सीबीआई ने मांगी कुलदीप सिंह सेंगर की कस्टडी रिमांड, जांच के लिए मिला 15 दिन का समय

kuldeep singh
सीबीआई ने मांगी कुलदीप सिंह सेंगर की कस्टडी रिमांड, जांच के लिए मिला 15 दिन का समय

लखनऊ। उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता एक्सीडेंट मामले में सीबीआई को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत मिली है। सीबीआई की मांग पर सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें जांच के लिए 15 दिन का समय दे दिया है। इसी के साथ उन्होंने हादसे से जुड़े मामले की सुनवाई लखनऊ की सीबीआई कोर्ट को सौंप दी है। सुनवाई के दौरान सीबीआई ने पूछताछ के लिए कुलदीप सेंगर की कस्टडी की भी मांग की है।

Cbi Seeks Kuldeep Singh Sengars Custody Remand :

जानकारी के मुताबिक, विधायक कुलदीप सिंह सेंगर, अतुल सिंह, वीरेंद्र सिंह और शैलेंद्र सिंह को ​को हिरासत में लेने की अर्जी सीबीआई ने दी है। इसी के साथ सीबीआई ने पीड़िता के चाचा से भी पूछताछ के लिए भी सुप्रीम कोर्ट से इजाजत मांगी है। गौरतलब है कि, पीड़िता के चाचा को रायबरेली जेल से तिहाड़ जेल में शिफ्ट करने का आदेश सुप्रीम कोर्ट ने दिया है।

इसी के साथ कोर्ट ने ये भी कहा है कि पीड़िता का इलाज लखनऊ में ही किया जाएगा और उसे दिल्ली शिफ्ट नहीं किया जाएगा। कोर्ट में पीड़िता की तरफ से पेश हुए वकील बी राजेशखरन ने चाचा की सुरक्षा का हवाला देते हुए उन्हें तिहाड़ जेल में शिफ्ट करने का आग्रह किया था।

लखनऊ। उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता एक्सीडेंट मामले में सीबीआई को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत मिली है। सीबीआई की मांग पर सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें जांच के लिए 15 दिन का समय दे दिया है। इसी के साथ उन्होंने हादसे से जुड़े मामले की सुनवाई लखनऊ की सीबीआई कोर्ट को सौंप दी है। सुनवाई के दौरान सीबीआई ने पूछताछ के लिए कुलदीप सेंगर की कस्टडी की भी मांग की है। जानकारी के मुताबिक, विधायक कुलदीप सिंह सेंगर, अतुल सिंह, वीरेंद्र सिंह और शैलेंद्र सिंह को ​को हिरासत में लेने की अर्जी सीबीआई ने दी है। इसी के साथ सीबीआई ने पीड़िता के चाचा से भी पूछताछ के लिए भी सुप्रीम कोर्ट से इजाजत मांगी है। गौरतलब है कि, पीड़िता के चाचा को रायबरेली जेल से तिहाड़ जेल में शिफ्ट करने का आदेश सुप्रीम कोर्ट ने दिया है। इसी के साथ कोर्ट ने ये भी कहा है कि पीड़िता का इलाज लखनऊ में ही किया जाएगा और उसे दिल्ली शिफ्ट नहीं किया जाएगा। कोर्ट में पीड़िता की तरफ से पेश हुए वकील बी राजेशखरन ने चाचा की सुरक्षा का हवाला देते हुए उन्हें तिहाड़ जेल में शिफ्ट करने का आग्रह किया था।