बीएसएफ़ जवानों ने पीएम मोदी के नाम के आगे नहीं लगाया ‘श्री’, काट ली गयी 7 दिन की सैलरी

बीएसएफ़ जवानों ने पीएम मोदी के नाम के आगे नहीं लगाया ‘श्री’, काट ली गयी 7 दिन की सैलरी
बीएसएफ़ जवानों ने पीएम मोदी के नाम के आगे नहीं लगाया ‘श्री’, काट ली गयी 7 दिन की सैलरी

नई दिल्ली। सीमा सुरक्षा बल (BSF) के जवान पर प्रधानमंत्री के लिए सम्मान सूचक शब्दों का इस्तेमाल नहीं करने पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम से पहले श्रीमान या फिर आदरणीय जैसे शब्दों का इस्तेमाल नहीं करने पर, बीएसएफ़ ने जवान पर यह कार्रवाई करते हुई उसका सात दिन का वेतन काट लिया गया।

Bsf Jawan Loses Seven Days Pay For Referring To Pm Without Sri :

यह घटना 21 फरवरी की है जोकि बीएसएफ के 15वें बटालियन के मुख्यालय महतपुर, नाडिया (पश्चिम बंगाल) में हुई। जवान अपने दैनिक गतिविधि के तहत रूटीन एक्सरसाइज जीरो परेड कर रहे थे। इसी दौरान जवान संजीव कुमार ने एक रिपोर्ट देते हुए ‘मोदी कार्यक्रम’ शब्द का इस्तेमाल किया तभी बटालियन के कमांडिंग ऑफिसर कमांडेंट अनूप लाल भगत इससे काफी नाराज हुए और उन्होंने संजीव कुमार के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करने का निर्णय लिया।

संजीव के खिलाफ संक्षिप्त सुनवाई हुई और उन्हें बीएसएफ एक्ट की धारा 40 (व्यवस्था के प्रति पक्षपात और बल का अनुशासन) के तहत ‘दोषी’ पाया गया। बीएसएफ के कई अधिकारियों ने इस सजा को ‘थोड़ा सख्त’ बताया और कहा कि इसकी जरूरत नहीं थी। फिलहाल अभी तक इस मामले में BSF के जनरल डायरेक्टर केके शर्मा से बात नहीं की जा सकी।

नई दिल्ली। सीमा सुरक्षा बल (BSF) के जवान पर प्रधानमंत्री के लिए सम्मान सूचक शब्दों का इस्तेमाल नहीं करने पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम से पहले श्रीमान या फिर आदरणीय जैसे शब्दों का इस्तेमाल नहीं करने पर, बीएसएफ़ ने जवान पर यह कार्रवाई करते हुई उसका सात दिन का वेतन काट लिया गया।यह घटना 21 फरवरी की है जोकि बीएसएफ के 15वें बटालियन के मुख्यालय महतपुर, नाडिया (पश्चिम बंगाल) में हुई। जवान अपने दैनिक गतिविधि के तहत रूटीन एक्सरसाइज जीरो परेड कर रहे थे। इसी दौरान जवान संजीव कुमार ने एक रिपोर्ट देते हुए 'मोदी कार्यक्रम' शब्द का इस्तेमाल किया तभी बटालियन के कमांडिंग ऑफिसर कमांडेंट अनूप लाल भगत इससे काफी नाराज हुए और उन्होंने संजीव कुमार के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करने का निर्णय लिया।संजीव के खिलाफ संक्षिप्त सुनवाई हुई और उन्हें बीएसएफ एक्ट की धारा 40 (व्यवस्था के प्रति पक्षपात और बल का अनुशासन) के तहत 'दोषी' पाया गया। बीएसएफ के कई अधिकारियों ने इस सजा को 'थोड़ा सख्त' बताया और कहा कि इसकी जरूरत नहीं थी। फिलहाल अभी तक इस मामले में BSF के जनरल डायरेक्टर केके शर्मा से बात नहीं की जा सकी।