27 अगस्त की रैली फेल करने के लिए भेजे गए सीबीआई के 27 अधिकारी: लालू

पटना। अपने परिवार के सदस्यों के खिलाफ हुई सीबीआई की छापेमारी पर तिलमिलाए आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने शुक्रवार की शाम पटना पहुंचने पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा ​कि 27 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के विरोध में होने वाली रैली को फेल करने की नियत से इस कार्रवाई को अंजाम दिया गया। इसीलिए उनके यहां सीबीआई के 27 अधिकारियों को भेजा गया है। उनके यहाँ हुई छापेमारी के पीछे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का हाथ हैं।

चारा घोटाले में रांची हाईकोर्ट में पेशी के बाद पटना लौटते ही लालू प्रसाद यादव ने एक प्रेस कांफ्रेन्स को आयोजित किया। पार्टी कार्यकर्ताओं की भीड़ के चलते प्रेस कांफ्रेंस में पड़े व्यवधान के चलते वह बीच कांफ्रेंस ही उठ गए। इस कार्यक्रम के दो घंटे बाद लालू ने अपने आवास पर जमा हुए कार्यकर्ताओं से बातचीत करते हुए सभी को 27 अगस्त की रैली के लिए जोरशोर से तैयारियां करने को कहा। इस दौरान लालू प्रसाद यादव के साथ उनके दोनों बेटे तेज प्रताप और तेजस्वी उनके साथ खड़े नजर आए।

पार्टी कार्यकर्ताओं से बातचीत के दौरान लालू पूरे तेवर में नजर आए। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को इसका हिसाब देना होगा। अगर सीबीआई ने 10 घंटों तक उनके आवास पर छापेमारी की तो उसे बताना होगा कि उसे छापेमारी के दौरान उनके आवास से क्या बरामद हुआ?

उन्होंने पार्टी के कार्यकर्ताओं में जोश भरते हुए कहा कि बिलकुल भी घबराने की जरूरत नहीं है। उन पर जो आरोप लग रहे हैं वह बीजेपी की सजिश है। सबका जवाब 27 अगस्त को होने वाली रैली ​से​ दिया जाएगा। वहीं से नरेन्द्र मोदी को उखाड़ फेंकने की शुरुआत होगी।