BRD अस्पताल के हादसे से नहीं मिला सबक, यहां ऑक्सीजन कंपनी का 35 लाख बकाया

लखनऊ। गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में ऑक्सीज़न की कमी से हुई 37 मौतों के बाद भी प्रदेश के कुछ बड़े अस्पताल सबक लेने को तैयार नहीं हैं। झांसी के महारानी लक्ष्मीबाई मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीज़न सप्लाई करने वाली कंपनी का 35 लाख रुपया है, जो कभी भी किसी बड़े हादसे का सबब बन सकता है। ऑक्सीज़न सप्लाई करने वाली कंपनी ने जुलाई में ही पत्र लिखकर सप्लाई बंद करने की चेतावनी दी थी, लेकिन अस्पताल प्रशासन की आंखें अभी भी बंद हैं।

एक दैनिक समाचार पत्र की पड़ताल में इस बात का खुलासा हुआ है कि महारानी लक्ष्मीबाई मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की सप्लाई के लिए पिछले वर्ष टेंडर हुआ था। इस बार ई-टेंडरिंग की प्रक्रिया पूरी न हो पाने की वजह से अब तक पुरानी कंपनी से ही ऑक्सीजन की सप्लाई ली जा रही है। अस्पताल में करीब दस लाख रुपये की ऑक्सीजन की खपत होती है। मौजूदा समय में मेडिकल कॉलेज पर ऑक्सीजन की 35 लाख रुपये उधारी हो गई है।

अस्पताल के डॉ. एनएस सेंगर के मुताबिक मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की कमी नहीं है। ऑक्सीजन गैस के संबंध में समीक्षा बैठक बुलाई थी। इसमें बकाएदारी समेत कई मुद्दों पर चर्चा हुई है।

बता दें कि 69 लाख रुपए के बकाए को लेकर बीआरडी मेडिकल कॉलेज को ऑक्सीजन की सप्लाई देने वाली फर्म ने हाथ खड़े कर दिए थे। जिसके चलते 37 मासूमों को अपनी जान गंवानी पड़ी है।