पाक में हिंदू लड़कियों से दुष्कर्म और उनका जबरन धर्म बदलवाने के खिलाफ कनाडा में प्रदर्शन

pak
पाक में हिंदू लड़कियों से दुष्कर्म और उनका जबरन धर्म बदलवाने के खिलाफ कनाडा में प्रदर्शन

नई दिल्ली। पाकिस्तान में हिंदू लड़कियों के जबरन धर्म परिवर्तन का मुद्दा कनाडा में जोर पकड़ रहा है। कनाडा के सिसौगा सेलिब्रेशन स्कवायर पर शनिवार को सिंध के रहने वाले हिंदुओं ने प्रदर्शन किया। उन्होंने मांग की कि इमरान खान की सरकार देश में अल्पसंख्यक लड़कियों के जबरन कराए जा रहे धर्म परिवर्तन पर रोक लगाए। साथ ही उन अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई करे जो धर्म का इस्तेमाल निर्दोष लड़कियों के अपहरण और दुष्कर्म के लिए करते हैं।

Canada Protest Pakistan Forced Conversion Of Hindu Girls :

आयोजकों के अनुसार, इस विरोध प्रदर्शन का मकसद पाकिस्तान सरकार पर उन अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई करने का दबाव बनाना था जो धर्म को हथियार बनाकर मासूम बच्चियों के साथ दुष्कर्म करते हैं। प्रदर्शनकारियों ने आधिकारिक बयान जारी करके कहा, ‘जैसा कि आप जानते हैं सिंधी हिंदू बहुत पीड़ा में हैं क्योंकि आजकल पाकिस्तान में लड़कियों का जबरन धर्म परिवर्तन कराया जा रहा है।’

प्रदर्शनकारियों के हाथ में मौजूद पोस्टर में लिखा था, ‘पाकिस्तान में नाबालिग हिंदू लड़कियों का जबरन धर्मांतरण बंद हो’, ‘पाकिस्तान में धार्मिक अल्पसंख्यक उत्पीड़न बंद करो’, ‘पाकिस्तान हिंदू लड़कियों को अगवा करना बंद करो’, ‘हिंदू लड़कियों का जबरन धर्मांतरण कराना बंद करो’। उन्होंने प्रदर्शन के दौरान हमें न्याय चाहिए के नारे भी लगाए।

होली के दिन 2 हिंदू बच्चियों का अपहरण हुआ था

इससे पहले भी कनाडा में अप्रैल में हिंदू बच्चियों के अपहरण को लेकर प्रदर्शन हुआ था। इस साल होली के दिन पाकिस्तान के सिंध प्रांत में घर से दो हिंदू लड़कियों का अपहरण कर लिया गया था। बाद में जब वह मिली तो उनका धर्म परिवर्तन किया जा चुका था। भारत ने पाकिस्तान के विदेश कार्यालय को एक आधिकारिक नोट लिखकर इस घटना पर चिंता जताई थी। इमरान सरकार से अल्पसंख्यक समुदायों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कार्रवाई की मांग की थी।

सिंध में जबरन धर्म परिवर्तन आम- रिपोर्ट

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, दोनों लड़कियां अनुसूचित जाति समुदाय की थीं। उनका 21 मार्च को कोहबर और मलिक जनजाति के लोगों ने अपहरण कर लिया था। मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया था कि जबरन धर्म परिवर्तन और अपहरण सिंध के दक्षिणी इलाकों में आम हो गए हैं।

नई दिल्ली। पाकिस्तान में हिंदू लड़कियों के जबरन धर्म परिवर्तन का मुद्दा कनाडा में जोर पकड़ रहा है। कनाडा के सिसौगा सेलिब्रेशन स्कवायर पर शनिवार को सिंध के रहने वाले हिंदुओं ने प्रदर्शन किया। उन्होंने मांग की कि इमरान खान की सरकार देश में अल्पसंख्यक लड़कियों के जबरन कराए जा रहे धर्म परिवर्तन पर रोक लगाए। साथ ही उन अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई करे जो धर्म का इस्तेमाल निर्दोष लड़कियों के अपहरण और दुष्कर्म के लिए करते हैं। आयोजकों के अनुसार, इस विरोध प्रदर्शन का मकसद पाकिस्तान सरकार पर उन अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई करने का दबाव बनाना था जो धर्म को हथियार बनाकर मासूम बच्चियों के साथ दुष्कर्म करते हैं। प्रदर्शनकारियों ने आधिकारिक बयान जारी करके कहा, 'जैसा कि आप जानते हैं सिंधी हिंदू बहुत पीड़ा में हैं क्योंकि आजकल पाकिस्तान में लड़कियों का जबरन धर्म परिवर्तन कराया जा रहा है।' प्रदर्शनकारियों के हाथ में मौजूद पोस्टर में लिखा था, 'पाकिस्तान में नाबालिग हिंदू लड़कियों का जबरन धर्मांतरण बंद हो', 'पाकिस्तान में धार्मिक अल्पसंख्यक उत्पीड़न बंद करो', 'पाकिस्तान हिंदू लड़कियों को अगवा करना बंद करो', 'हिंदू लड़कियों का जबरन धर्मांतरण कराना बंद करो'। उन्होंने प्रदर्शन के दौरान हमें न्याय चाहिए के नारे भी लगाए। होली के दिन 2 हिंदू बच्चियों का अपहरण हुआ था इससे पहले भी कनाडा में अप्रैल में हिंदू बच्चियों के अपहरण को लेकर प्रदर्शन हुआ था। इस साल होली के दिन पाकिस्तान के सिंध प्रांत में घर से दो हिंदू लड़कियों का अपहरण कर लिया गया था। बाद में जब वह मिली तो उनका धर्म परिवर्तन किया जा चुका था। भारत ने पाकिस्तान के विदेश कार्यालय को एक आधिकारिक नोट लिखकर इस घटना पर चिंता जताई थी। इमरान सरकार से अल्पसंख्यक समुदायों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कार्रवाई की मांग की थी। सिंध में जबरन धर्म परिवर्तन आम- रिपोर्ट मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, दोनों लड़कियां अनुसूचित जाति समुदाय की थीं। उनका 21 मार्च को कोहबर और मलिक जनजाति के लोगों ने अपहरण कर लिया था। मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया था कि जबरन धर्म परिवर्तन और अपहरण सिंध के दक्षिणी इलाकों में आम हो गए हैं।