उप्र में नेताओं को परेशान करने के लिए मामले दर्ज : कांग्रेस

mp congress

नई दिल्ली: कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा उसके नेताओं के खिलाफ ढेर मुकदमे दर्ज करवाए जाने पर सरकार को आड़े हाथ लेते हुए रविवार को आरोप लगाया कि राज्य के विभिन्न जिलों में उसके नेताओं को परेशान करने के लिए ऐसा किया जा रहा है। कांग्रेस ने कहा कि उसके राज्य कांग्रेस प्रमुख अजय कुमार लल्लू और यहां तक कि प्रियंका गांधी वाड्रा के सहयोगी संदीप सिंह के खिलाफ भी मामले दर्ज किए गए हैं।

Cases Filed To Harass Leaders In Up Congress :

टकराव की राजनीति के आरोप को खारिज करते हुए, कांग्रेस नेता राजीव शुक्ला ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, “राज्य सरकार के साथ कोई टकराव नहीं है और हमारा एकमात्र उद्देश्य प्रवासियों की मदद करना था और कांग्रेस कोई राजनीति नहीं कर रही है।” कांग्रेस ने अपने नेताओं के खिलाफ मामले दर्ज करने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार की आलोचना की और कहा कि रविवार को भी प्रयागराज में उसके नेताओं के खिलाफ मामले दर्ज किए गए हैं।

कांग्रेस विधायक दल की नेता आराधना मिश्रा ने प्रवासी संकट के लिए पार्टी को दोषी ठहराने पर मायावती पर निशाना साधा। आराधना ने कहा, “कांग्रेस 1989 से राज्य की सत्ता से बाहर है, और राज्य के सभी पीएसयू और उद्योगों को मायावती ने बतौर मुख्यमंत्री अपने चार कार्यकालों के दौरान बेच दिया है।”

प्रेस कॉन्फ्रेंस में कांग्रेस नेताओं ने कहा कि वे मामलों से डरते नहीं हैं, “लेकिन ये मामले गरीबों की मदद करने पर दर्ज किए जा रहे हैं।” नोएडा में बसें लाने के लिए पंकज मलिक के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। उन्होंने कहा, “हम किसी भी मामले से डरते नहीं हैं, हम इसका मुकाबला करेंगे।”कांग्रेस ने कहा कि उसने बसों की गलत संख्या नहीं दी और इसे अदालत में साबित करेगी और आरोप लगाया कि प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को जेल में मानसिक रूप से परेशान किया गया है।

नई दिल्ली: कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा उसके नेताओं के खिलाफ ढेर मुकदमे दर्ज करवाए जाने पर सरकार को आड़े हाथ लेते हुए रविवार को आरोप लगाया कि राज्य के विभिन्न जिलों में उसके नेताओं को परेशान करने के लिए ऐसा किया जा रहा है। कांग्रेस ने कहा कि उसके राज्य कांग्रेस प्रमुख अजय कुमार लल्लू और यहां तक कि प्रियंका गांधी वाड्रा के सहयोगी संदीप सिंह के खिलाफ भी मामले दर्ज किए गए हैं। टकराव की राजनीति के आरोप को खारिज करते हुए, कांग्रेस नेता राजीव शुक्ला ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, "राज्य सरकार के साथ कोई टकराव नहीं है और हमारा एकमात्र उद्देश्य प्रवासियों की मदद करना था और कांग्रेस कोई राजनीति नहीं कर रही है।" कांग्रेस ने अपने नेताओं के खिलाफ मामले दर्ज करने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार की आलोचना की और कहा कि रविवार को भी प्रयागराज में उसके नेताओं के खिलाफ मामले दर्ज किए गए हैं। कांग्रेस विधायक दल की नेता आराधना मिश्रा ने प्रवासी संकट के लिए पार्टी को दोषी ठहराने पर मायावती पर निशाना साधा। आराधना ने कहा, "कांग्रेस 1989 से राज्य की सत्ता से बाहर है, और राज्य के सभी पीएसयू और उद्योगों को मायावती ने बतौर मुख्यमंत्री अपने चार कार्यकालों के दौरान बेच दिया है।" प्रेस कॉन्फ्रेंस में कांग्रेस नेताओं ने कहा कि वे मामलों से डरते नहीं हैं, "लेकिन ये मामले गरीबों की मदद करने पर दर्ज किए जा रहे हैं।" नोएडा में बसें लाने के लिए पंकज मलिक के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। उन्होंने कहा, "हम किसी भी मामले से डरते नहीं हैं, हम इसका मुकाबला करेंगे।"कांग्रेस ने कहा कि उसने बसों की गलत संख्या नहीं दी और इसे अदालत में साबित करेगी और आरोप लगाया कि प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को जेल में मानसिक रूप से परेशान किया गया है।