उन्नाव रेप केस में आरोपी भाजपा विधायक को सीबीआई ने किया गिरफ्तार

BJP MLA, Kuldeep Singh Sengar
उन्नाव रेप केस में आरोपी भाजपा विधायक को सीबीआई ने किया गिरफ्तार

लखनऊ । उत्तर प्रदेश की योगी सरकार की आलोचना का कारण बने उन्नाव के नाबालिग गैंगरेप और पीड़िता के पिता की मौत के मामले में शुक्रवार को नया मोड़ आया है। गुरुवार को यूपी पुलिस की ओर से विधायक के खिलाफ पास्को एक्ट के तहत एफआईआर दर्ज की गई, और मामले को सीबीआई को ट्रांसफर कर दिया गया। जिसके बाद गुरुवार की देर रात ही सीबीआई ने सक्रियता दिखाते हुए विधायक को हिरासत में ले लिया।

मिली जानकारी के मुताबिक सीबीआई की टीम ने देर रात अंजाम दी इस कार्रवाई में चार जगहों पर छापेमारी कर उन्नाव जिले की बांगरमऊ सीट से विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को हिरासत में लिया है। बताया जा रहा है कि सीबीआई शुक्रवार को कुलदीप​ सिंह सेंगर को लखनऊ की जिला अदालत में पेश कर ​उन्हें रिमांड पर लेगी।

{ यह भी पढ़ें:- यूपी में आज से पॉलिथिन बैन, पकड़े जाने पर होगी ये कार्रवाई }

आपको बता दें कि करीब नौ महीने पुराने इस मामले में योगी सरकार की ओर से मंगलवार को एसआईटी गठित कर जांच करवाई गई। एसआईटी की ओर से घटना का केन्द्र रहे विधायक के पैतृक गांव माखी का दौरा करने के बाद मुख्यमंत्री को सौंपी गई प्राथमिक रिपोर्ट में विधायक पर लगे आरोपों को आधारहीन बताया गया। लेकिन पीड़िता के परिवार की ओर से पुलिस की जांच पर संदेह जाहिर करते हुए सीबीआई जांच की मांग किए जाने के बाद पहले से सवालों के घेरे में घिरी यूपी पुलिस के डीजीपी ने मामले को सीबीआई के हाथों ट्रांसफर करने का फैसला किया।

आपको बता दें कि जून 2017 की इस घटना को लेकर भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर, उनके भाई अतुल सेंगर और उनके साथ रहने वाले लोगों पर गैंगरेप के आरोप लगे थे।विधायक का नाम होने के कारण उन्नाव पुलिस लगातार कार्रवाई करने से बचता रहा। अंत में 12 फरवरी 2018 को पीड़ित परिवार ने अदालत के माध्यम से इस मामले में 156/3 के तहत एफआईआर दर्ज करवाई। जिसमें विधायक को छोड़कर अन्य लोगों को आरोपी बनाया गया था। एफआईआर दर्ज होने के बाद भी उन्नाव पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की।

{ यह भी पढ़ें:- स्कूल में बांटे गये समाजवादी सरकार के बैग, छपा दिखा अखिलेश का फोटो }

पीड़ित परिवार के मुताबिक बीते रविवार विधायक के भाई ने अपने गुर्गों के साथ मिलकर पीड़िता के पिता की पिटाई की और मामले को वापस लेने का दवाब बनाया। जिसके बाद पीरिवार ने मुख्यमंत्री आवास के सामने सामूहिक आत्मदाह का प्रयास किया। जहां से पीड़िता के पिता को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। हिरासत के दौरान पीड़िता के पिता ने दम तोड़ दिया। जिसके बाद से इस मामले में मीडिया की सक्रियता के चलते पुलिसिया कार्रवाई तेज हुई। मंगलवार को पुलिस ने हत्या और गैंगरेप के मामले में विधायक के छोटे भाई को उसके चार गुर्गों के साथ हिरासत में ले लिया था।

लखनऊ । उत्तर प्रदेश की योगी सरकार की आलोचना का कारण बने उन्नाव के नाबालिग गैंगरेप और पीड़िता के पिता की मौत के मामले में शुक्रवार को नया मोड़ आया है। गुरुवार को यूपी पुलिस की ओर से विधायक के खिलाफ पास्को एक्ट के तहत एफआईआर दर्ज की गई, और मामले को सीबीआई को ट्रांसफर कर दिया गया। जिसके बाद गुरुवार की देर रात ही सीबीआई ने सक्रियता दिखाते हुए विधायक को हिरासत में ले लिया। मिली जानकारी के मुताबिक…
Loading...