CAG करेगा गाजियाबाद विकास प्राधिकरण की जांच, प्रमुख सचिव आवास सदाकांत ने दिया आदेश

गाजियाबाद| प्रमुख सचिव आवास सदाकांत के आदेश के बाद अब कंट्रोलर एकाउंट जरनल (CAG) गाजियाबाद विकास प्राधिकरण के कामकाज की जांच करेगा| जैसे ही जीडीए अधिकारियों और कर्मचारियों को इस बात की जानकारी हुई उनके होश उड़ गए| दबी जबान में अधिकारियों का कहना है कि यदि कैग का ऑडिट होता है तो कई अफसर नप जाएंगे| बताया जा रहा है कि करीब 7 दिन बाद कैग की टीम जांच से जुड़ी प्रक्रिया शुरू कर देगी|




बता दें कि इससे पहले कैग की टीम जीडीए का ऑडिट करने 2 बार आ चुकी है, लेकिन उन्हें हर बार शासनादेश का हवाला देते हुए उन्हें बेरंग लौटा दिया गया| सूत्रों के मुताबिक, जीडीए प्रशासन ने राज्य सरकार की अनुमति मिलने के बाद ही जांच कराने की बात कैग टीम से कही थी| बाद में कैग ने इस बाबत शासन में मौजूद अधिकारियों से इस मामले पर बात की| जिसके बाद शासन ने फैक्स भेजकर कैग को जीडीए के ऑडिट का निर्देश दिया|

कैग से जांच का आदेश मिलने के बाद अथॉरिटी के अधिकारियों ने सभी कर्मचारियों को अपनी-अपनी फाइलें सुरक्षित रखने का निर्देश दिया गया है| इस दौरान अपर सचिव ज्ञानेंद्र वर्मा ने अलग-अलग ऑफिसों में जाकर निरीक्षण भी किया|




यहां पर आपको बता दें कि यूपी विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी गाजियाबाद में रैली को संबोधित करते हुए सरकार बनने पर गाजियाबाद विकास प्राधिकरण की जांच कैग से कराने का एलान किया था| इसके बाद सूबे में भाजपा की सरकार आने पर जीडीए की कैग जांच के आसार बढ़ गए थे|