बुलंदशहर गैंगरेप केस में आजम खां को नोटिस भेजेगी सीबीआई

लखनऊ। 29 जुलाई को बुलंदशहर में हाईवे 91 पर हुए गैंगरेप कांड की सुनवाई कर रही सुप्रीम कोर्ट की अदालत ने मंगलवार को सीबीआई को निर्देश दिया है कि यूपी सरकार के कैबिनेट मंत्री आजम खां को नोटिस दिया जाए। आजम ने इस घटना को राज्य सरकार के खिलाफ साजिश करार दिया था। यह बयान उन्होंने निजी स्तर पर​ दिया गया था, जिसके खिलाफ पीड़ित परिवार की अपील पर अदालत ने उन्हें नोटिस ​दिया था। इसके बावजूद आजम खां की ओर से उनका कोई वकील सुनवाई के दौरान अदालत में पेश नहीं हुआ।




सुप्रीम कोर्ट के जज दीपक मिश्रा और जज यूयू ललित की खंडपीठ के सामने सरकारी वकील ने आजम खां की गैरमौजूदगी पर सवाल उठाते हुए कहा कि आजम खां ने वह बयान निजी राय के रूप में दिया था। उन्हें चाहिए था कि वे अपने वकील को अपना पक्ष रखने के लिए अदालत में भेजते लेकिन ऐसा नहीं हुआ। जिसके बाद अदालत ने सीबीआई को निर्देश दिया कि मामले की अगली सुनवाई के लिए सीबीआई आजम खां को नो​टिस करे।

आपको बता दें कि इस मामले की अगली सुनवाई 25 अक्टूबर को होनी है। अगर 25 अक्टूबर को भी आजम खां अदालत के सामने पेश नहीं होते तो उनकी मुसीबत बढ़ सकती है। आजम खां को पीड़ित परिवार की याचिका पर एक पक्ष बनाया गया है।