सरकार ने बंद किए 827 पॉर्न साइट्स, इन देशों में है ज्‍यादा लोकप्रिय

सरकार ने बंद किए 827 पॉर्न साइट्स, इन देशों में है ज्‍यादा लोकप्रिय
सरकार ने बंद किए 827 पॉर्न साइट्स, इन देशों में है ज्‍यादा लोकप्रिय

Central Government Banned 827 Porn Sites In India

नई दिल्ली। भारत सरकार की तरफ से 827 पॉर्न वेबसाइट्स बैन करने का फैसला इनके यूजर्स और नेट न्यूट्रैलिटी के पैरोकारों को रास नहीं आ रहा है। दूरसंचार विभाग ने देश में इंटरनेट सेवा उपलब्ध करवाने वाले तमाम सर्विस प्रोवाइडर्स के आदेश के बाद कंपनियों ने यह कदम उठाया है। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि किन देशों में यह साइट सर्वाधिक देखी जाती है। इसके साथ यह भी जानेंगे कि देश में इसके लिए क्‍या कानून है।

मोबाइल इंटरनेट प्रोवाइडर जियो ने भी अपने नेटवर्क पर इन वेबसाइट्स को बैन कर दिया है। इस कदम के बाद जियो के साथ-साथ एयरटेल और वोडाफोन के भी कस्टमर केयर पर लोगों की लगातार कॉल आ रही हैं। लोगों ने ट्विटर पर हैशटैग #pornban का सहारा लेकर अपनी बात रखी है। यूजर्स का कहना है कि भारत में उठाया गया कदम नेट न्यूट्रैलिटी के खिलाफ जाता है जो किसी भी कंटेंट प्रोवाइडर को किसी तरह के भेदभाव से बचाता है।

पॉर्न वेबसाइट सर्च में अरब देश आगे

2015 में गूगल ने सबसे ज्यादा पॉर्न खोजने वाले मुल्‍कों की सूची जारी की थी। इन देशों में पाकिस्तान अग्रणी था। गूगल की इस खाेज में इंटरनेट पर पॉर्न सर्च करने वाले देशों में टॉप आठ में से छह मुस्लिम देश हैं। इनमें से पॉर्न सर्च के मामले में दूसरे नंबर पर मिस्र है। ईरान, मोरक्को, सऊदी अरब और टर्की क्रमश: चौथे, पांचवे, सातवें और आठवें नंबर पर हैं। लेबनान और टर्की को छोड़ दें तो कई अरब देशों में अपने यहां पॉर्न साइट पर प्रतिबंध लगा रखा है।

देश में पॉर्न पर क्या है क़ानून

सवाल यह है कि भारत में पोर्न को नियंत्रित करने के लिए कोई ख़ास उपबंध या कानून है। फ़िलहाल भारत में पोर्न को नियंत्रित करने के लिए कोई खास उपबंध या नियम नहीं है। हालांकि, देश में कुछ कानून हैं जिसके तहत पाेर्नोग्राफी पर भी नियंत्रण लगाया जा सकता है। दरअसल, सूचना प्रोद्योगिकी क़ानून के तहत किसी भी तरह की अश्लील सामग्री को प्रकाशित-ट्रांसमीशन को प्रकाशित करना या ऐसा करने में सहायता करना ग़ैरक़ानूनी है। इसके तहत दोषी को पांच साल की सज़ा और तीन लाख रुपए का ज़ुर्माना है।

नई दिल्ली। भारत सरकार की तरफ से 827 पॉर्न वेबसाइट्स बैन करने का फैसला इनके यूजर्स और नेट न्यूट्रैलिटी के पैरोकारों को रास नहीं आ रहा है। दूरसंचार विभाग ने देश में इंटरनेट सेवा उपलब्ध करवाने वाले तमाम सर्विस प्रोवाइडर्स के आदेश के बाद कंपनियों ने यह कदम उठाया है। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि किन देशों में यह साइट सर्वाधिक देखी जाती है। इसके साथ यह भी जानेंगे कि देश में इसके लिए क्‍या कानून है। मोबाइल इंटरनेट…