आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे की सर्विस लेन धंसी, गहरे गड्ढे में जा गिरी एसयूवी

agra-lucknow-express-way
आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे की सर्विस लेन धंसी, गहरे गड्ढे में जा गिरी एसयूवी

आगरा। तत्कालीन अखिलेश सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे की सर्विस लेन भारी बारिश के चलते 50 फीट धंस गयी। इसी दौरान तेज स्पीड से आ रही एक एसयूवी इस सर्विस लेन में जा गिरी। कार में सवार चार लोग बाल-बाल बच गए। हादसा आगरा के डौकी क्षेत्र में वाजिदपुर पुलिया पर हुआ।

Car Collapsed In Agra Lucknow Expressway :

बताया जा रहा है कि कार में चार लोग सवार थे और वे मुंबई से कन्नौज आ रहे थे। इस हादसे में बाल-बाल बचे लोगों ने बताया कि वे लोग कन्नौज के रहने वाले हैं। वे मुंबई में एक कार खरीदने गए थे। पुलिस ने बताया कि रचित अपने रिश्तेदारों के साथ मुंबई से सेकंड हैंड इंडीवर कार खरीद कर कन्नौज जा रहे थे। कार सवार रचित ने मीडिया को बताया कि उनके साथ परिवार के तीन और लोग थे। वे सभी मुंबई से एक एसयूवी खरीदकर ला रहे थे। उन लोगों को रास्ता नहीं पता था तो जीपीएस की मदद से वे एक्सप्रेसवे पर चल रहे थे। इसी दौरान अचानक नेटवर्क चला और और जीपीएस लॉस्ट हो गया।

बता दें कि लखनऊ-आगरा हाइवे को 22 महीने के रिकॉर्ड समय में 13200 करोड़ रुपए की लागत से तैयार किया गया था। हालांकि, पिछले दिनों इस हाइवे पर कई जगह दरारें भी आ गई हैं। स्थानीय लोगों का कहना है कि हाइवे को जल्दबाजी में तैयार किया गया था। अब कई जगह पर सड़क के नीचे की मिट्‌टी धंस रही है।

आगरा। तत्कालीन अखिलेश सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे की सर्विस लेन भारी बारिश के चलते 50 फीट धंस गयी। इसी दौरान तेज स्पीड से आ रही एक एसयूवी इस सर्विस लेन में जा गिरी। कार में सवार चार लोग बाल-बाल बच गए। हादसा आगरा के डौकी क्षेत्र में वाजिदपुर पुलिया पर हुआ।बताया जा रहा है कि कार में चार लोग सवार थे और वे मुंबई से कन्नौज आ रहे थे। इस हादसे में बाल-बाल बचे लोगों ने बताया कि वे लोग कन्नौज के रहने वाले हैं। वे मुंबई में एक कार खरीदने गए थे। पुलिस ने बताया कि रचित अपने रिश्तेदारों के साथ मुंबई से सेकंड हैंड इंडीवर कार खरीद कर कन्नौज जा रहे थे। कार सवार रचित ने मीडिया को बताया कि उनके साथ परिवार के तीन और लोग थे। वे सभी मुंबई से एक एसयूवी खरीदकर ला रहे थे। उन लोगों को रास्ता नहीं पता था तो जीपीएस की मदद से वे एक्सप्रेसवे पर चल रहे थे। इसी दौरान अचानक नेटवर्क चला और और जीपीएस लॉस्ट हो गया।बता दें कि लखनऊ-आगरा हाइवे को 22 महीने के रिकॉर्ड समय में 13200 करोड़ रुपए की लागत से तैयार किया गया था। हालांकि, पिछले दिनों इस हाइवे पर कई जगह दरारें भी आ गई हैं। स्थानीय लोगों का कहना है कि हाइवे को जल्दबाजी में तैयार किया गया था। अब कई जगह पर सड़क के नीचे की मिट्‌टी धंस रही है।