सहारनपुर घटना को लेकर सदन में भड़की मायावती, इस्तीफे का किया ऐलान

लखनऊ। मानसून सत्र के दूसरे दिन का माहौल काफी हंगामे भरा रहा। बसपा मुखिया मायावती सहारनपुर दंगे को लेकर सदन में भड़क गईं और राज्यसभा से इस्तीफा देने की धमकी तक दे डाली और सदन छोड़कर चली गईं। मायावती ने आरोप लगाया कि जब वो सदन में अपने समाज की बात नहीं रख सकती तो उन्हे सदन का सदस्य होना ही नहीं चाहिए।

दरअसल, मायावती को सहारनपुर की घटना पर बोलने के लिये तीन मिनट का समय दिया गया था। जिस पर मायावती भड़क गयी और बोली, आखिर इतने महत्वपूर्ण मामले पर मेरी बात क्यों नहीं सुनी जा रही। माया ने कहा, ‘जिस समाज से मैं आती हूं उसी की बात सदन में नहीं रख पा रही, ऐसी सदस्यता पर मुझे लानत है। मुझे ऐसी सदस्यता नहीं चाहिए। मैं अभी इससे इस्तीफा देती हूं।’

{ यह भी पढ़ें:- राहुल गांधी पर अभद्र टिप्पणी करने वाले बसपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष से छिना पद }

मायावती ने राज्यसभा में सहारनपुर हिंसा को दलित कांड बताया और कहा कि यह बीजेपी की साजिश है। उन्होंने केंद्र और प्रदेश सरकार पर घटना पर पर्दा डालने का आरोप लगाया।

कांग्रेस ने किया वॉकआउट—

{ यह भी पढ़ें:- बलात्कार तो भगवान राम भी नहीं रोक सकते, यह स्वाभाविक प्रदूषण है }

कांग्रेस की ओर से गुलाम नबी आजाद ने मायावती का समर्थन किया और उनके समर्थन में पार्टी के सभी सदस्यों ने सदन से वॉकआउट कर दिया।

लखनऊ। मानसून सत्र के दूसरे दिन का माहौल काफी हंगामे भरा रहा। बसपा मुखिया मायावती सहारनपुर दंगे को लेकर सदन में भड़क गईं और राज्यसभा से इस्तीफा देने की धमकी तक दे डाली और सदन छोड़कर चली गईं। मायावती ने आरोप लगाया कि जब वो सदन में अपने समाज की बात नहीं रख सकती तो उन्हे सदन का सदस्य होना ही नहीं चाहिए। दरअसल, मायावती को सहारनपुर की घटना पर बोलने के लिये तीन मिनट का समय दिया गया था।…
Loading...