इंदिरा आवास योजना का बदला नाम, जानिए अब किस नाम से जानी जाएगी यह योजना

नई दिल्ली। केंद्र में सत्तारूढ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार ने बुधवार को एक अहम फैसला लेते हुए पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी द्वारा चलाई जा रही इंदिरा गाँधी आवास योजना का नाम बदलने का निर्णय लिया। अब यह योजना इंदिरा आवास योजना के नाम न जानकार प्रधानमंत्री आवास योजना के नाम से जानी जाएगी। इस नए नाम को अगले माह से लागू कर दिया जाएगा।

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने इस योजना की शुरुआत वर्ष 1985 में की थी। इस योजना के तहत लाखों बेघर ग्रामीणों को आवास मिल रहे थे। फिलहाल आगे भी बेघरों को इस योजना के तहत आवास मुहैया कराये जाएंगे। क्योंकि योजना नहीं बदली है सिर्फ नाम बदला है।

गौरतलब है कि केंद्र सरकार का प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत वर्ष 2019 तक एक करोड़ घर बनाने का लक्ष्य है। केन्द्र सरकार द्वारा इस काम को समय सीमा के अन्दर पूरा करना है। इसलिए सरकार ने मौजूदा वित्त वर्ष (2015-16) के आखिरी तक 38 लाख मकान बनाने का लक्ष्य रखा था जिसमें से दस लाख मकान बनकर तैयार हो गए हैं।