बीआरडी मेडिकल कालेज घटना पर योगी की बड़ी कार्रवाई, डॉ0 अनीता भटनागर जैन की विदाई

बीआरडी मेडिकल कालेज घटना पर योगी की बड़ी कार्रवाई, डॉ0 अनीता भटनागर जैन की विदाई

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने मंगलवार को बीआरडी मेडिकल कालेज में हुई 60 मौतों के मामले में बड़ी कार्रवाई करते हुए चिकित्सा शिक्षा विभाग की प्रमुख सचिव अनीता भटनागर जैन को पद से हटा दिया है। उनके स्थान पर रजनीश दुबे को चिकित्सा शिक्षा विभाग का नया प्रमुख सचिव नियुक्त किया गया है।

सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक अनीता भटनागर जैन के खिलाफ कार्रवाई गोरखपुर मेडिकल कालेज में हुई घटना पर आई मुख्य सचिव राजीव कुमार की जांच रिपोर्ट के आधार पर की गई है। इस रिपोर्ट के मुख्यमंत्री की सिफारिश पर बीआरडी मेडिकल कालेज के तत्कालीन प्रिंसिपल समेंत छह लोगों के खिलाफ लखनऊ की हजरतगंज कोतवाली में एफआईआर भी दर्ज करवाई गई है।

{ यह भी पढ़ें:- UP: देवरिया में स्कूल के तीसरी मंजिल से गिरी छात्रा की मौत, स्कूल प्रशासन फरार }

आपको बता दें कि गोरखपुर मेडिकल कालेज की घटना के कारण के रूप में सामने आई आॅक्सीजन सप्लाई को रोके जाने की वजह के पीछे अनीता भटनागर जैन की भूमिका संदिग्ध बताई जा रही थी। आॅक्सीजन की सप्लाई करने वाली कंपनी का भुगतान रोके जाने के कारण के रूप में प्रमुख सचिव की मंशा सवालों के घेरे में आई थी। जिसकी पुष्टि उस समय हुई जब कालेज के खातों में एक करोड़ से ज्यादा की रकम होने के बावजूद कंपनी को भुगतान नहीं किया गया।

लंबे अर्से से चिकित्सा शिक्षा में तैनात थीं अनीता भटनागर जैन —
आईएएस डॉ0 अनीता भटनागर जैन की गिनती यूपी के तेजतर्रार और पहुंच वाले नौकरशाह के रूप में होती है। सियासी गलियारों में अनीता भटनागर जैन की पकड़ उस समय नजर आई जब अखिलेश सरकार चिकित्सा शिक्षा विभाग में तैनाती के दौरान भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगने के बावजूद योगी सरकार में वह उसी कुर्सी पर जमे रहने में कामयाब रहीं।

{ यह भी पढ़ें:- यूपी पुलिस का 'शूटआउट' अभियान जारी, इटावा में कुख्यात अपराधी सुंदर यादव ढेर }