1. हिन्दी समाचार
  2. उद्धव सरकार का मंत्रिमंडल विस्तार: अजित पवार ने ली डिप्टी CM पद की शपथ, आदित्य ठाकरे बने मंत्री

उद्धव सरकार का मंत्रिमंडल विस्तार: अजित पवार ने ली डिप्टी CM पद की शपथ, आदित्य ठाकरे बने मंत्री

Cabinet Expansion Of Uddhav Government Ajit Pawar Sworn In As Deputy Cm Aditya Thackeray Becomes Minister

मुम्बई। महाराष्ट्र में उद्धव सरकार का लगभग एक महीने का कार्यकाल पूरा हो चुका है, सीएम के साथ 6 मंत्रियों ने शपथ ली थी और फिर कहा गया था कि आगे चलकर मंत्रिमंडल का विस्तार किया जायेगा। सोमवार को उद्धव सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार हुआ और एनसीपी के अजीत पवार ने डिप्टी सीएम पद की शपथ ले ली। जबसे उद्धव सरकार बनी थी तभी से ये कयास लगना शुरू हो गया था कि अजीत पवार को डिप्टी सीएम बनाया जा सकता है। वहीं उद्धव ठाकरे ने अपने बेटे आदित्य ठाकरे को कैबिनेट मंत्री बनाया है।

पढ़ें :- खुफिया विभाग को 20 दिन पहले ही मिली थी ये महत्वपूर्ण जानकारी, अधिकारियों के साथ हुई थी बैठक!

उद्धव सरकार के कैबिनेट विस्तार में आज कुल 36 मंत्रियों ने शपथ ली है। इस दौरान अजीत पवार डिप्टी सीएम, आदित्य ठाकरे कैबिनेट मंत्री, एनसीपी नेता धनंजय मुंडे ने भी कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली। बताया जाता है कि अजीत पवार को ​बीजेपी के साथ ले जाने में धनंजय मुंडे का बहुत बड़ा हाथ था, धनंजय मुंडे बीजेपी नेता गोपीनाथ मुंडे के भतीजे हैं। वहीं कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण ने भी कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली है। आपको बता दें कि अशोक चव्हाण राज्य के पूर्व सीएम शंकर राव चव्हाण के बेटे हैं। उनका नाम आदर्श घोटाले में आ चुका है, वह खुद भी राज्य के सीएम रह चुके हैं।

आपको बता दें कि महाराष्ट्र में 2019 विधानसभा चुनाव शिवसेना ने भाजपा के साथ मिलकर लड़ा था और चुनाव के वक्त सीएम का चेहरा भाजपा के देवेन्द्र फडणवीस को बनाया गया था। लेकिन जैसे ही नतीजे आये तो सीएम की कुर्सी के चक्कर में भाजपा और शिवसेना का वर्षों पुराना गठबन्धन टूट गया। इसी बीच एनसीपी और कांग्रेस ने शिवसेना से करीबियां बढ़ा ली और तीनो ने मिलकर सरकार बनाने का दावा किया।

लेकिन रातो रात एक बार फिर सियासत बदली जब सुबह सुबह भाजपा ने एनसीपी विधायक दल के नेता अजीत पवार के साथ सरकार बना ली, उस वक्त देवेन्द्र फडणवीस ने सीएम और अजीत पवार ने डिप्टी सीएम पद की शपथ ली थी। इसके बाद नम्बर आया महाराष्ट्र की राजनीति के चाणक्य कहे जाने वाले एनसपी प्रमुख शरद पवार की, उन्होने एनसीपी के सारे विधायकों को बुला लिया और मजबूरन भतीजे अजीत को भी इस्तीफा देकर वापस लौटना पड़ा और फ्लोर टेस्ट से पहले ही देवन्द्र फडणवीस ने भी इस्तीफा दे दिया।

पढ़ें :- ट्रैक्टर रैली में बवालः दिल्ली पुलिस ने 20 किसान नेताओं को भेजा नोटिस, तीन दिन में मांगा जवाब

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...