महबूबा की मांग पर झुकी मोदी सरकार, रमजान में नहीं चलेगा आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन

महबूबा की मांग पर झुकी मोदी सरकार, रमजान में नहीं चलेगा आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन
महबूबा की मांग पर झुकी मोदी सरकार, रमजान में नहीं चलेगा आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन
नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्की की बड़ी मांग को केंद्र सरकार ने मान लिया है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सुरक्षाबलों से जम्मू-कश्मीर में रमजान के महीने में कोई ऑपरेशन लॉन्च न करने के लिए कहा है। रमजान के दौरान सुरक्षाबलों को कोई ऑरेशन ना लॉन्च करने के निर्देश दिए गए हैं। केंद्र सरकार की ओर से तकनीकि रूप से सीज़फायर का नाम नहीं दिया गया है। गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने फैसले की जानकारी मुख्यमंत्री महबूबा मुफती को…

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्की की बड़ी मांग को केंद्र सरकार ने मान लिया है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सुरक्षाबलों से जम्मू-कश्मीर में रमजान के महीने में कोई ऑपरेशन लॉन्च न करने के लिए कहा है। रमजान के दौरान सुरक्षाबलों को कोई ऑरेशन ना लॉन्च करने के निर्देश दिए गए हैं। केंद्र सरकार की ओर से तकनीकि रूप से सीज़फायर का नाम नहीं दिया गया है। गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने फैसले की जानकारी मुख्यमंत्री महबूबा मुफती को दे दी है। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि यदि इस दौरान आतंकियों ने कोई हमला किया तो उसका माकूल जवाब दिया जाएगा। बता दें कि कश्मीर के शोपिंया, अनंतनाग, दक्षिण कश्मीर में पिछले महीने में 13 आतंकवादी मारे गए है। इस दौरान A+ कैटगरी के आतंकियों को भी मारा गया है। जम्मू-कश्मीर की सीएम महबूबा मुफ्ती ने रमजान के दौरान ऑपरेशन न चलाने के लिए केंद्र से अनुरोध किया था।

महबूबा मुफ्ती ने क्या अपील की थी

मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने सभी दलों की बैठक बुलाकर केंद्र से घाटी में रमजान और अमरनाथ यात्रा के लिए एकतरफा सीजफायर की मांग की थी। इस बैठक के बाद सीएम महबूबा मुफ्ती ने कहा, ”हम सभी को भारत सरकार से अपील करनी चाहिए कि रमजान के मुबारक मौके पर और अमरनाथ यात्रा की शुरुआत पर जैसे साल 2000 वाजपेयी जी ने सीजफायर किया था उसी तरह का कोई कदम उठाए। इससे आम लोगों को थोड़ी रिलीफ मिले। इस वक्त जो एमकाउंटर हो रहे हैं, सर्च ऑपरेशन हो रहे हैं, उसमें आम लोगों को बहुत तकलीफ हो रही है। हमें ऐसे कम उठाने चाहिए जिससे लोगों का विश्वास बहाल हो।”

{ यह भी पढ़ें:- Ramzan 2018: सहरी, इफ्तार और तरावीह का समय बताएगा रमजान का ये मोबाइल ऐप }

पिछले एक महीने सेना ने कई आतंकवादियों को मार गिराया है। भारतीय सुरक्षाबलों ने दक्षिण कश्मीर में आतंकियों की कमर तोड़ दी है। ऐसे में रमजान के लिए किया गया केंद्र का यह फैसला कहीं ना कहीं आतंकियों के खिलाफ सेना और सुरक्षाबलों द्वारा की गई कार्रवाई में एक तरह से बाधा का काम करेगा। जानकार इस फैसले को सेना का हौंसला गिराने वाला करार दे रहे है।

आपको बता दें कि बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव और जम्मू-कश्मीर बीजेपी प्रभारी राम माधव ने रमजान के महीने में युद्धविराम के मुद्दे पर अपना पक्ष रखते हुए कहा था कि रमजान के महीने में आतंकवादी खुद ही आतंक क्यों नहीं बंद कर देते। राम माधव ने इस दौरान स्पष्ट कहा, “आतंकवादियों पर कोई रहम नहीं। जब तक आतंकवादी आतंक फैलाएंगे। सुरक्षा बल अपना कर्तव्य निभाते रहेंगे।”

{ यह भी पढ़ें:- कश्मीर में पत्थरबाजों ने ली युवक की जान, उमर अब्दुल्ला ने कहा हमने पर्यटक को मार डाला }

Loading...