आईपीएल-10: रोमांचक मुकाबले में पुणे ने मुंबई को 7 विकेट से हराया

पुणे| नवनियुक्त कप्तान स्टीव स्मिथ (नाबाद 84) की बदौलत पुणे सुपरजायंट्स ने गुरुवार को महाराष्ट्र क्रिकेट संघ स्टेडियम में खेले गए आईपीएल 10वें संस्करण के दूसरे मैच में मुंबई इंडियंस को सात विकेट से हरा दिया। मुंबई से मिले 185 रनों के चुनौतीपूर्ण लक्ष्य का पीछा करते हुए पुणे ने तीन विकेट खोकर एक गेंद शेष रहते 187 रन बनाकर जीत हासिल कर ली। मैच जिताऊ आतिशी अर्धशतकीय पारी के लिए कप्तान स्मिथ को मैन ऑफ द मैच चुना गया। हालांकि पुणे की जीत में अजिंक्य रहाणे (60) का भी योगदान अहम रहा।




पुणे को आखिरी ओवर में जीत के लिए 13 रनों की दरकार थी लेकिन शुरुआती तीन गेंद में सिर्फ तीन रन बने। अब तीन गेंद में 10 रन चाहिए थे और मैच रोमांचक मोड़ ले चुका था। लेकिन स्मिथ ने यहां लगातार दो छक्के लगाते हुए अपनी टीम को शानदार अंदाज में जीत दिलाई। पुणे ने शुरुआत तो तेज की, लेकिन मयंक अग्रवाल (6) के रूप में उसे पहला झटका चौथे ओवर की पहली ही गेंद पर 35 के कुल योग पर लग गया। मिशेल मैक्लेनघन की गेंद पर रोहित शर्मा ने मयंक का कैच लपका।

पुणे को हालांकि पहले झटके से कोई फर्क नहीं पड़ा। सलामी बल्लेबाज अजिंक्य रहाणे (60) ने स्मिथ के साथ दूसरे विकेट के लिए 8.28 की औसत से 58 रनों की साझेदारी कर टीम को जीत की दिशा में बनाए रखा। रहाणे 93 के कुल स्कोर पर आउट हुए। टिम साउदी की गेंद पर सीमारेखा के पास नीतीश राणा ने उनका बेहतरीन कैच लपका। रहाणे ने 34 गेंदों में छह चौके और तीन छक्के लगाए। रहाणे के जाने के बाद स्मिथ को आईपीएल इतिहास के सबसे महंगे विदेशी खिलाड़ी इंग्लैंड के बेन स्टोक्स (21) का साथ मिला। दोनों ने तीसरे विकेट के लिए नौ से अधिक के औसत से 50 रन जोड़े।

स्टोक्स 16वें ओवर की दूसरी गेंद पर 143 के कुल योग पर पवेलियन लौटे। 14 गेंदों में तीन चौका लगा चुके स्टोक्स, हार्दिक पांड्या की गेंद पर साउदी के हाथों लपके गए। स्टोक्स के जाने के बाद पुणे के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धौनी (नाबाद 12) उतरे। धौनी ने धैर्यपूर्वक क्रीज पर समय बिताया और लगातार स्मिथ को स्ट्रोक देते रहे। दोनों ने 44 रनों की नाबाद साझेदारी करते हुए टीम को जीत दिलाई। इस बीच स्मिथ और धौनी को एक-एक बार जीवनदान भी मिला। स्मिथ जब 36 के निजी स्कोर पर थे तो मैक्लेनघन द्वारा लाए गए 13वें ओवर की आखिरी गेंद पर उनका कैच नीतीश राणा ने छोड़ा, जो मुंबई को महंगा पड़ा।

हमेशा की तरह मुंबई के लिए जसप्रीत बुमराह सबसे किफायती गेंदबाज रहे। उन्होंने चार ओवरों के अपने स्पेल में 29 रन दिया, हालांकि वह कोई विकेट हासिल नहीं कर सके। इससे पहले, मुंबई इंडियंस ने अंतिम ओवरों में केरन पोलार्ड (27) और हार्दिक पांड्या (नाबाद 35) की तूफानी पारियों की मदद से निर्धारित 20 ओवरों में आठ विकेट गंवा कर 184 रनों का चुनौतीपूर्ण स्कोर खड़ा किया। पांड्या ने अंतिम ओवर में चार छक्कों और एक चौके की मदद से कुल 30 रन बटोरे, जिसमें तीन छक्के उन्होंने पहली तीन गेंद पर ही लगाए। अशोक डिंडा का यह ओवर आईपीएल के इतिहास का सबसे महंगा अंतिम ओवर साबित हुआ।

एक समय मुंबई का इस स्कोर तक पहुंचने मुश्किल लग रहा था, लेकिन अंतिम ओवरों में पोलार्ड और पांड्या ने तूफानी गति से रन जोड़े। पुणे के लिए सबसे ज्यादा तीन विकेट दक्षिण अफ्रीका के इमरान ताहिर ने लिए। उन्होंने अपने कोटे के चार ओवरो में 28 रन ही खर्च किए। उनके अलावा रजत भाटिया ने दो विकेट लिए। बल्लेबाजी का आमंत्रण मिलने पर मैदान पर उतरी मुंबई की पार्थिव पटेल (19) और जोस बटलर (38) ने तेज शुरुआत दी और 4.2 ओवरों में 45 रन जोड़ डाले। इमरान ने पटेल को पीछे से बोल्ड कर पुणे को पहली सफलता दिलाई।




कप्तान रोहित शर्मा (3) कुछ खास नहीं कर पाए और इमरान की गुगली में फंस कर बोल्ड हो गए। एक रन बाद इमरान ने बटलर को भी पगबाधा आउट कर मुंबई को तीसरा झटका दिया। मुबंई की टीम 62 रनों पर ही अपने तीन विकेट खो चुकी थी। अंबाती रायडू (10) ने टीम को संभालने की कोशिश की, लेकिन रजत ने उन्हें अपनी ही गेंद पर कैच कर पवेलियन भेज दिया। क्रुणाल पांड्या (3) को रजत ने अपना दूसरा शिकार बनाया। लेकिन अंत में केरन पोलार्ड ने 17 गेंदों में तीन छक्के और एक चौका लगाकर मुंबई के बड़े स्कोर की उम्मीदों को जिंदा रखा। दूसरे छोर पर खड़े पांड्या ने अंतिम ओवर में खुलकर बल्लेबाजी कर उसे बड़ा स्कोर प्रदान किया।

Loading...