‘पद्मावत’ पर प्रतिबंध के खिलाफ निर्माता पहुंचे सुप्रीम कोर्ट, गुरुवार को सुनवाई

गुरुवार को सुनवाई ,पद्मावत , फिल्म पद्मावत , सुप्रीम कोर्ट , फिल्म पद्मावत पर प्रतिबंध , न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा , फिल्म पद्मावत बैन , Padmavat, film Padmavat, Supreme Court, ban on film Padmavat, Justice Deepak Mishra, film Padmavat Ban
'पद्मावत' पर प्रतिबंध के खिलाफ निर्माता पहुंचे सुप्रीम कोर्ट, गुरुवार को सुनवाई

नई दिल्ली। विवादों से घिरी फिल्म ‘पद्मावत’ के कुछ राज्यों में प्रतिबंध लगाने के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका पर सर्वोच्च न्यायालय सुनवाई कर सकता है। फिल्म निर्माताओं ने प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए.एम. खानविलकर और न्यायमूर्ति डी.वाई. चंद्रचूड़ की पीठ के समक्ष मामला रखा है। निर्माताओं के वकील ने बुधवार को पीठ से मामले पर शीघ्र सुनवाई की मांग की जिस पर अदालत ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी।

Bollywood Makers Of Padmaavat Moves To Supreme Court :

इस बीच ख़बर है कि पद्मावत के अब 25 की बजाय 24 जनवरी को भी देखा जा सकता है। जानकारी के मुताबिक फिल्म की निर्माता कंपनी वायकॉम 18 ने 24 जनवरी को पेड़-प्रीव्यू रखने का फ़ैसला किया है ताकि पैसा देकर सीमित संख्या में दर्शक इस फिल्म को देख सकें और ये भी स्पष्ट हो जाय कि पद्मावत सुचारू रूप से रिलीज़ की जा रही है। बता दें कि गुजरात , मध्य प्रदेश और राजस्थान ने अपने यहां पद्मावत को रिलीज़ किये जाने पर पहले ही रोक लगा दी है ।

मंगलवार को हरियाणा भी इसमें शामिल हो गया। चार राज्यों में बैन के ख़िलाफ़ पद्मावत के मेकर ने सुप्रीम कोर्ट ने अर्जी लगाई है । राजपूत संगठनों का आरोप है कि फिल्म में ऐतिहासिक तथ्यों से छेड़छाड़ की गई है। जबकि फिल्म से संबद्ध लोगों ने इससे इनकार किया है।

नई दिल्ली। विवादों से घिरी फिल्म 'पद्मावत' के कुछ राज्यों में प्रतिबंध लगाने के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका पर सर्वोच्च न्यायालय सुनवाई कर सकता है। फिल्म निर्माताओं ने प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए.एम. खानविलकर और न्यायमूर्ति डी.वाई. चंद्रचूड़ की पीठ के समक्ष मामला रखा है। निर्माताओं के वकील ने बुधवार को पीठ से मामले पर शीघ्र सुनवाई की मांग की जिस पर अदालत ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी।इस बीच ख़बर है कि पद्मावत के अब 25 की बजाय 24 जनवरी को भी देखा जा सकता है। जानकारी के मुताबिक फिल्म की निर्माता कंपनी वायकॉम 18 ने 24 जनवरी को पेड़-प्रीव्यू रखने का फ़ैसला किया है ताकि पैसा देकर सीमित संख्या में दर्शक इस फिल्म को देख सकें और ये भी स्पष्ट हो जाय कि पद्मावत सुचारू रूप से रिलीज़ की जा रही है। बता दें कि गुजरात , मध्य प्रदेश और राजस्थान ने अपने यहां पद्मावत को रिलीज़ किये जाने पर पहले ही रोक लगा दी है ।मंगलवार को हरियाणा भी इसमें शामिल हो गया। चार राज्यों में बैन के ख़िलाफ़ पद्मावत के मेकर ने सुप्रीम कोर्ट ने अर्जी लगाई है । राजपूत संगठनों का आरोप है कि फिल्म में ऐतिहासिक तथ्यों से छेड़छाड़ की गई है। जबकि फिल्म से संबद्ध लोगों ने इससे इनकार किया है।