पीएम मोदी के जन्मदिन पर इस शख्स ने खून से लिखा खत, रखी ये मांग

tara-patkar
पीएम मोदी के जन्मदिन पर इस शख्स ने खून से लिखा खत, रखी ये मांग

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 69वें जन्मदिन पर बुंदेली समाज के संयोजक तारा पाटकर ने उन्हे खून से खत लिखकर बुंदेलखंड को अलग राज्य का दर्जा देने की मांग की है। तारा पाटकर अपनी इस मांग को लेकर बीते 447 दिन से लगातार अनशन पर बैठे हैं। पाटकर ने पीएम मोदी से अलग बुंदेलखंड राज्य की सौगात मांगी गई है। उनके सहयोगियों ने पीएम मोदी को उनके 69वें जन्म दिवस पर खून से खत लिखकर बधाई दी है।

Budelkhand People Wrote Letter With Blood To Wish Narendra Modi Birthday Demanding Separate State :

अनशन कर रहे बुंदेली समाज के लोग इससे पहले भी कई मौकों पर खून से प्रधानमंत्री को खत लिख चुके हैं। चाहे वह राखी का अवसर हो या कोई और पर्व हो, ये लोग सरकार का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करने के लिए लगातार कुछ न कुछ अलग करने की कोशिश करते रहते हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा तो हमेशा से छोटे राज्यों की पक्षधर रही हैं। अगर ऐसा न होता तो पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी एकसाथ तीन नये राज्य न बनाते।

बताते चलें कि 28 जून को अनशन के एक साल पूरे हो चुके हैं। इस बीच डेढ़ सौ लोग पीएम मोदी को खून से खत लिख चुके हैं। रक्षा बंधन पर्व पर बुंदेली बहनों ने प्रधानमंत्री को राखी भेजकर तोहफे में अलग बुंदेलखंड राज्य बनाए जाने की मांग की थी।

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 69वें जन्मदिन पर बुंदेली समाज के संयोजक तारा पाटकर ने उन्हे खून से खत लिखकर बुंदेलखंड को अलग राज्य का दर्जा देने की मांग की है। तारा पाटकर अपनी इस मांग को लेकर बीते 447 दिन से लगातार अनशन पर बैठे हैं। पाटकर ने पीएम मोदी से अलग बुंदेलखंड राज्य की सौगात मांगी गई है। उनके सहयोगियों ने पीएम मोदी को उनके 69वें जन्म दिवस पर खून से खत लिखकर बधाई दी है। अनशन कर रहे बुंदेली समाज के लोग इससे पहले भी कई मौकों पर खून से प्रधानमंत्री को खत लिख चुके हैं। चाहे वह राखी का अवसर हो या कोई और पर्व हो, ये लोग सरकार का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करने के लिए लगातार कुछ न कुछ अलग करने की कोशिश करते रहते हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा तो हमेशा से छोटे राज्यों की पक्षधर रही हैं। अगर ऐसा न होता तो पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी एकसाथ तीन नये राज्य न बनाते। बताते चलें कि 28 जून को अनशन के एक साल पूरे हो चुके हैं। इस बीच डेढ़ सौ लोग पीएम मोदी को खून से खत लिख चुके हैं। रक्षा बंधन पर्व पर बुंदेली बहनों ने प्रधानमंत्री को राखी भेजकर तोहफे में अलग बुंदेलखंड राज्य बनाए जाने की मांग की थी।