बसपा सुप्रीमो मायावती ने यूपी के संगठन में किया बड़ा फेरबदल, विधानसभा 2022 की तैयारियों में जुटीं

mayawati

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर तैयारियां शुरू कर दी हैं। मध्यप्रदेश, राजस्थान और हरियाणा के साथ दिल्ली में बसपा को अपेक्षित परिणाम ​नहीं मिले थे, जिसके कारण मायावती ने यूपी विधानसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर अभी से तैयारियां शुरू कर दी है। इसके चलते उन्होंने बड़ा सांगठनिक फेरबदल किया है।

Bsp Supremo Mayawati Made A Major Reshuffle In Ups Organization Assembly Started Preparing For 2022 :

उन्होंने कई-कई मंडलों पर सेक्टर प्रभारियों की व्यवस्था समाप्त कर मंडल स्तर पर मुख्य सेक्टर प्रभारियों की तैनाती की है। इन सेक्टर प्रभारियों के निर्देशन में मंडलों को दो हिस्से में बांटकर अलग से सेक्टर प्रभारी तैनात किए गए हैं। इसके अलावा जिले स्तर पर भी सेक्टर प्रभारी बनाए गए हैं। बसपा सुप्रीमो ने दिल्ली में पिछले दो दिनों के भीतर प्रदेश के प्रत्येक मंडल के चुनिंदा दो-दो पदाधिकारियों से अलग-अलग मुलाकात कर संगठन के नए ढांचे का एलान किया।

खास बात ये है पिछले कई वर्षों से दूसरे प्रदेशों में प्रभारी के रूप में काम देख रहे कई वरिष्ठ नेताओं को फिर से प्रदेश के मंडलों की सांगठनिक जिम्मेदारी से जोड़ दिया गया है। बसपा विधानमंडल दल के नेता लाल जी वर्मा को लखनऊ मंडल व बसपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष राम अचल राजभर को प्रयागराज मंडल के मुख्य सेक्टर प्रभारी की जिम्मेदारी मिली है। इनके साथ कई अन्य नेताओं को भी शामिल किया गया है। इसे 2022 के विधानसभा चुनाव की तैयारी के रूप में देखा जा रहा है।

इस तरह किए गए बदलाव
राजधानी में चार मुख्य सेक्टर प्रभारी, दो टीम लखनऊ मंडल के लिए बसपा विधानमंडल के नेता लालजी वर्मा, एमएलसी भीमराव अंबेडकर, शमशुद्दीन राइन व राजकुमार गौतम को मुख्य सेक्टर प्रभारी बनाया गया है। ये सभी मुख्य सेक्टर प्रभारी मंडल के सभी जिलों की सांगठनिक गतिविधियों की प्रगति के लिए जिम्मेदार होंगे। इनकी सहायता के लिए लखनऊ मंडल में तीन-तीन जिलों पर अलग-अलग दो टीम होगी। पहली टीम में लखनऊ, उन्नाव व रायबरेली मंडल शामिल हैं। इन तीन जिलों में महेंद्र सिंह जाटव, विनय कश्यप और सलाहुद्दीन सिद्दीकी सेक्टर प्रभारी के रूप में कार्य देखेंगे। इसी तरह सीतापुर, हरदोई व खीरी के लिए दूसरी टीम होगी। इस टीम में डॉ. विनोद भारती, रणधीर बहादुर व अखिलेश अंबेडकर बतौर सेक्टर प्रभारी शामिल हैं। इनके अलावा लखनऊ जिले के लिए चार अलग सेक्टर प्रभारी होंगे। गंगा राम गौतम, इंतिजार आब्दी उर्फ बाबी, रामनाथ रावत व मनीष कुमार यादव जिले की सांगठनिक गतिविधियों को आगे बढ़वाएंगे।

ये हैं अलग-अलग मंडलों के सेक्टर प्रभारी
कानपुर- आरएस कुशवाहा, हेमंत प्रताप सिंह, बौद्ध प्रिय गौतम। प्रयागराज- राम अचल राजभर, डॉ. राम कुमार कुरील, डॉ. अशोक गौतम व टिकेस गौतम। मिर्जापुर-राम कुमार कुरील व अशोक गौतम। वाराणसी-नौशाद अली, मदन राम व रामचंद्र गौतम। आजमगढ़- नौशाद अली, मदन राम, हरिश्चंद्र गौतम। गोरखपुर- घनश्याम चंद्र खरवार पूर्व सांसद व सुधीर कुमार। बस्ती- घनश्याम चंद्र खरवार। फैजाबाद- घनश्याम चंद्र खरवार व दिनेश चंद्रा। देवीपाटन-बलिराम पूर्व सांसद, इंदलराम। मेरठ- शमशुद्दीन राईनी। सहाररनपुर- शमशुद्दीन राइनी। अलीगढ़- मुनकाद अली, प्रदेश अध्यक्ष, रणवीर सिंह कश्यप। आगरा- मुनकाद अली व सुमित जैन। बरेली- गिरीश चंद्र जाटव, सांसद व शमशुद्दीन राईनी। मुरादाबाद-गिरीश चंद्र जाटव व शमशुद्दीन राईनी। झांसी- लालराम अहिरवार, बृजेश जाटव, भूपेंद्र आर्या व रविकांत मौर्य। चित्रकूट- लालराम अहिरवार, मधुसूदन कुशवाहा व जितेंद्र शंखवार।

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर तैयारियां शुरू कर दी हैं। मध्यप्रदेश, राजस्थान और हरियाणा के साथ दिल्ली में बसपा को अपेक्षित परिणाम ​नहीं मिले थे, जिसके कारण मायावती ने यूपी विधानसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर अभी से तैयारियां शुरू कर दी है। इसके चलते उन्होंने बड़ा सांगठनिक फेरबदल किया है। उन्होंने कई-कई मंडलों पर सेक्टर प्रभारियों की व्यवस्था समाप्त कर मंडल स्तर पर मुख्य सेक्टर प्रभारियों की तैनाती की है। इन सेक्टर प्रभारियों के निर्देशन में मंडलों को दो हिस्से में बांटकर अलग से सेक्टर प्रभारी तैनात किए गए हैं। इसके अलावा जिले स्तर पर भी सेक्टर प्रभारी बनाए गए हैं। बसपा सुप्रीमो ने दिल्ली में पिछले दो दिनों के भीतर प्रदेश के प्रत्येक मंडल के चुनिंदा दो-दो पदाधिकारियों से अलग-अलग मुलाकात कर संगठन के नए ढांचे का एलान किया। खास बात ये है पिछले कई वर्षों से दूसरे प्रदेशों में प्रभारी के रूप में काम देख रहे कई वरिष्ठ नेताओं को फिर से प्रदेश के मंडलों की सांगठनिक जिम्मेदारी से जोड़ दिया गया है। बसपा विधानमंडल दल के नेता लाल जी वर्मा को लखनऊ मंडल व बसपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष राम अचल राजभर को प्रयागराज मंडल के मुख्य सेक्टर प्रभारी की जिम्मेदारी मिली है। इनके साथ कई अन्य नेताओं को भी शामिल किया गया है। इसे 2022 के विधानसभा चुनाव की तैयारी के रूप में देखा जा रहा है। इस तरह किए गए बदलाव राजधानी में चार मुख्य सेक्टर प्रभारी, दो टीम लखनऊ मंडल के लिए बसपा विधानमंडल के नेता लालजी वर्मा, एमएलसी भीमराव अंबेडकर, शमशुद्दीन राइन व राजकुमार गौतम को मुख्य सेक्टर प्रभारी बनाया गया है। ये सभी मुख्य सेक्टर प्रभारी मंडल के सभी जिलों की सांगठनिक गतिविधियों की प्रगति के लिए जिम्मेदार होंगे। इनकी सहायता के लिए लखनऊ मंडल में तीन-तीन जिलों पर अलग-अलग दो टीम होगी। पहली टीम में लखनऊ, उन्नाव व रायबरेली मंडल शामिल हैं। इन तीन जिलों में महेंद्र सिंह जाटव, विनय कश्यप और सलाहुद्दीन सिद्दीकी सेक्टर प्रभारी के रूप में कार्य देखेंगे। इसी तरह सीतापुर, हरदोई व खीरी के लिए दूसरी टीम होगी। इस टीम में डॉ. विनोद भारती, रणधीर बहादुर व अखिलेश अंबेडकर बतौर सेक्टर प्रभारी शामिल हैं। इनके अलावा लखनऊ जिले के लिए चार अलग सेक्टर प्रभारी होंगे। गंगा राम गौतम, इंतिजार आब्दी उर्फ बाबी, रामनाथ रावत व मनीष कुमार यादव जिले की सांगठनिक गतिविधियों को आगे बढ़वाएंगे। ये हैं अलग-अलग मंडलों के सेक्टर प्रभारी कानपुर- आरएस कुशवाहा, हेमंत प्रताप सिंह, बौद्ध प्रिय गौतम। प्रयागराज- राम अचल राजभर, डॉ. राम कुमार कुरील, डॉ. अशोक गौतम व टिकेस गौतम। मिर्जापुर-राम कुमार कुरील व अशोक गौतम। वाराणसी-नौशाद अली, मदन राम व रामचंद्र गौतम। आजमगढ़- नौशाद अली, मदन राम, हरिश्चंद्र गौतम। गोरखपुर- घनश्याम चंद्र खरवार पूर्व सांसद व सुधीर कुमार। बस्ती- घनश्याम चंद्र खरवार। फैजाबाद- घनश्याम चंद्र खरवार व दिनेश चंद्रा। देवीपाटन-बलिराम पूर्व सांसद, इंदलराम। मेरठ- शमशुद्दीन राईनी। सहाररनपुर- शमशुद्दीन राइनी। अलीगढ़- मुनकाद अली, प्रदेश अध्यक्ष, रणवीर सिंह कश्यप। आगरा- मुनकाद अली व सुमित जैन। बरेली- गिरीश चंद्र जाटव, सांसद व शमशुद्दीन राईनी। मुरादाबाद-गिरीश चंद्र जाटव व शमशुद्दीन राईनी। झांसी- लालराम अहिरवार, बृजेश जाटव, भूपेंद्र आर्या व रविकांत मौर्य। चित्रकूट- लालराम अहिरवार, मधुसूदन कुशवाहा व जितेंद्र शंखवार।