1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Yogi Cabinet : यूपी के 16 जिलों में PPP Model पर खुलेंगे नए मेडिकल कॉलेज ,जानिए अन्य बड़े फैसले

Yogi Cabinet : यूपी के 16 जिलों में PPP Model पर खुलेंगे नए मेडिकल कॉलेज ,जानिए अन्य बड़े फैसले

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अध्यक्षता में गुरुवार को कैबिनेट बैठक (CM Yogi Cabinet Meeting) की बैठक हुई। इस बैठक में उत्तर प्रदेश के विकास (Development of UP) को लेकर कई अहम प्रस्तावों को मंजूरी दी गई है।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई बैठक के दौरान एक ओर जहां देश के सबसे लंबे गंगा एक्सप्रेस-वे (Ganga Expressway) के निर्माण के लिये उसके टेंडर सहित कई अन्य प्रस्तावों मुहर लगाई गई।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अध्यक्षता में गुरुवार को कैबिनेट बैठक (CM Yogi Cabinet Meeting) की बैठक हुई। इस बैठक में उत्तर प्रदेश के विकास (Development of UP) को लेकर कई अहम प्रस्तावों को मंजूरी दी गई है। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने गुरुवार को हुई कैबिनेट बैठक में 9 प्रस्ताव पारित किए हैं। बैठक में गंगा एक्सप्रेस-वे, मेडिकल कॉलेजों को खोलने की अनुमति, एयरपोर्ट, डिफेंस कॉरिडोर समेत कई अहम फैसले लिए गए हैं। इसके साथ ही राज्य के 16 जिलों में नए मेडिकल कॉलेजों को खोलने की भी अनुमति दी गई है। ये मेडिकल कॉलेज पीपीपी मॉडल से बनाए जाएंगे।

पढ़ें :- Big Decision of Yogi Government : गन्ने का समर्थन मूल्य 25 रुपये बढ़ाकर 350 रुपये प्रति क्विंटल किया
Jai Ho India App Panchang

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई बैठक के दौरान एक ओर जहां देश के सबसे लंबे गंगा एक्सप्रेस-वे (Ganga Expressway) के निर्माण के लिये उसके टेंडर सहित कई अन्य प्रस्तावों मुहर लगाई गई। तो वहीं बुंदेलखंड में हो रहे बल्क ड्रग्स पार्क और डिफेंस काॅरिडोर (Defense Corridor) के निर्माण को देखते हुए ललितपुर में एक बडा सिविल एयरपोर्ट (Lalitpur Airport) बनाने के लिये उससे जुड़े कई प्रस्तावों पर भी मुहर लगा दी गई है।

कैबिनेट के फैसलों के जानकारी देते हुए कैबिनेट मंत्री और प्रवक्ता सिद्धार्थनाथ सिंह (Cabinet Minister and Spokesperson Siddharthnath Singh) ने बताया कि ‘कैबिनेट बैठक में 12 बिंदुओं पर चर्चा कर कई अहम प्रस्तावों को मंजूरी दी गई है। जिसके तहत उत्तर प्रदेश में देश के सबसे बडे़ गंगा एक्सप्रेस-वे (Ganga Expressway) के भी निर्माण से जुडे कई प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई है। गंगा एक्सप्रेस-वे (Ganga Expressway)  का निर्माण 36 हजार 230 करोड़ की लागत से किया जायेगा। जिसमें 22125 करोड से सिविल कार्य और जमीन खरीद के लिये 9255 करोड का प्रावधान किया गया है।

ये गंगा एक्सप्रेस वे 6 लेन का होगा, जिसे बढाकर 8 लेन तक किया जा सकेगा। गंगा एक्सप्रेस-वे (Ganga Expressway) में 4 पैकेज हैं। जिनकी लागत 5 हजार से 5 हजार 800 करोड रुपये तक है। गंगा एक्सप्रेस वे पर स्पीड को 120 किलोमीटर प्रति घंटा तक निर्धारित कर इस पर एयर स्ट्रिप भी होगी। मुख्यमंत्री  ने इस पर शुरुआत दौर में 9 जगह औद्योगिक क्लस्टर्स (Industrial Clusters)भी बनाने के लिये मार्किंग के निर्देश दिये हैं। गंगा एक्सप्रेस-वे (Ganga Expressway)  की कुल लागत, टेक्टिनकल और स्ट्रक्चरल कार्य, ड्राइंग समेत सभी का अनुमोदन दे दिया गया है। और अब महज 60 दिनो के अंदर टेंडर की प्रक्रिया को पूरा कर लिया जायेगा।

ललितपुर में जल्द शुरू होगा सिविल एयरपोर्ट

पढ़ें :- Yogi cabinet expansion : योगी मंत्रिमंडल के संभावित मंत्रियों का जानें अब तक कैसे रहा है राजनीतिक सफर

योगी सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थनाथ सिंह के मुताबिक ‘बुंदेलखंड में हो रहे बल्क ड्रग्स पार्क और डिफेंस कारिडोर के निर्माण को देखते हुए ललितपुर में एक बडा सिविल एयरपोर्ट बनाया जा रहा है। जिसके पहले चरण में जल्द ही ATR जैसे छोटे एयरक्राफ्ट का संचालन किया जायेगा। जिसके चलते कैबिनेट बैठक में ललितपुर एयरपोर्ट के पास स्थित दो गांवों की 91.773 हेक्टेयर जमीन को खरीदने के लिये भी 86.65 करोड रूपये के साथ 76.75 लाख की स्टाम्प ड्यूटी का भी अनुमोदन किया गया है। इसके साथ ही रक्षा मंत्रालय की 12.79 हेक्टेयर जमीन को लेकर उन्हे भविष्य में ग्राम समाज की भूमि देने के भी प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई है। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में ये अन्तर्राष्ट्रीय स्तर का एयरपोर्ट बनेगा।

सिद्धार्थनाथ सिंह ने इशारों में ही अखिलेश यादव पर साधा निशाना

इस दौरान योगी सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थनाथ सिंह ने इशारों में ही अखिलेश यादव पर निशाना साधते हुए कहा कि ‘हमारे जो कुछ पूर्व में मित्र रहे हैं। वह कहते रहते हैं कि हमारी योजना थी। उन्होने ऐसे ही पूर्वांचल एक्सप्रेस वे का भी ऐलान कर उसका बिडिंग डाक्यूमेंट भी निकाल लिया था। चुनाव का वक्त था, जल्दबाजी तो करनी ही थी, डेवलपर्स को तैयार करना था, उन्हे देना होता है। इसलिये इससे चुनाव में भी कुछ चीजों की मदद हो जाती है, लेकिन एक प्रावधान है कि जब तक 80 प्रतिशत जमीन का अधिग्रहण नहीं हो जाता, तब तक आप टेंडर नहीं निकाल सकते हैं। आज जब हम इस गंगा एक्सप्रेस-वे के टेंडर डाक्यूमेंट तब निकाल रहे हैं। जब 92.02 प्रतिशत जमीन का अधिग्रहण किया जा चुका है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...