1. हिन्दी समाचार
  2. कोविड-19 से लड़ने के लिए ब्रिक्स बैंक ने भारत को दिया एक अरब डॉलर का कर्ज

कोविड-19 से लड़ने के लिए ब्रिक्स बैंक ने भारत को दिया एक अरब डॉलर का कर्ज

Brics Bank Gave India A Billion Dollar Loan To Fight Kovid 19

By रवि तिवारी 
Updated Date

ब्रिक्स देशों के न्यू डेवलपमेंट बैंक (New Development Bank) ने कोरोना महामारी से लड़ने के लिए भारत को एक अरब डॉलर की आपातकालीन सहायता कर्ज राशि (emergency assistance loan) दी है। सूत्रों के मुताबिक, इस रकम का इस्तेमाल महामारी से होने वाले मानवीय, सामाजिक और आर्थिक नुकसान (social and economic losses) को कम करने के लिए किया जाएगा।

पढ़ें :- इंग्लैंड के खिलाफ होने वाले टेस्ट सीरीज के लिए भारतीय टीम का ऐलान, इनको मिली जगह

शंघाई स्थित एनडीबी (Shanghai based NDB) की स्थापना ब्रिक्स देशों (ब्राजील, रूस, भारत, चीन, दक्षिण अफ्रीका) ने साल 2014 में की थी। मौजूदा वक्‍त में इसका नेतृत्व दिग्गज भारतीय बैंकर केवी कामथ (KV Kamath) कर रहे हैं।  

मालूम हो कि न्यू डेवलपमेंट बैंक (New Development Bank) के निदेशक मंडल ने बीते 30 अप्रैल को इस आपातकालीन सहायता कर्ज राशि (emergency assistance loan) को मंजूरी दी थी। इस लोन का मकसद कोरोना महामारी के कारण होने वाले मानवीय, सामाजिक और आर्थिक नुकसान को कम करना है।

बैंक के उपाध्यक्ष और मुख्य परिचालन अधिकारी झेन झू ने अपने बयान में कहा कि एनडीबी इस संकट के दौर में अपने सदस्य देशों की मदद करने के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है। हमने भारत को तत्काल अनुरोध पर तेजी से कार्रवाई करते हुए आपातकालीन सहायता कार्यक्रम ऋण (Emergency Assistance Program Loan) को मंजूरी दी है।

उल्‍लेखनीय है कि पीएम मोदी ने मंगलवार को कोरोना संकट से प्रभावित भारत की अर्थव्‍यवस्‍था को गति देने के लिए 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज की घोषणा की थी। साथ ही भावी कदमों का संकेत दिया था कि वह आने वाले वर्षों में ना सिर्फ देश के समूचे आर्थ‍िक ढांचे को बदलने वाला होगा बल्कि इसका व्यापक कूटनीतिक असर भी देखने को मिल सकता है। साल 1991 में आर्थिक सुधारों के बाद पहली बार देश के किसी पीएम ने ‘लोकल’ स्तर पर मैन्यूफैक्चरिंग की इतनी जोरदार तरीके से वकालत की और इसे आम जनजीवन के मूल मंत्र के तौर पर स्थापित करने का नारा दिया।

पढ़ें :- कुर्की के आदेश के बाद नसीमुद्दीन और रामअचल राजभर ने कोर्ट में किया सरेंडर, भेजे गए जेल

उन्होंने चीन से सशंकित वैश्विक समुदाय के सामने भारत को एक मजबूत औद्योगिक निर्माण स्थल के विकल्प के तौर पर पेश करते हुए यह भी जता दिया कि 21वीं सदी में भारत अपनी बड़ी भूमिका निभाने को तैयार है।  

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...