केरल में राजनीतिक हिंसा पर केंद्र सख्त, गृह मंत्री ने मुख्यमंत्री से बात की

नई दिल्ली: गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने रविवार को केरल में राजनीतिक कार्यकर्ताओं पर हमलों को लेकर चिंता जताई. उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में राजनीतिक हिंसा अस्वीकार्य है. उनका यह बयान राज्य में संघ के एक कार्यकर्ता पर हुए जानलेवा हमले के मद्देनजर आया है. केरल के मुख्यमंत्री पिनारायी विजयन के साथ टेलीफोन पर बातचीत में सिंह ने उनसे राज्य में राजनीतिक हिंसा की हालिया घटनाओं पर चर्चा की. उन्होंने ट्वीट किया, मैंने केरल में कानून व्यवस्था की स्थिति पर अपनी चिंता व्यक्त कर दी है. लोकतंत्र में राजनीतिक हिंसा अस्वीकार्य है. कल रात ही तिरुवनंतपुरम के पास एक हिस्ट्री-शीटर की अगुवाई में एक गिरोह ने एक संघ कार्यकर्ता की हत्या कर दी.

हमलावरों को जल्द न्याय के कठघरे में लाया जाएगा
गृह मंत्री ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि केरल में राजनीतिक हिंसा रुकेगी और हमलावरों को जल्द न्याय के कठघरे में लाया जाएगा. पुलिस ने बताया कि हमले में 34 साल के राजेश के बांये हाथ को काट दिया गया. घटना कल रात करीब नौ बजे की है. पुलिस के मुताबिक जांच शुरू हो गई है और हमलावरों की तलाश जारी है.

माकपा के हाथ का आरोप
भाजपा की केरल इकाई के अध्यक्ष कुमानम राजशेखरन ने आरोप लगाया कि हमले के पीछे माकपा का हाथ है. माकपा के जिला नेतृत्व ने आरोप को खारिज कर दिया है. भाजपा ने आज राज्यव्यापी हड़ताल का आह्वान किया है.