1. हिन्दी समाचार
  2. कोर्ट ने मराठा आरक्षण पर लगाई मोहर, लेकिन सरकार से कहा-16 नहीं 12-13 % आरक्षण संभव

कोर्ट ने मराठा आरक्षण पर लगाई मोहर, लेकिन सरकार से कहा-16 नहीं 12-13 % आरक्षण संभव

By रवि तिवारी 
Updated Date

Bombay High Court Upheld The Governments Decision To Provide Reservation To The Maratha Community

महाराष्ट्र: सरकारी नौकरियों और शिक्षा में मराठा को आरक्षण दिए जाने की संवैधानिक वैधता को बॉम्बे हाईकोर्ट ने गुरुवार को बरकरार रखा। लेकिन निर्दश दिए हैं कि 12 से 13 प्रतिशत तक ही दिया आरक्षण दिया जाए। फिलहाल सरकार ने 16 प्रतिशत मराठा आरक्षण दिया है। कोर्ट ने कहा कि सरकार विशेष परिस्थितों में ही 50 प्रतिशत ज्यादा आरक्षण दे सकती है।

पढ़ें :- 21 जून लॉन्च होने से पहले सैमसंग गैलेक्सी M32 का स्पेसिफिकेशंस गूगल प्ले कंसोल पर नज़र आया

कोर्ट ने कहा कि गायकवाड़ कमीशन रिपोर्ट के मुताबिक 12-13% आरक्षण दिया जाना चाहिए और इस बात को कोर्ट भी मानती है। इसके साथ ही कोर्ट ने एसईबीसी कमीशन की रिपोर्ट को भी माना। कोर्ट ने 50% ज्यादा आरक्षण देने की बात को भी कोर्ट ने संविधान के दायरे में माना है। कोर्ट ने कहा कि कि आरक्षण देना राज्य का अधिरकार है।

पिछले साल 30 नवंबर को महाराष्ट्र विधानमंडल ने एक विधेयक पारित कर सामाजिक और शैक्षणिक रूप से पिछड़ा वर्ग (एसईबीसी) श्रेणी के तहत मराठा समुदाय को शिक्षा और सरकारी नौकरियों में 16 प्रतिशत आरक्षण देने का प्रावधान किया था। आरक्षण को चुनौती देते हुए हाईकोर्ट में कई याचिकाएं दायर की गयीं जबकि आरक्षण के समर्थन में भी कुछ याचिकाएं दायर की गयीं। जस्टिस रंजीत मोरे और जस्टिस भारती डांगरे की पीठ ने छह फरवरी को सभी याचिकाओं पर सुनवाई शुरू की थी।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X