चोरों ने जर्मन म्‍यूजियम की बिजली काटकर अरबों यूरो की संपत्ति चुराई

police
चोरों ने जर्मन म्‍यूजियम की बिजली काटकर अरबों यूरो की संपत्ति चुराई

नई दिल्ली। जर्मनी के संग्रहालय से चोरों ने सोमवार तड़के बिजली काट करोड़ों डॉलर की संपत्ति पर हाथ साफ कर दिया। चोरी किए गए सामान ड्रेसडेन के शाही महल के ग्रीन वॉल्ट में 4000 से ज्यादा अनमोल चीजें हैं। इनमें सोना, चांदी, जवाहरात और हाथीदांत भी शामिल हैं। सोमवार को चोर यहां से कुछ अनमोल चीजें चुराने में कामयाब हो गए। चोरी गई चीजों में एक बेशकीमती हीरा भी है जो 18वीं सदी में सैक्सनी के शासक ऑगस्टस द स्ट्रांग के संग्रह का हिस्सा है।

Burglars Steal Billions Of Euros Worth Of Electricity From German Museum :

रिपोर्ट के मुताबिक, चोरों ने ड्रेसडेन स्थित ओल्ड एंड न्यू ग्रीन वॉल्ट नामक म्यूजियम के ग्रीन वॉल्ट कमरे में इस चोरी को अंजाम दिया। इस कमरे में संग्रहालय के सबसे कीमती कलाकृतियां थीं। चोरों ने करीब तीन हजार प्राचीन वस्तुओं की चोरी की। सामान में गहने, सोने की बनी वस्तुएं, क्रिस्टल और हीरे शामिल थे।

यह सामान किंगडम ऑफ सैक्सोनी के 17वीं सदी के शासक अगस्त द् स्ट्रोंग का था। यह कमरा संग्रहालय का केंद्र बिंदू है, जिसे स्टैटिसिले कुन्स्तसम्मंगुंगेन के रूप में जाना जाता है। चोरों ने यहां घुसने से पहले कमरे की बिजली काट दी थी। जिसके बाद वे भीतर घुसे और सीसीटीवी कैमरों में भी कैद नहीं हो पाए। वहीं पुलिस ने अभी यह जानकारी नहीं दी है कि आखिर चोरी किए सामान में क्या-क्या है।

ऑगस्टस द स्ट्रांग ने ग्रीन वॉल्ट को बनवाया था  

1723 में सैक्सनी के तत्कालीन शासक ऑगस्टस द स्ट्रांग ने ग्रीन वॉल्ट को बनवाया था। ड्रेसडेन स्टेट आर्ट कलेक्शन की 12 म्यूजियमों में से एक है। यूरोप के सबसे पुराने म्यूजियम में से एक ग्रीन वॉल्ट के खजाने में 63.8 सेंटीमीटर की एक मूर की प्रतिमा भी है जिस पर 547.71 कैरेट के नीलम की मणि लगी हुई है। इसे रूस के जार पीटर प्रथम ने भेंट दिया था। म्यूजियम के दो हिस्से हैं एक ऐतिहासिक और दूसरा आधुनिक।

सोमवार को ऐतिहासिक हिस्से में सेंध लगाई गई जिसमें म्यूजियम का करीब तीन चौथाई खजाना शामिल है और यहां हर दिन एक निश्चित संख्या में ही दर्शकों को जाने की इजाजत मिलती है। दूसरे विश्वयुद्ध में शाही महल को काफी नुकसान हुआ था और ग्रीन वॉल्ट कई दशकों तक बंद ही रहा। आखिरकार मरम्मत के बाद इसे 2006 में दोबारा से खोला गया।

2010 में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा बतौर राष्ट्रपति पहली बार जर्मनी आए थे तब चांसलर अंगेला मैर्केल ने उनसे यहीं मुलाकात की थी। यह चोरी हाल के वर्षों में जर्मनी की दूसरी सबसे बड़ी और हाईप्रोफाइल चोरी है। 2017 में बर्लिन के बोडे म्यूजियम से 100 किलो और 24 कैरेट सोने का एक सिक्का चोरी हुआ था।

जानबूझकर लगाई आग

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि सोमवार तड़के ही म्यूजियम के निकट आग की घटना को अंजाम दिया गया, जिससे ध्यान भटकाया जा सके। आग को बुझाने के लिए दमकलकर्मियों की भी बुलाया गया था। राज्य गवर्नर माइकल रेटशीमर ने ट्वीट कर इस घटना की पुष्टी की है। उन्होंने कहा कि सामान चोरी होने के कारण सैक्सन राजाओं का इतिहास जानना मुश्किल हो गया है।

नई दिल्ली। जर्मनी के संग्रहालय से चोरों ने सोमवार तड़के बिजली काट करोड़ों डॉलर की संपत्ति पर हाथ साफ कर दिया। चोरी किए गए सामान ड्रेसडेन के शाही महल के ग्रीन वॉल्ट में 4000 से ज्यादा अनमोल चीजें हैं। इनमें सोना, चांदी, जवाहरात और हाथीदांत भी शामिल हैं। सोमवार को चोर यहां से कुछ अनमोल चीजें चुराने में कामयाब हो गए। चोरी गई चीजों में एक बेशकीमती हीरा भी है जो 18वीं सदी में सैक्सनी के शासक ऑगस्टस द स्ट्रांग के संग्रह का हिस्सा है। रिपोर्ट के मुताबिक, चोरों ने ड्रेसडेन स्थित ओल्ड एंड न्यू ग्रीन वॉल्ट नामक म्यूजियम के ग्रीन वॉल्ट कमरे में इस चोरी को अंजाम दिया। इस कमरे में संग्रहालय के सबसे कीमती कलाकृतियां थीं। चोरों ने करीब तीन हजार प्राचीन वस्तुओं की चोरी की। सामान में गहने, सोने की बनी वस्तुएं, क्रिस्टल और हीरे शामिल थे। यह सामान किंगडम ऑफ सैक्सोनी के 17वीं सदी के शासक अगस्त द् स्ट्रोंग का था। यह कमरा संग्रहालय का केंद्र बिंदू है, जिसे स्टैटिसिले कुन्स्तसम्मंगुंगेन के रूप में जाना जाता है। चोरों ने यहां घुसने से पहले कमरे की बिजली काट दी थी। जिसके बाद वे भीतर घुसे और सीसीटीवी कैमरों में भी कैद नहीं हो पाए। वहीं पुलिस ने अभी यह जानकारी नहीं दी है कि आखिर चोरी किए सामान में क्या-क्या है। ऑगस्टस द स्ट्रांग ने ग्रीन वॉल्ट को बनवाया था   1723 में सैक्सनी के तत्कालीन शासक ऑगस्टस द स्ट्रांग ने ग्रीन वॉल्ट को बनवाया था। ड्रेसडेन स्टेट आर्ट कलेक्शन की 12 म्यूजियमों में से एक है। यूरोप के सबसे पुराने म्यूजियम में से एक ग्रीन वॉल्ट के खजाने में 63.8 सेंटीमीटर की एक मूर की प्रतिमा भी है जिस पर 547.71 कैरेट के नीलम की मणि लगी हुई है। इसे रूस के जार पीटर प्रथम ने भेंट दिया था। म्यूजियम के दो हिस्से हैं एक ऐतिहासिक और दूसरा आधुनिक। सोमवार को ऐतिहासिक हिस्से में सेंध लगाई गई जिसमें म्यूजियम का करीब तीन चौथाई खजाना शामिल है और यहां हर दिन एक निश्चित संख्या में ही दर्शकों को जाने की इजाजत मिलती है। दूसरे विश्वयुद्ध में शाही महल को काफी नुकसान हुआ था और ग्रीन वॉल्ट कई दशकों तक बंद ही रहा। आखिरकार मरम्मत के बाद इसे 2006 में दोबारा से खोला गया। 2010 में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा बतौर राष्ट्रपति पहली बार जर्मनी आए थे तब चांसलर अंगेला मैर्केल ने उनसे यहीं मुलाकात की थी। यह चोरी हाल के वर्षों में जर्मनी की दूसरी सबसे बड़ी और हाईप्रोफाइल चोरी है। 2017 में बर्लिन के बोडे म्यूजियम से 100 किलो और 24 कैरेट सोने का एक सिक्का चोरी हुआ था। जानबूझकर लगाई आग रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि सोमवार तड़के ही म्यूजियम के निकट आग की घटना को अंजाम दिया गया, जिससे ध्यान भटकाया जा सके। आग को बुझाने के लिए दमकलकर्मियों की भी बुलाया गया था। राज्य गवर्नर माइकल रेटशीमर ने ट्वीट कर इस घटना की पुष्टी की है। उन्होंने कहा कि सामान चोरी होने के कारण सैक्सन राजाओं का इतिहास जानना मुश्किल हो गया है।