ईंट व्यवसायी की हत्या: परिजनों की डीएम से कहासुनी, रात भर चला हंगामा

sonu singh murder
ईंट व्यवसायी की हत्या: परिजनों की डीएम से कहासुनी, रात भर चला हंगामा

लखनऊ। अमेठी में ईंट व्यवसायी सोनू सिंह की हत्या के बाद परिजनों ने पूरी रात जिला अस्पताल में जमकर हंगामा काटा। अफसर रात भर परिजनों के मान मनौव्वल में जुटे रहे। सुबह चार बजे किसी तरह से परिजन पोस्टमार्टम के लिए राजी हुए। पीएम हाउस पर जिलाधिकारी व परिजनों के बीच भी नोकझोंक हुई। घटना को लेकर पूरे इलाके में तनाव की व्याप्त है।

Brick Businessman Killed Family Members Told Dm Heard Commotion Throughout The Night :

बता दें कि मंगलवार की शाम कोतवाली क्षेत्र के निवासी विजय सिंह उर्फ सोनू सिंह की मुसाफिरखाना रोड पर स्थित नहर पुल के पास बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। संयुक्त जिला अस्पताल में जब प्रशासन ने शव पोस्टमार्टम के लिए ले जाना चाहा तो परिजन विरोध करने लगे। सुबह लगभग 4 बजे तक परिजनों का विरोध जारी रहा। इस दौरान कई बार मृतक के परिजन व पुलिस प्रशासन के लोग आमने-सामने भी हुए। सुबह 4 बजे मुख्यमंत्री को संबोधित चार सूत्रीय मांगों का पत्र जिला प्रशासन को सौंपने के बाद प्रशासनिक मान मनौव्वल पर परिजन शव पोस्टमार्टम के लिए देने को तैयार हुए।

मृतक के चाचा शिव प्रताप सिंह ने मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन में अपराधियों की तत्काल गिरफ्तारी, उन पर गैंगस्टर व रासुका के तहत कार्रवाई, मृतक की पत्नी को सरकारी नौकरी, 20 लाख का मुआवजा के साथ ही घटना में चोटिल हुआ गवाह को शस्त्र लाइसेंस व सुरक्षा दिलाए जाने की मांग की है। परिजनों ने अपराधियों और क्राइम ब्रांच के बीच संबंधों की भी उच्च स्तरीय जांच कराने की मांग की है।

पोस्टमार्टम हाउस के पास डीएम प्रशांत शर्मा व मृतक के परिजनों के बीच नोकझोंक हो गई। परिजन न्याय की मांग कर रहे थे जिस पर जिलाधिकारी बिफर पड़े। बाद में किसी तरह मामले को शांत कराया गया और शव गांव भेजा गया। देर रात परिजनों द्वारा दी गई तहरीर पर पुलिस ने चंद्रशेखर केसरवानी व शुभम तिवारी के साथ ही तीन अज्ञात बदमाशों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया है। एसपी डा.ख्याति गर्ग ने बताया कि आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए तीन टीमें बनाई गई हैं। तीनों टीमें लगातार प्रयास कर रही हैं। मामले में सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। क्राइम ब्रांच पर लगे आरोपों की जांच एएसपी दयाराम को सौंपी गई है।

लखनऊ। अमेठी में ईंट व्यवसायी सोनू सिंह की हत्या के बाद परिजनों ने पूरी रात जिला अस्पताल में जमकर हंगामा काटा। अफसर रात भर परिजनों के मान मनौव्वल में जुटे रहे। सुबह चार बजे किसी तरह से परिजन पोस्टमार्टम के लिए राजी हुए। पीएम हाउस पर जिलाधिकारी व परिजनों के बीच भी नोकझोंक हुई। घटना को लेकर पूरे इलाके में तनाव की व्याप्त है। बता दें कि मंगलवार की शाम कोतवाली क्षेत्र के निवासी विजय सिंह उर्फ सोनू सिंह की मुसाफिरखाना रोड पर स्थित नहर पुल के पास बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। संयुक्त जिला अस्पताल में जब प्रशासन ने शव पोस्टमार्टम के लिए ले जाना चाहा तो परिजन विरोध करने लगे। सुबह लगभग 4 बजे तक परिजनों का विरोध जारी रहा। इस दौरान कई बार मृतक के परिजन व पुलिस प्रशासन के लोग आमने-सामने भी हुए। सुबह 4 बजे मुख्यमंत्री को संबोधित चार सूत्रीय मांगों का पत्र जिला प्रशासन को सौंपने के बाद प्रशासनिक मान मनौव्वल पर परिजन शव पोस्टमार्टम के लिए देने को तैयार हुए। मृतक के चाचा शिव प्रताप सिंह ने मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन में अपराधियों की तत्काल गिरफ्तारी, उन पर गैंगस्टर व रासुका के तहत कार्रवाई, मृतक की पत्नी को सरकारी नौकरी, 20 लाख का मुआवजा के साथ ही घटना में चोटिल हुआ गवाह को शस्त्र लाइसेंस व सुरक्षा दिलाए जाने की मांग की है। परिजनों ने अपराधियों और क्राइम ब्रांच के बीच संबंधों की भी उच्च स्तरीय जांच कराने की मांग की है। पोस्टमार्टम हाउस के पास डीएम प्रशांत शर्मा व मृतक के परिजनों के बीच नोकझोंक हो गई। परिजन न्याय की मांग कर रहे थे जिस पर जिलाधिकारी बिफर पड़े। बाद में किसी तरह मामले को शांत कराया गया और शव गांव भेजा गया। देर रात परिजनों द्वारा दी गई तहरीर पर पुलिस ने चंद्रशेखर केसरवानी व शुभम तिवारी के साथ ही तीन अज्ञात बदमाशों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया है। एसपी डा.ख्याति गर्ग ने बताया कि आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए तीन टीमें बनाई गई हैं। तीनों टीमें लगातार प्रयास कर रही हैं। मामले में सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। क्राइम ब्रांच पर लगे आरोपों की जांच एएसपी दयाराम को सौंपी गई है।