दुष्कर्म के मामले में फरार बसपा सांसद अतुल राय ने कोर्ट में किया समर्पण

atul roy
दुष्कर्म के मामले में फरार बसपा सांसद अतुल राय ने कोर्ट में किया समर्पण, 14 दिन की न्यायिक अभिरक्षा में भेजा जेल

वाराणसी। दुष्कर्म के मामले में वांछित चल रहे घोसी से बसपा सांसद अतुल राय ने शनिवार को वाराणसी की अदालत में समर्पण कर दिया। अदालत ने 14 दिन की न्यायिक अभिरक्षा में अतुल राय को जेल भेज दिया है। उधर, अतुल राय के समर्पण की भनक लगते ही कचहरी परिसर में लंका पुलिस ने घेराबंदी की लेकिन सांसद अतुल राय उनके हत्थे नहीं लगे। वहीं अतुल राय के समर्पण के दौरान कचहरी में उनके समर्थकों की काफी भीड़ जुटी थी।

Bsp Mp Atul Roy Surrenders In Court :

बता दें कि बलिया जिला की रहने वाली यूपी काॅलेज की पूर्व छात्रा ने बीते एक मई को लंका थाने में अतुल राय के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। इस दौरान छात्रा ने अतुल राय पर दुष्कर्म का आरोप लगाया था। लंका पुलिस मुकदमा दर्जकर मामले की छानबीन कर रही थी। गिरफ्तारी से बचने के लिए अतुल अरेस्ट स्टे लेने हाईकोर्ट पहुंचे थे लेकिन वहां भी उनको राहत नहीं मिली।

इस बीच पुलिस के बढ़ते दबाव के कारण अतुल राय ने अदालत में समर्पण की अर्जी दी थी लेकिन पेश नहंी हुए थे। पुलिस के आवेदन पर अदालत ने अतुल राय को वांछित घोषित करते हुए कुर्की के आदेश दिये थे। इसके बाद पुलिस अतुल की संपत्तियों की कुर्की कराने की कानूनी प्रक्रिया में लगी हुई थी। पुलिस को कुर्की की तैयारियां करते देख अतुल राय ने दोबारा समर्पण करने की अर्जी दी थी।

शनिवार अधिवक्ता अनुज यादव के साथ पेश हुए। बताया जा रहा है कि लंका पुलिस अतुल राय को कस्टडी रिमांड पर लेने के लिए अदालत में आवेदन करेगी। रिमांड मिलने के बाद पुलिस अतुल राय से पूछताछ करेगी। गौरतलब है कि, अतुल राय मुख्तार अंसारी के करीबी हैं और बसपा के टिकट से लोकसभा चुनाव 2019 में घोषी सीट से चुनाव जीते थे।

वाराणसी। दुष्कर्म के मामले में वांछित चल रहे घोसी से बसपा सांसद अतुल राय ने शनिवार को वाराणसी की अदालत में समर्पण कर दिया। अदालत ने 14 दिन की न्यायिक अभिरक्षा में अतुल राय को जेल भेज दिया है। उधर, अतुल राय के समर्पण की भनक लगते ही कचहरी परिसर में लंका पुलिस ने घेराबंदी की लेकिन सांसद अतुल राय उनके हत्थे नहीं लगे। वहीं अतुल राय के समर्पण के दौरान कचहरी में उनके समर्थकों की काफी भीड़ जुटी थी। बता दें कि बलिया जिला की रहने वाली यूपी काॅलेज की पूर्व छात्रा ने बीते एक मई को लंका थाने में अतुल राय के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। इस दौरान छात्रा ने अतुल राय पर दुष्कर्म का आरोप लगाया था। लंका पुलिस मुकदमा दर्जकर मामले की छानबीन कर रही थी। गिरफ्तारी से बचने के लिए अतुल अरेस्ट स्टे लेने हाईकोर्ट पहुंचे थे लेकिन वहां भी उनको राहत नहीं मिली। इस बीच पुलिस के बढ़ते दबाव के कारण अतुल राय ने अदालत में समर्पण की अर्जी दी थी लेकिन पेश नहंी हुए थे। पुलिस के आवेदन पर अदालत ने अतुल राय को वांछित घोषित करते हुए कुर्की के आदेश दिये थे। इसके बाद पुलिस अतुल की संपत्तियों की कुर्की कराने की कानूनी प्रक्रिया में लगी हुई थी। पुलिस को कुर्की की तैयारियां करते देख अतुल राय ने दोबारा समर्पण करने की अर्जी दी थी। शनिवार अधिवक्ता अनुज यादव के साथ पेश हुए। बताया जा रहा है कि लंका पुलिस अतुल राय को कस्टडी रिमांड पर लेने के लिए अदालत में आवेदन करेगी। रिमांड मिलने के बाद पुलिस अतुल राय से पूछताछ करेगी। गौरतलब है कि, अतुल राय मुख्तार अंसारी के करीबी हैं और बसपा के टिकट से लोकसभा चुनाव 2019 में घोषी सीट से चुनाव जीते थे।