सीबीआई ने शारदा चिटफंड घोटाले में राजीव कुमार पर लगाए हैं गंभीर आरोप: सुप्रीम कोर्ट

supreme court
सीबीआई ने शारदा चिटफंड घोटाले में राजीव कुमार पर लगाए हैं गंभीर आरोप: सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को शारदा चिट फंड घोटाले को लेकर सुनवाई हुई। सीबीआई द्वारा कोर्ट में जमा की गई स्टेटस रिपोर्ट अभी सीलबंद हैं, लिहाजा कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कोई भी आदेश देने से इंकार कर दिया। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट (SC) ने सीबीआई से शारदा चिट फडं घोटाले में अपनी स्टेटस रिपोर्ट के आधार पर उचित आवेदन दायर करने के लिए भी कहा है।

Cbi Charges Rajiv Kumar In The Saradha Chitfund Scam Says Sc :

उच्चमत न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि जब तक दोनों पक्षों की दलीलों को नहीं सुन लिया जाता है, तब तक कोई फैसला नहीं दिया जा सकता है। इस दौरान कोर्ट ने इतना जरूर कहा कि सीबीआई ने जो रिपोर्ट अभी तक कोई को सौंपी है, उसमें कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के खिलाफ बहुत गंभीर बातें कही गई है। इससे पहले कोर्ट ने राजीव कुमार से कहा कि था कि दस दिनों के भीतर सीबीआई की स्टेटस रिपोर्ट पर जवाब दे।

दरअसल पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई निदेशक से पूछा था कि वह दो हफ्ते में बताएं कि कोलकाता के पुलिस कमिश्नर रहे राजीव कुमार ने सबूतों से कैसे छेड़छाड़ की थी। सर्वोच्च अदालत ने इस बाबत सीबीआई निदेशक को हलफनामा भी देने के आदेश दिए थे। इसके साथ ही अदालत ने अगली सुनवाई के लिए 26 मार्च की तारीख निर्धारित की थी।

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को शारदा चिट फंड घोटाले को लेकर सुनवाई हुई। सीबीआई द्वारा कोर्ट में जमा की गई स्टेटस रिपोर्ट अभी सीलबंद हैं, लिहाजा कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कोई भी आदेश देने से इंकार कर दिया। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट (SC) ने सीबीआई से शारदा चिट फडं घोटाले में अपनी स्टेटस रिपोर्ट के आधार पर उचित आवेदन दायर करने के लिए भी कहा है।

उच्चमत न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि जब तक दोनों पक्षों की दलीलों को नहीं सुन लिया जाता है, तब तक कोई फैसला नहीं दिया जा सकता है। इस दौरान कोर्ट ने इतना जरूर कहा कि सीबीआई ने जो रिपोर्ट अभी तक कोई को सौंपी है, उसमें कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के खिलाफ बहुत गंभीर बातें कही गई है। इससे पहले कोर्ट ने राजीव कुमार से कहा कि था कि दस दिनों के भीतर सीबीआई की स्टेटस रिपोर्ट पर जवाब दे।

दरअसल पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई निदेशक से पूछा था कि वह दो हफ्ते में बताएं कि कोलकाता के पुलिस कमिश्नर रहे राजीव कुमार ने सबूतों से कैसे छेड़छाड़ की थी। सर्वोच्च अदालत ने इस बाबत सीबीआई निदेशक को हलफनामा भी देने के आदेश दिए थे। इसके साथ ही अदालत ने अगली सुनवाई के लिए 26 मार्च की तारीख निर्धारित की थी।