मायावती ने कहा- बाबा साहेब अंबेडकर जम्मू-कश्मीर में अलग से धारा 370 के पक्ष में नहीं थे

mayawati
मायावती ने कहा- बाबा साहेब अंबेडकर जम्मू-कश्मीर में अलग से धारा 370 के पक्ष में नहीं थे

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने का समर्थन किया था। उन्होंने कहा, ‘जैसाकि विदित है कि बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर (Baba Saheb Ambedkar) हमेशा ही देश की समानता, एकता व अखण्डता के पक्षधर रहे हैं इसलिए वे जम्मू-कश्मीर राज्य में अलग से धारा 370 का प्रावधान करने के कतई भी पक्ष में नहीं थे।

Bsp Chief Mayawati Tweets Dr Br Ambedkar Article 370 In Jammu Kashmir Rahul Gandhi :

मायावती ने ट्वीट करके कारण बताया कि बीएसपी ने आखिर क्यों संसद में आर्टिकल 370 हटाए जाने का समर्थन किया। मायावती ने ट्वीट किया, ‘जैसाकि विदित है कि बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर हमेशा ही देश की समानता, एकता व अखण्डता के पक्षधर रहे हैं इसलिए वे जम्मू-कश्मीर राज्य में अलग से धारा 370 का प्रावधान करने के कतई भी पक्ष में नहीं थे। इसी खास वजह से बीएसपी ने संसद में इस धारा को हटाए जाने का समर्थन किया।’

वहीं मायावती ने आर्टिकल 370 हटाए जाने को लेकर हो रही राजनीति पर कहा कि देश में संविधान लागू होने के लगभग 69 वर्षों के बाद इस आर्टिकल 370 की समाप्ति के बाद अब वहां पर हालात सामान्य होने में थोड़ा समय अवश्य ही लगेगा। इसका थोड़ा इंतजार किया जाए तो बेहतर है, जिसको माननीय कोर्ट ने भी माना है।

विपक्ष पर हमला बोलते हुए मायावती ने लिखा, ‘ऐसे में अभी हाल ही में बिना अनुमति के कांग्रेस व अन्य पार्टियों के नेताओं का कश्मीर जाना क्या केन्द्र व वहां के गवर्नर को राजनीति करने का मौका देने जैसा इनका यह कदम नहीं है? वहां पर जाने से पहले इस पर भी थोड़ा विचार कर लिया जाता, तो यह उचित होता।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने का समर्थन किया था। उन्होंने कहा, 'जैसाकि विदित है कि बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर (Baba Saheb Ambedkar) हमेशा ही देश की समानता, एकता व अखण्डता के पक्षधर रहे हैं इसलिए वे जम्मू-कश्मीर राज्य में अलग से धारा 370 का प्रावधान करने के कतई भी पक्ष में नहीं थे। मायावती ने ट्वीट करके कारण बताया कि बीएसपी ने आखिर क्यों संसद में आर्टिकल 370 हटाए जाने का समर्थन किया। मायावती ने ट्वीट किया, 'जैसाकि विदित है कि बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर हमेशा ही देश की समानता, एकता व अखण्डता के पक्षधर रहे हैं इसलिए वे जम्मू-कश्मीर राज्य में अलग से धारा 370 का प्रावधान करने के कतई भी पक्ष में नहीं थे। इसी खास वजह से बीएसपी ने संसद में इस धारा को हटाए जाने का समर्थन किया।' वहीं मायावती ने आर्टिकल 370 हटाए जाने को लेकर हो रही राजनीति पर कहा कि देश में संविधान लागू होने के लगभग 69 वर्षों के बाद इस आर्टिकल 370 की समाप्ति के बाद अब वहां पर हालात सामान्य होने में थोड़ा समय अवश्य ही लगेगा। इसका थोड़ा इंतजार किया जाए तो बेहतर है, जिसको माननीय कोर्ट ने भी माना है। विपक्ष पर हमला बोलते हुए मायावती ने लिखा, 'ऐसे में अभी हाल ही में बिना अनुमति के कांग्रेस व अन्य पार्टियों के नेताओं का कश्मीर जाना क्या केन्द्र व वहां के गवर्नर को राजनीति करने का मौका देने जैसा इनका यह कदम नहीं है? वहां पर जाने से पहले इस पर भी थोड़ा विचार कर लिया जाता, तो यह उचित होता।