1. हिन्दी समाचार
  2. BSNL और MTNL आए साथ, सरकार ने दी मंजूरी

BSNL और MTNL आए साथ, सरकार ने दी मंजूरी

Bsnl And Mtnl Come Together Government Approved

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

लखनऊ। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने महानगर टेलीफोन निगम लिमिटेड (MTNL) और भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) के सहभागिता को मंजूरी दे दी है। इसके अनुसार MTNL भारत संचार निगम लिमिटेड की सहयोगी कंपनी होगी और इसके लिए सरकार की शेयरहोल्डिंग ट्रांसफर की जाएगी। MTNL में सरकार की हिस्‍सेदारी 56.25 फीसद है। लंबे समय बाद MTNL के शेयरों में तेजी दिखी। यह 4.55 फीसद की बढ़त के साथ 8.05 रुपये पर कारोबार कर रहा था।

पढ़ें :- किसान आंदोलनः सरकार और किसान संगठनों के बीच आज होगी 10वें दौरे की वार्ता

दरअसल, शुक्रवार को MTNL ने कहा कि उसे सरकार की तरफ से कंपनी के पुनरुद्धार की योजना से संबंधित पत्र प्राप्‍त हुआ है। अक्‍टूबर में कैबिनेट ने घाटे में चल रही टेलीकॉम कंपनियां BSNL और MTNL के विलय को मंजूरी दे दी थी। य‍ह पुनरुद्धार पैकेज के तहत किया गया जिसमें सॉवरेन बॉन्‍ड्स के जरिये पैसे जुटाना, परिसंपत्तियों का मौद्रिकरण और कर्मचारियों के लिए ऐच्छिक रिटायरमेंट योजना (VRS) शामिल है।

वहीं, सरकार द्वारा भेजे गए पत्र में सूचित किया गया है सरकार के जरूरी नियमों/दिशानिर्देशों के अनुरूप BSNL और MTNL के विलय को सैद्धांतिक मंजूरी दी गई है। MTNL भारत संचार निगम लिमिटेड की सहयोगी कंपनी बनेगी। इसके लिए MTNL सरकार की शेयरहोल्डिंग को BSNL को ट्रांसफर करेगी। जबतक विलय की प्रक्रिया पूरी नहीं होगी तबतक दोनों कंपनियां नेटवर्क ऑपरेशंस और बिक्री में तालमेल बढ़ाएंगी।

बता दें, अक्‍टूबर में हुई केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में टेलीकॉम विभाग के ‘बीएसएनएल और एमटीएनएल की पुनरुद्धार योजना’ के प्रस्‍ताव पर विचार किया था और उसे मंजूरी दी थी।

मिली जानकारी के मुताबिक BSNL/MTNL द्वारा 4G सेवा उपलब्‍ध कराने के लिए स्पेक्‍ट्रम का प्रशासनिक आवंटन किया जाएगा। इसके लिए पूंजी सरकार की तरफ से उपलब्‍ध कराई जाएगी। स्‍पेक्‍ट्रम की लागत पर जीएसटी का भुगतान बजटीय समर्थन के जरिये किया जाएगा।

पढ़ें :- शोभायात्रा:धूमधाम से मनाया जा रहा माँ बनैलिया का 30वा वार्षिक उत्सव,नगर में बनाए गए सैकड़ों स्वागत द्वार

साथ ही कर्ज पुनर्गठन के लिए 10 वर्ष या इससे अधिक अवधि के लिए 15,000 करोड़ रुपये का सॉवरेन गारंटी बॉन्‍ड BSNL/MTNL जुटाएंगी और इसकी सर्विसिंग करेंगी। इसका उद्देश्‍य कर्ज पुनर्गठन होगी। बीएसएनएल और एमटीएनएल पर कुल मिलाकर 40,000 करोड़ रुपये का कर्ज है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...