पूर्व मंत्री गायत्री के बेटे और आवास विकास के पांच इंजीनियरों पर SC-ST एक्ट में FIR

लखनऊ। गैंगरेप के आरोप में जेल में बंद पूर्व कैबिनेट मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति की मुश्किलें कम हटी नहीं दिख रही। गायत्री के बेटे अनिल प्रजापति पर एक वृद्ध महिला ने उत्पीड़न व छेड़छाड़ का मामला दर्ज कराया है। इस मामले में अनिल के साथ आवास विकास के पांच इंजीनियर भी आरोपी बनाए गए हैं। लखनऊ के गोसाईगंज थाने में अनिल प्रजापति समेत आठ लोगों पर एससी-एसटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस ने कोर्ट के आदेश के बाद रिपोर्ट दर्ज की है।

मिली जानकारी के मुताबिक, गोसाईगंज थाना क्षेत्र के हरिहरपुर की रहने वाली अनीता देवी का आरोप है कि बीते दो अप्रैल को घुसवल मुजफ्फरनगर गांव में वह अपनी जमीन पर निर्माण करवा रही थी। अनिल प्रजापति के अलावा आवास विकास परिषद के अधिशासी अभियंता सुनील चौधरी, प्रमोद कुमार, सहायक अभियंता एके वर्मा, अभिषेक तिवारी, एके विश्वकर्मा, संजय गुप्ता और करीब 8 से 10 अज्ञात लोगों ने जबरन काम रुकवाने की कोशिश की। विरोध करने पर इन लोगों ने मारपीट व छेड़छाड़ की।

{ यह भी पढ़ें:- यूपी में हादसों की रेल: डिरेल हुई पैसेंजर ट्रेन, मालगाड़ी का इंजन पटरी से उतरा }

मामले की भनक लगते ही मौके पर भारी भीड़ एकत्र हो गयी, जिसके चलते आरोपी अनिल प्रजापति अपने गुर्गों के साथ भाग निकला। आरोप है कि अनिल और आवास-विकास के इंजीनियरों ने उन्हें जातिसूचक शब्दों से संबोधित करते हुए गालियां दीं। दबंगों ने वहां से न हटने पर जेसीबी से दबाने की धमकी दी। निर्माण कार्य रोकने से इन्कार करने पर इन लोगों ने मारपीट व पथराव किया।

सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस को घटनास्थल पर दो बाइक मिलीं। पीड़िता का आरोप है, स्थानीय पुलिस और एसएसपी के यहां सुनवाई न होने पर उसने सीजेएम की कोर्ट में प्रार्थनापत्र दिया था। जहां से उसे एससी-एसटी कोर्ट भेज दिया गया। जिसके बाद एससी-एसटी कोर्ट ने एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया है।

{ यह भी पढ़ें:- योगी आदित्यनाथ समेत पांच मंत्रियो ने ली MLC पद की शपथ }