box office collection Day 1: फिल्म इंडस्ट्री में नहीं चली मोदी लहर, बड़े पर्दे पर कमाये सिर्फ इतने करोड़ रुपए

pm modi film
box office collection Day 1: फिल्म इंडस्ट्री में नहीं चली मोदी लहर, बड़े पर्दे पर कमाएं सिर्फ इतने करोड़ रुपेय

मुंबई। एक महीने से विवादों में चल रही बॉलीवुड एक्टर विवेक ओबरॉय की फिल्म ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ आखिरकार सिनेमाघरों में रिलीज़ हो चुकी है। लोकसभा चुनाव के परिणामों के बाद इस फिल्म का लोगों पर कितना असर पड़ा है वो इस फिल्म की कमाई करेगी। पीएम मोदी के ऐतिहासिक जीत के बाद भी विवेक ओबरॉय की ये फिल्म बड़े पर्दे पर पहले दिन कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाई। राजनीतिक गलियारे में मोदी लहर जितना ज़्यादा देखने को मिला है उतना फिल्म इंडस्ट्री में पीएम मोदी की बायोपिक देखने के लिए वो उत्सुकता और मोदी लहर देखने को नहीं मिला जिसकी वजह से सिनेमा घरों में ये फिल्म नाकामयाब रही।

Box Office Collection Day 1 The Movie Industry Did Not Hit The Modi Wave Only On The Big Screen Earn Just Rs :

बता दें कि विवेक ओबरॉय की फिल्म ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ बॉक्स ऑफिस पर पहले दिन 2.88 करोड़ रुपये का कलेक्शन कर पाई। साथ ही ये भी बता दें कि ये फिल्म देश भर में 1200 स्क्रीन्स पर रिलीज हुई थी। बता दें कि इस फिल्म के चलते विवेक ओबरॉय को कई बार राजनीतिक दलों का निशाना बनना पड़ा था।

फिल्म की रिलीज़िंग को लेकर विपक्ष ने आरोप लगाया था कि फिल्म के जरिए पीएम मोदी का प्रचार किया जा रहा है। जोकि आचार संहिता के नियमों के खिलाफ है। विपक्षियों ने विरोध जताते हुए अपील की थी जिसके बाद फिल्म की रिलीज को चुनावी नतीजों के अगले दिन के लिए तय किया गया। पिछले साल विवेक ओबरॉय के अच्छे दिन नहीं रहें इसलिए उन्हें उम्मीद थी कि पीएम मोदी की बायोपिक से उनके अच्छे दिन आ जाएंगे मगर ऐसा नहीं हुआ और उनकी उम्मीदों पर पानी फिर गया।

इस फिल्म की नाकामयाबी को देखते हुए ये भी अंदाज़ा लगाया जा रहा है कि राजनीतिक गलियारों में पीएम मोदी के जो समर्थक आवाज़े लगाए फिरते है आखिर वो सभी समर्थक इस फिल्म के समर्थन में क्यों नहीं दिखाई दिये। क्या वे सभी समर्थक सिर्फ राजनीतिक गलियारों तक ही सीमित हैं। क्या कोई भी पीएम मोदी को दिल से समर्थन देने के लिए सिनेमाघरों में आना ज़रूरी नहीं समझा, क्या फिल्म इंडस्ट्री में पीएम मोदी की कोई जगह नहीं है?

मुंबई। एक महीने से विवादों में चल रही बॉलीवुड एक्टर विवेक ओबरॉय की फिल्म 'पीएम नरेंद्र मोदी' आखिरकार सिनेमाघरों में रिलीज़ हो चुकी है। लोकसभा चुनाव के परिणामों के बाद इस फिल्म का लोगों पर कितना असर पड़ा है वो इस फिल्म की कमाई करेगी। पीएम मोदी के ऐतिहासिक जीत के बाद भी विवेक ओबरॉय की ये फिल्म बड़े पर्दे पर पहले दिन कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाई। राजनीतिक गलियारे में मोदी लहर जितना ज़्यादा देखने को मिला है उतना फिल्म इंडस्ट्री में पीएम मोदी की बायोपिक देखने के लिए वो उत्सुकता और मोदी लहर देखने को नहीं मिला जिसकी वजह से सिनेमा घरों में ये फिल्म नाकामयाब रही। बता दें कि विवेक ओबरॉय की फिल्म 'पीएम नरेंद्र मोदी' बॉक्स ऑफिस पर पहले दिन 2.88 करोड़ रुपये का कलेक्शन कर पाई। साथ ही ये भी बता दें कि ये फिल्म देश भर में 1200 स्क्रीन्स पर रिलीज हुई थी। बता दें कि इस फिल्म के चलते विवेक ओबरॉय को कई बार राजनीतिक दलों का निशाना बनना पड़ा था। फिल्म की रिलीज़िंग को लेकर विपक्ष ने आरोप लगाया था कि फिल्म के जरिए पीएम मोदी का प्रचार किया जा रहा है। जोकि आचार संहिता के नियमों के खिलाफ है। विपक्षियों ने विरोध जताते हुए अपील की थी जिसके बाद फिल्म की रिलीज को चुनावी नतीजों के अगले दिन के लिए तय किया गया। पिछले साल विवेक ओबरॉय के अच्छे दिन नहीं रहें इसलिए उन्हें उम्मीद थी कि पीएम मोदी की बायोपिक से उनके अच्छे दिन आ जाएंगे मगर ऐसा नहीं हुआ और उनकी उम्मीदों पर पानी फिर गया। इस फिल्म की नाकामयाबी को देखते हुए ये भी अंदाज़ा लगाया जा रहा है कि राजनीतिक गलियारों में पीएम मोदी के जो समर्थक आवाज़े लगाए फिरते है आखिर वो सभी समर्थक इस फिल्म के समर्थन में क्यों नहीं दिखाई दिये। क्या वे सभी समर्थक सिर्फ राजनीतिक गलियारों तक ही सीमित हैं। क्या कोई भी पीएम मोदी को दिल से समर्थन देने के लिए सिनेमाघरों में आना ज़रूरी नहीं समझा, क्या फिल्म इंडस्ट्री में पीएम मोदी की कोई जगह नहीं है?