुपर हॉर्नेट फाइटर प्लेन दो इंजन के साथ ही कई भूमिका निभा सकते हैं। इनकी स्पीड 1915 किमी प्रति घंटे और रेंज 3,330 किमी होती है।

110 जेट्स की डील के लिए शुरू हुआ प्रोसेस

भारत ने इसी महीने 110 लड़ाकू विमान खरीदने का प्रोसेस शुरू कर दिया है। इसे हाल के दिनों में दुनिया में अपनी तरह की सबसे बड़ी डील माना जा रहा है। यह डील 15 अरब डॉलर (98 हजार करोड़ रुपए) की हो सकती है। इससे एयरफोर्स की प्रहार करने की क्षमता में खासा इजाफा होगा। खास बात यह है कि इस ऑर्डर में देश में लड़ाकू विमानों का निर्माण भी शामिल है। अधिकारियों के मुताबिक, इस संबंध में रिक्वेस्ट फॉर इन्फोर्मेशन (आरएफआई) या इनीशियल टेंडर जारी कर दिया गया है। इसके तहत डिफेंस सेक्टर में सरकार की ‘मेक इन इंडिया’ इनीशिएटिव के तहत खरीद की जाएगी।

{ यह भी पढ़ें:- UP Investors Summit 2018: इस उद्योपति ने की सबसे अधिक निवेश की घोषणा }

5 साल से वायुसेना में लड़ाकू विमानों की कमी

बता दें कि भारत में बीते 15 साल से नए लड़ाकू विमानों की जरूरत महसूस की जा रही है। कई बार एलान होने पर भी जरूरत की तुलना में सिर्फ तीन-चौथाई जेट ही वायुसेना के पास मौजूद हैं।

चेन्नई। इंडियन एयरफोर्स को आसमान का ‘महाशक्तिशाली योद्धा’ मिलनेवाला है। दुनिया की प्रमुख सैन्य विमान बनानेवाली कंपनी बोइंग भारतीय कंपनियों के साथ मिलकर देश में ही फाइटर प्लेनबनाएगी। बोइंग इंडिया, हिंदुस्तान ऐरोनॉटिक्स लिमिटेड और महिंद्राडिफेंस सिस्टम्स (MDS) ने गुरुवार को एक महत्वपूर्ण समझौता किया। इसके तहत देश में ही करीब 1915 किमी प्रति घंटे की रफ्तार वाले F/A-18 सुपर हॉर्नेट फाइटर प्लेन बनाए जाएंगे। रक्षा मंत्रालय द्वारा इंडियन एयरफोर्स को और ताकतवर बनाने के साथ ही यह ‘मेक इन इंडिया’…
Loading...