राजद प्रमुख लालू-तेजस्वी को CBI का नोटिस, रेलवे टेंडर घोटाले में होगी पूछताछ

नई दिल्ली। राष्ट्रीय जनता दल (राजद) प्रमुख लालू प्रसाद यादव और उनके परिवार की मुश्किलें कम होती नजर नहीं आ रही। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने रेलवे में भ्रष्टाचार मामले में राजद प्रमुख लालू यादव और उनके बेटे तेजस्वी यादव को समन भेजा है। लालू यादव को पूछताछ के लिए 11 सितंबर और तेजस्वी को 12 सितंबर को नई दिल्ली स्थित मुख्यालय में पेश होने को कहा गया है।

ये है मामला-

{ यह भी पढ़ें:- एक मिस कॉल से शुरू हुई लव स्टोरी, सामने देख छात्रा के उड़े होश }

सीबीआई ने रेलवे के होटलों को लीज पर दिए जाने के बदले करोड़ों की बेनामी संपत्ति अर्जित करने के मामले में लालू यादव, उनकी पत्नी राबड़ी देवी और बेटे तेजस्वी यादव के खिलाफ भ्रष्टाचार का मामला दर्ज किया था। यह कथित धोखाधड़ी 2004 से 2009 के दौरान की गई, जब लालू यादव रेल मंत्री थे। साल 2006 में रेल मंत्री रहते हुए लालू ने इंडियन रेलवे केटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (आईआरसीटीसी) के जरिए सुजाता होटल्स को अवैध तरीके से लाभ पहुंचाया था।

सीबीआई का कहना है कि निजी कंपनी को अवैध तरीके से लाभ पहुंचाया गया। रांची और पुरी में होटलों के विकास, रखरखाव और संचालन के लिए बोली प्रक्रिया में कथित धोखाधड़ी की गई, जिसके एवज में लालू को पटना में तीन एकड़ का प्लॉट रिश्वत के तौर पर दिया गया। मौजूदा समय में इस जमीन पर मॉल का निर्माण हो चुका है।

{ यह भी पढ़ें:- यूपीपीएससी के आधार पर हुई भर्तियों की जांच करेगी सीबीआई }

सीबीआई ने पांच जुलाई को भारतीय दंड संहिता की धारा 420, 120बी और भ्रष्टाचार निवारक अधिनियम की धारा 13 और 131 बी के तहत मामला दर्ज किया था।

आरोपों से गिरे लालू-

जहां एक ओर लालू यादव आज चारा घोटाला मामले में रांची की सीबीआइ की अदालत में पेश हुए हैं तो वहीं अब सीबीआइ ने नोटिस भेजा है। इसपर लालू यादव ने कहा है कि मुझे कई सालों से परेशान किया जा रहा है और मैं इस तरह की नोटिस से अब नहीं डरता। अब मुझे इसकी आदत हो गई है।

{ यह भी पढ़ें:- सीबीआई डायरेक्टर राकेश अस्थाना के खिलाफ प्रशांत भूषण की याचिका खारिज }

Loading...