शारदा चिट फंड घोटाला : चिदंबरम की पत्नी के खिलाफ CBI ने दाखिल की चार्जशीट

sardha
शारदा चिट फंड घोटाला : चिदंबरम की पत्नी के खिलाफ CBI ने दाखिल की चार्जशीट

नई दिल्ली। सीबीआई ने पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम की पत्नी नलिनी चिदंबरम के खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर दावा किया है कि चिट फंड घोटाले में घिरे शारदा ग्रुप की कंपनियों से उन्हें 1.4 करोड़ रुपये रिश्वत मिले। सीबीआई के प्रवक्ता अभिषेक दयाल ने यहां कहा कि आरोप है कि उन्होंने शारदा समूह की कंपनियों की धनराशि के गबन और फर्जीवाड़े के मकसद से शारदा ग्रुप के मालिक सुदीप्त सेन और अन्य आरोपी लोगों के साथ आपराधिक साजिश की।

Cbi Files Charge Sheet Against P Chidambaram Wife :

सीबीआई के प्रवक्ता अभिषेक दयाल ने दिल्ली में कहा कि आरोप है कि उन्होंने शारदा समूह की कंपनियों की धनराशि के गबन और फर्जीवाड़े के मकसद से शारदा ग्रुप के मालिक सुदीप्त सेन और अन्य आरोपी लोगों के साथ आपराधिक साजिश की।

दयाल ने कहा कि सीबीआई ने आरोप लगाया है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री मतंग सिंह की अलग रह रहीं पत्नी मनोरंजना सिंह ने सेन का परिचय नलिनी चिदंबरम से कराया ताकि वह सेबी, आरओसी जैसी विभिन्न एजेंसियों की जांच को प्रभावित कर सकें और इसके लिए उनकी कंपनियों के जरिए 2010-12 के दौरान उन्हें कथित तौर पर 1.4 करोड़ रुपये मिले।

उन्होंने कहा कि कोलकाता में विशेष अदालत में आरोप पत्र दाखिल किया गया है। समूह ने आकर्षक ब्याज दर का झांसा देकर लोगों से 2,500 करोड़ रुपये से ज्यादा जुटाए लेकिन लोगों के पैसे नहीं लौटाए गए। सेन ने भुगतान नहीं कर पाने के बाद 2013 में कंपनी का कामकाज बंद कर दिया था। शारदा घोटाले में यह छठा आरोप पत्र है। उच्चतम न्यायालय ने 2014 में मामले का जांच का जिम्मा सीबीआई को सौंपा था।

नई दिल्ली। सीबीआई ने पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम की पत्नी नलिनी चिदंबरम के खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर दावा किया है कि चिट फंड घोटाले में घिरे शारदा ग्रुप की कंपनियों से उन्हें 1.4 करोड़ रुपये रिश्वत मिले। सीबीआई के प्रवक्ता अभिषेक दयाल ने यहां कहा कि आरोप है कि उन्होंने शारदा समूह की कंपनियों की धनराशि के गबन और फर्जीवाड़े के मकसद से शारदा ग्रुप के मालिक सुदीप्त सेन और अन्य आरोपी लोगों के साथ आपराधिक साजिश की। सीबीआई के प्रवक्ता अभिषेक दयाल ने दिल्ली में कहा कि आरोप है कि उन्होंने शारदा समूह की कंपनियों की धनराशि के गबन और फर्जीवाड़े के मकसद से शारदा ग्रुप के मालिक सुदीप्त सेन और अन्य आरोपी लोगों के साथ आपराधिक साजिश की। दयाल ने कहा कि सीबीआई ने आरोप लगाया है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री मतंग सिंह की अलग रह रहीं पत्नी मनोरंजना सिंह ने सेन का परिचय नलिनी चिदंबरम से कराया ताकि वह सेबी, आरओसी जैसी विभिन्न एजेंसियों की जांच को प्रभावित कर सकें और इसके लिए उनकी कंपनियों के जरिए 2010-12 के दौरान उन्हें कथित तौर पर 1.4 करोड़ रुपये मिले। उन्होंने कहा कि कोलकाता में विशेष अदालत में आरोप पत्र दाखिल किया गया है। समूह ने आकर्षक ब्याज दर का झांसा देकर लोगों से 2,500 करोड़ रुपये से ज्यादा जुटाए लेकिन लोगों के पैसे नहीं लौटाए गए। सेन ने भुगतान नहीं कर पाने के बाद 2013 में कंपनी का कामकाज बंद कर दिया था। शारदा घोटाले में यह छठा आरोप पत्र है। उच्चतम न्यायालय ने 2014 में मामले का जांच का जिम्मा सीबीआई को सौंपा था।