1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. CDS Bipin Rawat Helicopter Crash: देवभूमि उत्तरखंड के हैं CDS बिपिन रावत, उनका हाल जानने के लिए बेचैन हैं लोग

CDS Bipin Rawat Helicopter Crash: देवभूमि उत्तरखंड के हैं CDS बिपिन रावत, उनका हाल जानने के लिए बेचैन हैं लोग

CDS Bipin Rawat Helicopter Crash: तमिलनाडु के नीलगिरी में सीडीएस बिपिन रावत (CDS Bipin Rawat) का हेलीकॉप्टर क्रैश हो गया है। इस हेलीकाप्टर में ​बिपिन रावत (CDS Bipin Rawat), उनकी पत्नी समेत 14 लोग सवार थे। इस हादसे में अभी 11 लोगों के मृत की पुष्टि हो गयी है। वहीं, दो की हालत बेहद ही गंभीर बताई जा रही है। इस हादसे के बाद उत्तराखंड (Uttarakhand) में भी हड़कंप मच गया है।

By शिव मौर्या 
Updated Date

CDS Bipin Rawat Helicopter Crash: तमिलनाडु के नीलगिरी में सीडीएस बिपिन रावत (CDS Bipin Rawat) का हेलीकॉप्टर क्रैश हो गया है। इस हेलीकाप्टर में ​बिपिन रावत (CDS Bipin Rawat), उनकी पत्नी समेत 14 लोग सवार थे। इस हादसे में अभी 11 लोगों के मृत की पुष्टि हो गयी है। वहीं, दो की हालत बेहद ही गंभीर बताई जा रही है। इस हादसे के बाद उत्तराखंड (Uttarakhand) में भी हड़कंप मच गया है।

पढ़ें :- BBC Documentary Controversy: दिल्ली से लेकर मुंबई तक बीबीसी डॉक्यूमेंट्री पर हंगामा

दरअसल, जनरल बिपिन रावत (CDS Bipin Rawat) के उत्तराखंड (Uttarakhand) से ही ताल्लुक राखते हैं। ऐसे में वहां के लो देवभूमि के बेटे के बारे में जानने के लिए बेचैन हैं। साथ ही घायलों के जल्द ही स्वस्थ्य होने की पुष्टि कर रहे हैं। गौरतलब है कि, सीडीएस बिपिन रावत (CDS Bipin Rawat) उत्तराखंड (Uttarakhand) से ताल्लुक रखते हैं। बिपिन रावत पौड़ी जिले के द्वारीखाल ब्लाक के सैंण गांव के मूल निवासी हैं।

साथ ही उनकी पत्नी उत्तरकाशी की रहने वाली हैं। बता दें कि, बिपिन रावत ( Bipin Rawat) थलसेना के प्रमुख रहे हैं। रिटायरमेंट से एक दिन पहले बिपिन रावत को देश का पहला चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) बनाया गया। बता दें कि, बिपिन रावत के पिता लक्ष्मण सिंह रावत भी सेना में लेफ्टिनेंट जनरल के पद से सेवानिवृत्त हुए हैं।

आतंकवाद विरोधी गतिविधियों की खासा जानकारी
बताया जा रहा है। कि बिपि​न रावत को आंतकवाद विरोधी गतिविधियों के बारे में खासा जानकारी हैं। ऊंचाई वाले स्थान पर युद्ध को लेकर भी बिपिन रावत को महारत हासिल है। उन्होंने पूर्वी सैक्टर में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर इंफेंट्री बटालियन की कमान संभाली है। उन्होंने कश्मीर घाटी में राष्ट्रीय राइफल्स और एक इंफेंट्री डिविजन की कमान संभाली है। जनरल रावत ने सेना मुख्यालय की सेना सचिव शाखा में भी महत्वपूर्ण पदों पर काम किया है।

पढ़ें :- Hindenburg Research Report से शेयर बाजार में मचा तहलका, अडानी ग्रुप में जानें कितना लगा है सरकारी पैसा, सकते में LIC और बड़े बैंक
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...