बीजेपी के झांसे में न आएं: मायावती

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने सोमवार को एक बार फिर से नोटबंदी को लेकर बीजेपी पर निशाना साधा। मायावती ने कहा कि केंद्र में सरकार बनने के बाद बीजेपी अपने वादों का एक-चौथाई भी पूरा नहीं कर पाई है। नोटबंदी का फैसला जल्दबाजी में ले लिया और अब यह उनके लिए गले की फांस बन गया है। अपने चोर दरवाजे से बीजेपी ने पूंजीपतियों और धन्नासेठों का बहुत पैसा बहाया है। लोग बीजेपी के झांसे में न आएं।




बसपा मुखिया ने यह भी कहा कि उत्तर प्रदेश में सपा और कांग्रेस का गठबंधन बीजेपी के इशारे पर हो रहा है। कांग्रेस-समाजवादी पार्टी का गठबंधन तभी होगा, जब बीजेपी को फायदा होगा। यूपी विधानसभा चुनाव में बीजेपी की हार तय है। बीजेपी ने अपने पक्ष में हवा बनाने के लिए कुछ स्वार्थी लोगों को तोड़कर अपनी पार्टी में शामिल किया और इसका खूब प्रचार करवाया। उन्होंने इसे मुस्लिम वोट को बांटने की साजिश करार दिया और कहा कि समाजवादी पार्टी और बीजेपी के मधुर संबंध हैं। बीएसपी ही मुस्लिम समाज की हितैषी पार्टी है।




मायावती ने सपा सरकार को घेरते हुए आरोप लगाया है कि वर्तमान यूपी सरकार गुंडों को संरक्षण दे रही है। इस सरकार पर दंगों के दाग हैं। 2013 का मुजफ्फरनगर दंगे का दाग कभी धोया नहीं जा सकता। मुजफ्फरनगर दंगे में जान माल की क्षति हुई। इसमें 1 लाख लोग बेघर हुए। यही नहीं अखिलेश सरकार ने लोगों के कैंपों पर बुलडोजर तक चलवा दिए। साथ ही कहा कि बीजेपी, सपा अपनी हार का ठीकरा कांग्रेस पर मढ़ेगी,कानून व्यवस्था के मामले में जनता का बुरा हाल है। कांग्रेस को मशविरा देते हए माया ने कहा कि सपा से गठबंधन के लिए कांग्रेस सतर्क रहे, सपा परिवार में आपसी वर्चस्व की लड़ाई मची हुई है। साथ ही कहा कि सपा कांग्रेस गठबंधन बनने से कोई लाभ नहीं होगा,सपा की भीतर दो खेमे,एक-दूसरे को हराने में लगे हुए हैं।