1. हिन्दी समाचार
  2. बजट 2019: अपनी इस टीम के साथ वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने तैयार किया budget, 11 बजे होगा पेश

बजट 2019: अपनी इस टीम के साथ वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने तैयार किया budget, 11 बजे होगा पेश

Budget 2019 Finance Minister Budget Team

By आस्था सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। देश की पहली महिला वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण अब बस कुछ ही में देर में वर्ष 2019 का बजट पेश करेंगी। जैसा कि मोदी सरकार दूसरी बार प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता में वापिस आए हैं तो ऐसे में लोगों को इस बार बजट से काफी ज्यादा उम्मीदें हैं। आम लोगों को सरकार से उम्मीद है कि कुछ ऐसा हो जिससे अर्थव्यवस्था में सुधार आए और इंडस्ट्री का चक्का तेजी से घूमे। बात करें बजट तैयार करने की तो खबरें आ रही हैं कि इसके लिए वित्त मंत्री का साथ देश के तमाम दिग्गज अधिकारियों ने दिया है। चलिए जानते हैं कि बजट तैयार करने में उनकी टीम में कौन-कौन शामिल हैं…

पढ़ें :- ऑस्ट्रेलिया से जीत के बाद विराट कोहली ने बताया किस खिलाड़ी की वजह से मैच जीते

डॉ. के. सुब्रमण्यन, मुख्य आर्थिक सलाहकार= के. सुब्रमण्यन को रघुराम राजन ने पढ़ाया है। उन्होंने अमेरिका के शिकागो यूनिवर्सिटी से प्रोफेसर लुइगी जिंगालेस और रघुराम राजन के नेतृत्व में फाइनेंशियल इकोनॉमिक्स में पीएचडी की है। उन्होंने अपना पहला आर्थिक सर्वेक्षण गुरुवार को पेश किया।

सुभाष गर्ग, वित्त और आर्थिक मामलों के सचिव= वित्त मंत्रालय के पुराने खिलाड़ी सुभाष गर्ग अर्थव्यवस्था की कई चुनौतियों से निपटने के अभ्यस्त हैं। ग्रोथ रेट कम होने, उपभोग घटने, निजी निवेश घटने जैसे हालातों में उनकी सलाह हमेशा काम आई है।

अजय भूषण पांडेय, राजस्व सचिव= आधार कार्ड परियोजना को साकार करने वाली यूनीक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी में अपनी सफलता दिखाने के बाद राजस्व में उनका काम देखने योग्य होगा। अब बजट से पता चलेगा कि उन्होंने क्या सुझाव दिये हैं।

जीसी मुर्मू, व्यय सचिव= गुजरात काडर के आईएएस अधिकारी मुर्मू इसके पहले वित्तीय सेवाएं और राजस्व विभाग में काम कर चुके हैं। वह योजनाओं को अमलीजामा पहनाने में माहिर हैं।

पढ़ें :- मनी लॉन्ड्रिंग केस : भगोड़े विजय माल्या पर शिकंजा, 14 करोड़ की प्रॉपर्टी ईडी ने की जब्त

राजीव कुमार, वित्तीय सेवाएं विभाग के सचिव= मोदी सरकार के कई प्रमुख एजेंडों जैसे सार्वजनिक बैंकों के विलय, फंसे कर्जों पर अंकुश आदि पर काम करने में राजीव कुमार ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। अब देखना होगा कि बजट में उनकी सलाह किस रूप में सामने आती है।

अतानु चक्रवर्ती, डीआईपीएएम सचिव= 1985 बैच के गुजरात काडर के इस आईएएस अधिकारी ने पिछले साल सरकार के विनिवेश लक्ष्य को पूरा करने में काफी मदद की थी। वित्त मंत्री ने निश्चित रूप से उनकी सलाह को लिया होगा।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...