ममता बनर्जी के करीबी पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार पर शिकंजा, सीबीआई ने जारी किया लुकऑउट नोटिस

rajeev kumar
ममता बनर्जी के करीबी पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार पर शिकंजा, सीबीआई ने जारी किया लुकऑउट नोटिस

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी के करीबी पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार पर शिकंजा कसता जा रहा है। सीबीआई ने राजीव कुमार के खिलाफ लुकऑउट नोटिस जारी किया है। लुकऑउट नोटिस जारी होने के बाद राजीव कुमार की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। ऐसे में वह विदेश भी नहीं जा सकते। अगर राजीव कुमार विदेश जाने की कोशिश करते हैं तो उनकी यात्रा से पहले सभी एयरपोर्ट अथॉरिटी सीबीआई को सूचना देंगी।

Cbi Issues Look Out Circular Against Rajeev Kumar :

पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार पर शारदा चिटफंड और रोजवैली चिटफंड घोटाले की जांच के दौरान सबूतों से छेड़छाड़ का आरोप है। इस मामले में सीबीआई राजीव कुमार को गिरफ्तार कर पूछताछ करना चाहती है। राजीव कुमार को 24 मई तक गिरफ्तारी से संरक्षण मिला हुआ था। गिरफ्तारी से छूट मिलने की अवधि बढ़ाए जाने के लिए राजीव कुमार सुप्रीम कोर्ट भी गए थे, जहां उन्हें झटका लगा था। बताया जा रहा है कि सीबीआई कभी भी राजीव कुमार को गिरफ्तार कर सकती है।

वहीं इसको लेकर यूपी के संभल में उनके पैतृक आवास पर पुलिस को तैनात कर दिया गया है। इसके साथ ही सुरक्षा एजेंसियां लगातार उनकी तलाश में जुटी हैं। वहीं पश्चिम बंगाल की अदालतों के वकील इस समय हड़ताल पर हैं, इसलिए राजीव कुमार कलकत्ता हाईकोर्ट का रूख नहीं कर पा रहे हैं। गौरतलब है कि शारदा चिटफंड और रोजवैली चिटफंड घोटालों की जांच के लिए 2013 में ममता सरकार ने एआईटी का गठन किया था, जिसकी अगुवाई राजीव कुमार कर रहे थे।

बाद में इस मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी गयी थी। सीबीआई का दावा है कि केस ट्रांसफर होने के बाद भी राजीव कुमार ने कई सबूतों को उन्हें नहीं सौंपा और छिपाने की कोशिश की। राजीव कुमार से कई बार सीबीआई पूछताछ भी कर चुकी है, लेकिन उन पर सहयोग न देने का आरोप लगता रहा है।

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी के करीबी पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार पर शिकंजा कसता जा रहा है। सीबीआई ने राजीव कुमार के खिलाफ लुकऑउट नोटिस जारी किया है। लुकऑउट नोटिस जारी होने के बाद राजीव कुमार की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। ऐसे में वह विदेश भी नहीं जा सकते। अगर राजीव कुमार विदेश जाने की कोशिश करते हैं तो उनकी यात्रा से पहले सभी एयरपोर्ट अथॉरिटी सीबीआई को सूचना देंगी। पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार पर शारदा चिटफंड और रोजवैली चिटफंड घोटाले की जांच के दौरान सबूतों से छेड़छाड़ का आरोप है। इस मामले में सीबीआई राजीव कुमार को गिरफ्तार कर पूछताछ करना चाहती है। राजीव कुमार को 24 मई तक गिरफ्तारी से संरक्षण मिला हुआ था। गिरफ्तारी से छूट मिलने की अवधि बढ़ाए जाने के लिए राजीव कुमार सुप्रीम कोर्ट भी गए थे, जहां उन्हें झटका लगा था। बताया जा रहा है कि सीबीआई कभी भी राजीव कुमार को गिरफ्तार कर सकती है। वहीं इसको लेकर यूपी के संभल में उनके पैतृक आवास पर पुलिस को तैनात कर दिया गया है। इसके साथ ही सुरक्षा एजेंसियां लगातार उनकी तलाश में जुटी हैं। वहीं पश्चिम बंगाल की अदालतों के वकील इस समय हड़ताल पर हैं, इसलिए राजीव कुमार कलकत्ता हाईकोर्ट का रूख नहीं कर पा रहे हैं। गौरतलब है कि शारदा चिटफंड और रोजवैली चिटफंड घोटालों की जांच के लिए 2013 में ममता सरकार ने एआईटी का गठन किया था, जिसकी अगुवाई राजीव कुमार कर रहे थे। बाद में इस मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी गयी थी। सीबीआई का दावा है कि केस ट्रांसफर होने के बाद भी राजीव कुमार ने कई सबूतों को उन्हें नहीं सौंपा और छिपाने की कोशिश की। राजीव कुमार से कई बार सीबीआई पूछताछ भी कर चुकी है, लेकिन उन पर सहयोग न देने का आरोप लगता रहा है।