सीएम योगी की उपलब्धियां सुनते-सुनते मंत्रियों को आ गई नींद

सीएम योगी, मंत्रियों को आ गई नींद
सीएम योगी की उपलब्धियां सुनते-सुनते मंत्रियों को आ गई नींद
लखनऊ । उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार ने 19 मार्च को अपने एक साल का कार्यकाल पूरा होने के अवसर पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने लोकभवन स्थित आडीटोरियम में एक लंबा चौड़ा भाषण दिया। इस दौरान उनके भाषण को सुनने के लिए भाजपा संगठन के पदाधिकारियों से लेकर सरकार में उनके सहयोगी की भूमिका निभा रहे तमाम कैबिनेट मंत्री भी मौजूद रहे।जिन्हें मंच के ठीक सामने सबसे आगे की कतार में स्थान दिया गया था। एक ओर सीएम योगी उपलब्धियां…

लखनऊ । उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार ने 19 मार्च को अपने एक साल का कार्यकाल पूरा होने के अवसर पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने लोकभवन स्थित आडीटोरियम में एक लंबा चौड़ा भाषण दिया। इस दौरान उनके भाषण को सुनने के लिए भाजपा संगठन के पदाधिकारियों से लेकर सरकार में उनके सहयोगी की भूमिका निभा रहे तमाम कैबिनेट मंत्री भी मौजूद रहे।जिन्हें मंच के ठीक सामने सबसे आगे की कतार में स्थान दिया गया था।

एक ओर सीएम योगी उपलब्धियां गिनवा शुरू किया, तो दूसरी ओर उनके सामने बैठे मंत्रियों और पार्टी के पदाधिकारियों को नींद आना शुरू हो गई। मानो योगी के ऊर्जावान भाषण के शब्द उन महानुभावों ​के कानों तक नहीं पहुंच रहे हो या फिर भाषण में बताई जा रही बातें वह पहले भी कई बार सुन चुके हों।

{ यह भी पढ़ें:- 2019 के लिए अमित शाह ने लांच किया मिशन रायबरेली }

सीएम योगी के सहयोगियों का ये रवैया उन परिस्थितियों में सामने आया, जब पार्टी हाल ही में अपनी दो बेहद अहम लोकसभा सीटों पर हुए उपचुनावों में मिली हार से उभरने और विपक्ष की रणनीति का काट ढूंढने में जुटी है।

जब मीडिया की आंख और कान सीएम योगी के भाषण पर केन्द्रित थे, तभी एक कैमरे ने मंत्रियों के आराम के पलों को अपने अंदर कैद कर लिया। अब कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर भी वायरल हो रहीं हैं।

{ यह भी पढ़ें:- फेसबुक पर सबसे लोकप्रिय सीएम बने योगी आदित्यनाथ }

इन तस्वीरों में जो मंत्री सबसे चैन की नींद लेते नजर आ रहे हैं, उनका नाम नंद कुमार नंदी है, वही नंदी जिन्होंने उपचुनावों के दौरान एक जनसभा में विपक्षी नेताओं की तुलना रामायण के नकारात्मक चरित्रों से कर डाली थी। कृषि मंत्री सूर्यप्रताप शाही और उत्तर प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष डॉ. महेन्द्र नाथ पाण्डेय पर भी उम्र हावी नजर आई। श्रम विभाग की जिम्मेदारी संभाल रहे स्वामी प्रसाद मौर्या को भी कैमरे ने कुछ ऐसी अवस्था में कैद किया।

संभव है कि सीएम योगी जिन उपलब्धियों को गिनवा रहे थे, उनकी चर्चा पहले ही इन लोगों के सामने हो चुकी होगी और पार्टी को उपचुनावों में मिली हार ने पिछली कुछ रातों से इन लोगों को सोने का समय भी नहीं दिया होगा। अब सरकार के एक साल के कार्यकाल के आयोजनों में व्यस्तता के चलते कुछ दिनों तक इन सभी की नींद हराम होनी तय है। ऐसे में आराम के जो पल इन्होंने उन्हें बिना लाग लपेट के उसका लाभ उठा लिया।

{ यह भी पढ़ें:- यूपी में सरकार से लेकर संगठन तक बदलाव की तैयारी में भाजपा }

Loading...