लखनऊ में कैब चालक की गला रेत की हत्या, कार में ही मिला शव और चाकू भी

b.jpeg

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के बंथरा इलाके में ऊबर कैब चालक की बड़ी ही बेरहमी से हत्या कर दी गयी। चालक का शव कार की ड्राइविंग सीट के बगल में पड़ा मिला। उसी पहले तकिया से मुंह दबाकर फिर सब्जी काटने वाले चाकू से गला रेत कर हत्या की गयी है। पुलिस को कार से चाकू और तकिया भी मिला है। अभी तक यह साफ नहीं हो सका है कि चालक की हत्या किसने और क्यों की?

Cab Driver Murdered In Lucknow :


सीओ सरोजनीनगर ने बताया कि कानपुर देहात जनपद निवासी 50 वर्षीय अजीत अवस्थी ऊबर और ओला कैब चलाते थे। उनके पास खुद ही एक कार थी। अजीत मौजूदा समय में काकोरी के दुबग्गा इलाके में रहते थे। बताया जाता है कि मंगलवार की सुबह बंथरा के नरौना गांव के पास सड़क के किनारे लोगों ने अजीत की कार लावारिस हालात में खड़ी देखी।

लोग जब कार के पास गये तो ड्राइवङ्क्षग सीट के बगले में अजीत का खून से लथपथ शव पड़ा था। लोगों ने फौरन सूचना पुलिस कंट्रोल रूम को दी। सूचना मिलते ही मौके पर बंथरा पुलिस भी पहुंच गयी। छानबीन में पुलिस को कार से अजीत का सारा सामान मिला। सामान की मदद से पुलिस ने अजीत की पहचान की और खबर उसके परिवार वालों को दी। सीओ सरोजनीनगर ने बताया कि अजीत का पहले तकिया से मुंह दबाया गया।

इसके बाद उसकी सब्जी काटने वाले चाकू से गला रेत कर हत्या कर दी गयी। पुलिस का कार के अंदर से ही तकिया और हत्या में प्रयुक्त चाकू भी मिला है। पुलिस ने तकिये और चाकू को अपने कब्जे में ले लिया है। छानबीन के बाद पुलिस ने अजीत के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

सीओ ने बताया कि अभी इस बात का पता नहीं चल सका है कि अजीत की हत्या किसने और क्यों की। पुलिस अजीत के मोबाइल फोन की मदद से डीटेल खंगाल रही है। वहीं परिवार वालों के आने के बाद इस मामले में आगे की कुछ और बातों पता चल सकती हैं।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के बंथरा इलाके में ऊबर कैब चालक की बड़ी ही बेरहमी से हत्या कर दी गयी। चालक का शव कार की ड्राइविंग सीट के बगल में पड़ा मिला। उसी पहले तकिया से मुंह दबाकर फिर सब्जी काटने वाले चाकू से गला रेत कर हत्या की गयी है। पुलिस को कार से चाकू और तकिया भी मिला है। अभी तक यह साफ नहीं हो सका है कि चालक की हत्या किसने और क्यों की?


सीओ सरोजनीनगर ने बताया कि कानपुर देहात जनपद निवासी 50 वर्षीय अजीत अवस्थी ऊबर और ओला कैब चलाते थे। उनके पास खुद ही एक कार थी। अजीत मौजूदा समय में काकोरी के दुबग्गा इलाके में रहते थे। बताया जाता है कि मंगलवार की सुबह बंथरा के नरौना गांव के पास सड़क के किनारे लोगों ने अजीत की कार लावारिस हालात में खड़ी देखी।

लोग जब कार के पास गये तो ड्राइवङ्क्षग सीट के बगले में अजीत का खून से लथपथ शव पड़ा था। लोगों ने फौरन सूचना पुलिस कंट्रोल रूम को दी। सूचना मिलते ही मौके पर बंथरा पुलिस भी पहुंच गयी। छानबीन में पुलिस को कार से अजीत का सारा सामान मिला। सामान की मदद से पुलिस ने अजीत की पहचान की और खबर उसके परिवार वालों को दी। सीओ सरोजनीनगर ने बताया कि अजीत का पहले तकिया से मुंह दबाया गया।

इसके बाद उसकी सब्जी काटने वाले चाकू से गला रेत कर हत्या कर दी गयी। पुलिस का कार के अंदर से ही तकिया और हत्या में प्रयुक्त चाकू भी मिला है। पुलिस ने तकिये और चाकू को अपने कब्जे में ले लिया है। छानबीन के बाद पुलिस ने अजीत के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

सीओ ने बताया कि अभी इस बात का पता नहीं चल सका है कि अजीत की हत्या किसने और क्यों की। पुलिस अजीत के मोबाइल फोन की मदद से डीटेल खंगाल रही है। वहीं परिवार वालों के आने के बाद इस मामले में आगे की कुछ और बातों पता चल सकती हैं।