1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. हीरा धारण करने से वृष और तुला राशि के जातक हो सकते हैं धनवान, लेकिन इन बातों का रखें ध्यान

हीरा धारण करने से वृष और तुला राशि के जातक हो सकते हैं धनवान, लेकिन इन बातों का रखें ध्यान

हीरा धारण करने के लिए इसे सोने या चांदी की अंगूठी में बनवाना चाहिए। हीरा शुक्ल पक्ष के शुक्रवार को सूर्योदय के बाद धारण करना चाहिए। इसे पहनने के 20 से 25 दिन बाद आपको असर दिखना शुरू हो जाएगा।

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

हीरा पहनने से व्यक्ति और भी सुंदर लगता है। वे भव्य और दुर्लभ रत्न हैं। और राशियों पर भी गहरा प्रभाव डालते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार रत्नों में ऐसी शक्तियां होती हैं। जो किसी के भी जीवन को पूरी तरह से बदल सकती हैं। हीरा भी एक शक्तिशाली रत्न माना जाता है। जो किसी को भी धनवान बना सकता है। या किसी के जीवन पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है। हीरा शुक्र ग्रह से संबंधित है। ज्योतिष शास्त्र में शुक्र ग्रह को भौतिक सुख-सुविधाओं का ग्रह माना जाता है। इसे प्रेम, वैभव और विलासिता का ग्रह कहा जाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार हीरा कुछ विशेष परिस्थितियों में ही धारण किया जा सकता है। आइए जानते हैं। कौन सी दो राशियां हैं जो हीरे या सफेद पुखराज पर सूट करती हैं। और इससे वे अपने सुख-समृद्धि में वृद्धि कर सकते हैं।

पढ़ें :- Vastu Tips : जीवन शैली में दर्पण का विशेष महत्व है, घर में इस दिशा में लगाना चाहिए

वृष: (सफेद पुखराज/हीरा)
वृष राशि का स्वामी सूर्य शुक्र है। और इस राशि में जन्म लेने वाले लोग विलासी और अधिक उत्तम चीजों से प्रभावित होते हैं। शुक्र का रत्न हीरा है। और वृष राशि के लोगों को हीरा धारण करना चाहिए। ग्रह की यह ब्रह्मांडीय ऊर्जा वृषभ राशि के तहत पैदा हुए लोगों को एक बेजोड़ कल्पना और एक भव्य जीवन की इच्छा दे सकती है। हीरा अखंडता शुद्ध, विश्वास और पवित्रता का प्रतिनिधित्व करता है। रत्न पहनने वालों को अधिक भरोसेमंद होने के साथ-साथ धैर्यवान और दृढ़निश्चयी बनाने में मदद करता है। यह भी माना जाता है। कि यह पहनने वाले को ईर्ष्या और लालच से बचाता है।

तुला: (सफेद पुखराज/हीरा)
शुक्र द्वारा नियंत्रित दूसरी राशि तुला है। इस राशि में जन्म लेने वाले लोग अपनी प्रतिभा में अधिक आविष्कारशील होते हैं। फिर भी उसी तरह वे अपने जीवन में भावनात्मक उथल-पुथल से भी पीड़ित होते हैं। शुक्र ग्रह से जुड़ा रत्न यानी हीरा जिसे सफेद पुखराज भी कहा जाता है, उन्हें अपनी रचनात्मकता बढ़ाने और अपने भावनात्मक तनाव से बचाने के लिए इसका इस्तेमाल करना चाहिए। यह एक आदर्श पत्थर भी है। जो किसी के व्यक्तित्व और कल्पनाशील दिमाग का जश्न मनाता है।

हीरा कैसे धारण करें
हीरा धारण करने के लिए इसे सोने या चांदी की अंगूठी में बनवाना चाहिए। हीरा शुक्ल पक्ष के शुक्रवार को सूर्योदय के बाद धारण करना चाहिए। हीरा धारण करने के लिए सबसे पहले दूध, गंगाजल और शहद मिलाकर पानी में डाल दें। फिर शुक्रदेव के बीज मंत्र का 108 बार जाप करें और हीरे की अंगूठी देवी लक्ष्मी के चरणों में अर्पित करें। कुछ देर बाद इसे पहन लें। हीरा पहनने के 20 से 25 दिनों में आपको असर दिखने लगेगा। 7 साल बाद हीरा बदलें और नया हीरा धारण करें।

पढ़ें :- Basant Panchami Totke : करियर में सफलता के लिए अपनाएं ये टोटके, बसंत पंचमी का दिन सबसे शुभ
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...