सुप्रीम कोर्ट की वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह और आनंद ग्रोवर के घर CBI का छापा

indrani singh
सुप्रीम कोर्ट की वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह और आनंद ग्रोवर के घर CBI का छापा

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट की वरिष्ठ वकील इंदिरा जय सिंह और उनके पति आनंद ग्रोवर के ठिकानों पर सीबीआई ने छापेमारी की है। इंदिरा जयसिंह और उनके पति और सीनियर एडवोकेट आनंद ग्रोवर पर विदेश फंड जुटाने के लिए कानून का उल्लंघन करने का आरोप है, इसी मामले में यह छापेमारी की जा रही है। दिल्ली और मुंबई में इस मामले को लेकर यह छापेमारी चल रही है। इंदिरा जय सिंह और उनके पति के खिलाफ 13 जून 2019 को मुंबई में मामला दर्ज किया है।

Cbi Is Carrying Out Raids At The Residence Of Supreme Court Advocates Indira Jaising And Anand Grover :

आपको बता दें कि ‘लॉयर्स कलेक्टिव’ पर विदेशी चंदा विनियमन कानून (FCRA) को तोड़ने का आरोप है। केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने इस मामले में लॉयर्स कलेक्टिव के खिलाफ 2 FIR दर्ज की है। एजेंसी ने इंदिरा जयसिंह और आनंद ग्रोवर पर विदेशी चंदे को भारत से बाहर भेजकर उसके दुरुपयोग का आरोप लगाया है। इंदिरा जयसिंह 2009 से 2014 तक यूपीए सरकार के कार्यकाल के दौरान एडिशनल सॉलिसिटर जनरल के पद पर तैनात थीं।

आरोपों के मुताबिक, 2009 से 2014 के बीच अडिशनल सॉलिसिटर जनरल रहते हुए इंदिरा जयसिंह के एनजीओ ने विदेशी चंदे से जुड़े कानून का उल्लंघन किया था। सीबीआई ने कहा है कि उस वक्त इंदिरा जयसिंह के विदेश दौरों पर खर्च को NGO के खर्चे के रूप में दिखाया गया था। बताया जा रहा है कि इंदिरा जयसिंह के एनजीओ द्वारा इसके लिए गृह मंत्रालय से जरूरी इजाजत भी नहीं ली गई थी।

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट की वरिष्ठ वकील इंदिरा जय सिंह और उनके पति आनंद ग्रोवर के ठिकानों पर सीबीआई ने छापेमारी की है। इंदिरा जयसिंह और उनके पति और सीनियर एडवोकेट आनंद ग्रोवर पर विदेश फंड जुटाने के लिए कानून का उल्लंघन करने का आरोप है, इसी मामले में यह छापेमारी की जा रही है। दिल्ली और मुंबई में इस मामले को लेकर यह छापेमारी चल रही है। इंदिरा जय सिंह और उनके पति के खिलाफ 13 जून 2019 को मुंबई में मामला दर्ज किया है। आपको बता दें कि ‘लॉयर्स कलेक्टिव’ पर विदेशी चंदा विनियमन कानून (FCRA) को तोड़ने का आरोप है। केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने इस मामले में लॉयर्स कलेक्टिव के खिलाफ 2 FIR दर्ज की है। एजेंसी ने इंदिरा जयसिंह और आनंद ग्रोवर पर विदेशी चंदे को भारत से बाहर भेजकर उसके दुरुपयोग का आरोप लगाया है। इंदिरा जयसिंह 2009 से 2014 तक यूपीए सरकार के कार्यकाल के दौरान एडिशनल सॉलिसिटर जनरल के पद पर तैनात थीं। आरोपों के मुताबिक, 2009 से 2014 के बीच अडिशनल सॉलिसिटर जनरल रहते हुए इंदिरा जयसिंह के एनजीओ ने विदेशी चंदे से जुड़े कानून का उल्लंघन किया था। सीबीआई ने कहा है कि उस वक्त इंदिरा जयसिंह के विदेश दौरों पर खर्च को NGO के खर्चे के रूप में दिखाया गया था। बताया जा रहा है कि इंदिरा जयसिंह के एनजीओ द्वारा इसके लिए गृह मंत्रालय से जरूरी इजाजत भी नहीं ली गई थी।