सीडी कांड: पत्रकार विनोद वर्मा को सीबीआई ने दी जमानत, जेल से छूटते ही ये बोलें वर्मा

नई दिल्ली। छत्तीसगढ़ सेक्स सीडी कांड में आरोपी बनाए गए पत्रकार विनोद वर्मा को आखिरकर सीबीआई अदालत ने जमानत दे दी. दरअसल, निर्धारित 60 दिनों के भीतर सीबीआई अदालत में चालान पेश नहीं कर पाई। पत्रकार विनोद वर्मा के वकील फैजल रिजवी ने बताया कि सीबीआई अदालत ने इसी आधार पर विनोद वर्मा की जमानत स्वीकृत की है।

सेक्स सीडी कांड को लेकर पत्रकार विनोद वर्मा पांच दिनों तक पुलिस हिरासत में रहे। इसके बाद लगतार उनकी न्यायिक रिमांड बढ़ती चली गई। सीबीआई ने भी 12 दिनों की न्यायिक रिमांड के दौरान कई बार उनसे लंबी पूछताछ कर चुकी है। इसके बावजूद इसके निर्धारित समय सीमा के भीतर सीबीआई अदलात में चालान पेश नहीं कर पाई।

{ यह भी पढ़ें:- 'चम्मच चोर' निकले ममता बनर्जी के साथ विदेश गए पत्रकार }

ये है पूरा मामला
गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ के मंत्री राजेश मूणत की कथित सीडी मामले में विनोद वर्मा को गाजियाबाद से 27 अक्टूबर को गिरफ्तार किया गया था। कांग्रेस नेता भूपेश बघेल और विनोद वर्मा पर फर्जी सीडी बनाकर फिरौती मांगने और ब्लैकमेल करने का आरोप है। इस मामले में छत्तीसगढ़ के पीडब्ल्यूडी मंत्री राजेश मूणत ने इन दोनों के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। उनकी शिकायत के आधार पर एफआइआर दर्ज करते हुए राज्य पुलिस ने गाजियाबाद स्थित घर विनोद वर्मा को गिरफ्तार कर लिया था।

राज्य में पत्रकारिता मुश्किल
विनोद वर्मा ने कहा कि मेरे पास छत्तीसगढ़ के अंतागढ़ टेप समेत कई साक्ष्य हैं। यहां पत्रकारिता करना बहुत ही मुश्किल है। मैंने सीबीआई को बहुत सारे मामले बताए हैं। मेरे तीन नंबर और एक घर का नंबर है। मैने सारे दे दिए। 60 दिनों में ये नहीं बता पाए कि मैंने फोन कर किसे और क्यों ब्लैकमेल किया है। इधर कांग्रेस पार्टी के नेता भूपेश बघेल ने कहा कि सरकार इन्हें फंसा रही है।

{ यह भी पढ़ें:- चारा घोटाले में लालू यादव को साढ़े तीन साल की सजा }

Loading...